परिवार का दावा- उसकी बेटी को जलाया गया, आरोपियों के घर वाले बोले- लड़की ने खुद ही आग लगा ली

परिवार का दावा- उसकी बेटी को जलाया गया, आरोपियों के घर वाले बोले- लड़की ने खुद ही आग लगा ली

17 नवंबर का दिन सुबह के ग्यारह बजे हैं। ढलुआ पक्की सड़क से होते हुए हम सैमूना खातून के घर के बाहर पहुंचे। इनकी 20 साल की बेटी गुलनाज खातून को कथित तौर पर गांव के ही तीन लड़कों ने केरोसीन डालकर जला दिया था। ये घटना 30 अक्टूबर की है। अब गुलनाज इस दुनिया में नहीं है। उसे गांव के ही कब्रिस्तान में सुपुर्दे-ए-खाक कर दिया गया है।

गुलनाज के घर के बाहर पुलिस का पहरा है। पुरुषों के साथ ही महिला पुलिस की भी तैनाती है। घर के ठीक सामने गांव के कुछ बुजुर्ग बैठे हैं। स्थानीय नेता और पटना यूनिवर्सिटी से आए लड़के हैं। पीड़िता की मां सैमूना खातून घर के अंदर है। सुबह से ही मीडिया की कई टीमें आ चुकी हैं और अभी भी आ रही हैं। अभी-अभी एक टीवी चैनल की पत्रकार बाहर बैठे बुजुर्गों को साइड करते हुए घर के अंदर दाखिल हुई है।

अपने कैमरे में देखते हुए वो बोल रही है, “हाजीपुर नहीं…बिहार की इस बेटी को न्याय कैसे मिलेगा? इस बेटी को न्याय तब मिलेगा जब हम और आप इस घटना पर अपना आक्रोश व्यक्त करेंगे। अभी मैं बेटी के घर में दाखिल हो रही हूं और मैं यहां से हर वो डिटेल बताऊंगी जो इस केस के लिए अहम हैं।”

घटना 30 अक्टूबर के शाम की है। जिस दिन पत्रकार 'केस से जुड़े हर डिटेल” दिखाने का दावा कर रही हैं वो दिन 17 नवंबर है। सवाल उठता है कि 19 दिन बाद यहां केस से जुड़े कौन से अहम डिटेल बाकी हैं, जिन्हें दिखाया और बताया जा सकता है?

पीड़िता के घर के बाहर स्थानीय नेताओं का जमावड़ा लगा है।

30 अक्टूबर की शाम पांच से सात बजे के बीच क्या हुआ था

आग में झुलसकर दम तोड़ चुकी लड़की गुलनाज के मुताबिक, 30 अक्टूबर की शाम को वो अपने घर के आगे, सड़क किनारे खड़ी थी। शाम के 5-6 बज रहे थे। गांव के ही सतीश राय अपने कुछ दोस्तों के साथ खड़ा था। गुलनाज ने इन लोगों से वहां जमा ना होने और अड्डेबाजी ना करने के लिए कहा तो उन्होंने मिट्टी तेल छिड़ककर आग लगा दिया और भाग गए।

आग लगने के बाद बनाए गए 44 सेकेंड के वीडियो में पीड़िता ये बातें कह रही है। ये वीडियो उसकी मौसेरी बहन नरगिस परवीन ने तब बनाया था जब पीड़िता को गांव के ही श्याम लाल राय की बोलेरो गाड़ी में बिठाकर इलाज के लिए ले हाजीपुर ले जाने की तैयारी हो रही थी।

नरगिस परवीन बताती हैं, 'सांझ हो गई थी। मैं अपने बेटे को लेकर घर लौट रही थी। बगल से अपने पापा की आवाज सुनी तो उधर चली गई। वहां भीड़ लगी थी। एक गाड़ी को सब घेरे हुए थे। मैंने गाड़ी के अंदर देखा तो लगभग पूरी तरह से जल चुकी गुलनाज बैठी थी।

मुझे देखते ही वो जोर-जोर से रोने लगी। उसकी छोटी बहन रो रही थी। माहौल बहुत अजीब था। मैंने ये छोटा सा वीडियो बनाया ताकि बाद में कुछ इधर-उधर हो तो एक सबूत रहे। लेकिन मैंने किसी को आग लगाते नहीं देखा।”

वहीं नरगीस के पिता जो मरहूम गुलनाज के मौसा भी हैं, उनका दावा है कि वो घटना स्थल पर बाकियों के मुकाबले पहले पहुंचे थे। उन्होंने ही फोन करके श्याम लाल राय को अपनी गाड़ी लेकर आने के लिए कहा था। उन्होंने ही आग से झुलसी गुलनाज को वहां मौजूद दूसरे लोगों की मदद से गाड़ी में बिठाया था।

उस शाम के बारे में 60 साल अब्दुल खालिद बताते हैं, “मैं जब पहुंचा तो लड़की सड़क पर ही थी। पड़ोस की जरिनिया (जरीन खातून) और पड़ोस के हरिंदर राय की घर वाली उसके शरीर से जले हुए कपड़े हटा रहीं थीं। मैंने बिना समय गवाएं लड़की को अस्पताल पहुंचाने में लग गया। श्यामलाल को कहकर गाड़ी बुलवाई। जब लड़की की हालत देखकर श्याम लाल थोड़ा हिचका तो मैंने ही कहा कि वो लड़की को लेकर जाए, वो नहीं फंसेगा।

