पॉपकॉर्न बेचने के लिए दुकानदार ने लगाया ऐसा जुगाड़

पॉपकॉर्न बेचने के लिए दुकानदार ने लगाया ऐसा जुगाड़

व्यक्ति की दृढ इच्छा शक्ति के आगे कुछ भी कठिन नहीं है। व्यक्ति अगर चाह लें, तो जीवन में सकारात्मक चीजों को अपनी मेहनत से हासिल कर सकता है। कुछ लोग महज चार दिनों की मेहनत में सफलता पाना चाहते हैं, लेकिन सफल होने के लिए निरंतर प्रयास जरूरी है। इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण सोशल मीडिया पर शेयर वीडियो से मिलता है। यह वीडियो प्रेरणादायक है। खासकर युवावर्ग को जीवन में कुछ कर गुजरने के लिए प्रेरित करता है। वीडियो से यह साबित होता है कि अगर व्यक्ति चाह ले, तो किसी भी क्षेत्र में अपना नाम रौशन कर सकता है।


इस वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि कोयंबटूर में एक पॉपकॉर्न बेचने वाला दुकानदार संगीत बजाकर पॉपकॉर्न बेच रहा है। यह संगीत किसी रेडियो, टेपरिकॉर्डर या मोबाइल फोन से नहीं बज रही है, बल्कि पॉपकॉर्न की बर्तनों से निकल रही है। संगीत की आवाज इतनी मधुर है कि आप सुनकर संगीतमय हो जाएंगे। पॉपकॉर्न बेचने वाला दुकानदार महज कलछुल और बर्तनों की मदद से बेहतरीन धुन बजा रहा है। साथ ही पॉपकॉर्न को भी मिक्स कर रहा है।


संगीत को मधुर बनाने के लिए पिच (धुन की लय) को भी समय-समय पर बदलता है। इसके लिए आसपास में कई बर्तन रखी हैं, जिनमें पॉपकॉर्न से संबंधित खाद्य पदार्थ हैं। उन बर्तनों पर कलछुन लगाकर मधुर आवाज निकाली जा रही है। वहीं, जब दुकानदार पॉपकॉर्न सर्व करता है। उस समय भी धुन निकलती रहती है। व्यक्ति की प्रतिभा काबिलेतारीफ है।

सोशल मीडिया पर लोग वीडियो को पसंद कर रहे हैं। किसी ने सही कहा है-प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती है। इस वीडियो को देख ऐसा लगता है कि भारत में प्रतिभावान की बिल्कुल कमी नहीं है। इस वीडियो को UncleRandom नामक शख्स ने सोशल मीडिया ट्विटर पर अपने अकांउट से शेयर किया है। इस वीडियो को खबर लिखे जाने तक तकरीबन 1 हजार बार देखा गया है।


यहां है ये अनोखी प्रथा, मर्दो से मार खाकर महिलाओं का हो जाता हैं बुरा हाल

यहां है ये अनोखी प्रथा, मर्दो से मार खाकर महिलाओं का हो जाता हैं बुरा हाल

इस दुनिया में आज भी बहुत सी अजीबोगरीब परंपरा चलती आ रही है। आज हम आपको एक ऐसी ही परंपरा के बारे में बताने जा रहे हैं जो आदिवासियों और पिछड़ी जातियों में आज भी निभाई जाती हैं। ये हैं इथोपिया की ऐसी जनजाति जहन महिलाएं अपने पति से पिटने में गर्व महसूस करती हैं। और इन्ही की कुछ तस्वीरें कैमरे में कैद की एक फ्रेंच फोटोग्राफर ‘एरिक लैफोर्ग’ ने।

मार खाती है महिलाएं:

ये जनजाति है हैमर नाम की जाति। इनकी मानें तो ये कहते हैं कि ये जाति बहुत ही अलग है। इनके बारे में बता दे कि इस जाति के लोग कैटल जंपिंग सेरेमनी मनाते हैं ये उनका एक खास तरह का समारोह होता है। इस में 15 गायों को एक साथ खड़ा कर दिया जाता है और एक युवक उसे कूदते हुए पार करना होता है अगर कोई लड़का ऐसा नही कर पाया तो उसकी शादी नहीं की जाती है।

महिलाएं मिलकर उसे पीटती भी हैं। इसके बाद उस लड़के के घर की सभी औरतों को पीटा जाता है। महिलाओं को मारने के लिए पुरुषों का एक संगठन होता है जिसे ‘माजा’ कहते हैं। और इसे महिलाएं बहुत ही मज़े के साथ करती हैं।