इसी जगह 20 साल की पीड़िता को मौत के बाद दफनाया गया है।

बकौल अब्दुल खालिद, उस शाम उनसे जो भी बन सकता था उन्होंने किया लेकिन ना तो वो ख़ुद और ना ही उनकी बेटी गुलनाज के साथ गाड़ी में गए। उस शाम गाड़ी में गुलनाज, गाड़ी का ड्राइवर श्याम लाल राय जो कि मुख्य आरोपी सतीश के चाचा हैं और पड़ोसी जरीन खातून गए थे।

मुख्य आरोपी सतीश चचेरे भाई और पड़ोसी पप्पू कुमार के मुताबिक अगर उस शाम सतीश और उसके दोस्तों ने लड़की को जला दिया था तो मुस्लिम समाज से कोई भी साथ क्यों नहीं गया था? सतीश के खाली पड़े घर की तरफ इशारा करते हुए पप्पू कहते हैं, “हमें नहीं पता क्या हुआ लेकिन गांव में तो सब यही कह रहे हैं कि उसने खुद ही आग लगाई है। लेकिन फिर भी हम कह रहे हैं। मामले की न्यायिक जांच करवाई जाए। अगर ये दोषी हैं तो उन्हें सजा मिले लेकिन निर्दोष हैं तो किसी वजह से फंसाया ना जाए।”

इस गांव में करीब दो सौ घर मुस्लिम हैं और लगभग इतने ही घर यादव हैं। कुछ घर दलितों के भी हैं। इस घटना में बाद से गांव में दोनों समुदाय एक दूसरे के तर्कों को खारिज कर रहे हैं। गांव के ही उमेश राय अपने बातचीत के शुरुआत में ही कहते हैं, 'बिल्कुल फंसाया जा रहा है। घटना कुछ है और अब कुछ और बनाकर बताया जा रहा है।”

दो मिनट रुक वो आगे कहते हैं, “आप वहां से आए हैं। जो घटनास्थल ये लोग बता रहे है उसके तीन तरफ से घर हैं। हमारे मुस्लिम भाईयों के ही घर हैं। वहां कैसे कोई एक लड़की को पकड़ लेगा और आग के हवाले कर देगा? एक पल के लिए मान भी लिया जाए कि किसी ने ऐसा कर दिया तो ऐसा कैसे हो गया कि किसी ने उन लड़कों को ऐसा करते हुए या करने के बाद भागते हुए नहीं देखा?”

इसी तरह के सवाल गांव की बहू और सोशल मीडिया फेम किरण यादव भी उठा रही हैं। किरण यादव ने शुरुआती सोशल मीडिया पोस्ट से पता चलता है कि वो पीड़िता के इलाज के लिए चंदा जुटा रही थीं। उसे हाजीपुर के निजी नर्सिंग होम से निकालकर पटना के पीएमसीएच में भर्ती करवा रही थीं लेकिन अब वो ही किरण यादव परिवार पर अपने बयान बदलने, मृतक लड़की और मुख्य आरोपी सतीश राय के बीच प्रेम संबंध होने की बात कह रही हैं।

रसूलपुर हवीव गांव वैशाली जिले के देसरी थाना अंतर्गत पड़ने वाले चांदपूरा ओपी में पड़ता है।

वहीं पीड़िता के परिवार का दावा है कि किरण यादव ने उनकी मदद के लिए तीन लाख चंदा जुटाया लेकिन उन्हें एक भी पैसा नहीं मिला है। जब इस बारे में सवाल-जवाब किए गए तो वो अलग हो गईं और बिना सिर पैर की बातें कर रही हैं। लेकिन भास्कर से बातचीत में गुलनाज के मौसा और पड़ोसी अब्दुल खालिद भी दोनों के बीच प्रेम संबंध होने की बात कबूलते हैं।

वो कहते हैं, “मेरे छत से इनके घर का सब कुछ दिखता है। वो लड़का यहां देर रात तक घूमता रहता था। दोनों एक उम्र के थे। यही कोई छह-सात महीने से इनके बीच कुछ-कुछ चल रहा था लेकिन लड़की की शादी मैंने ही दूसरी जगह लगवाई थी। वो इससे शादी करने के लिए तैयार नहीं थी। यही वजह है कि उसने इसे जला दिया।”

रसूलपुर हवीव गांव वैशाली जिले के देसरी थाना अंतर्गत पड़ने वाले चांदपूरा ओपी में पड़ता है। मृतक लड़की के घर से लगभग एक किलोमीटर की दूरी पर ही पोस्ट है। लेकिन घटना की जानकारी पुलिस को नहीं मिलती है। पुलिस के सामने लड़की का बयान घटनास्थल से लगभग 25 किलोमीटर दूर हाजीपुर में दर्ज हुआ। यहां के एक निजी नर्सिंग होम में उसे इलाज के लिए भर्ती करवाया गया था।

वहां से 2 नवंबर को मामले को देसरी थाने में भेजा गया। इसके बाद FIR दर्ज की गई। इस लापरवाही की वजह से चांदपूरा ओपी के इंचार्ज विष्णु देव को सस्पेंड किया गया है। पीड़िता की मौत के बाद पुलिस हरकत में आई है और आरोपियों को गिरफ्तार कर रही है। दो आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

मुख्य आरोपी सतीश कुमार ने खुद पुलिस के सामने सरेंडर किया है। आगे की जांच के लिए SIT का गठन किया गया है। लेकिन सवाल है कि जब अहम सबूत आज भी पीड़िता के घर के सामने नुमाइश किए जा रहे हैं तो पुलिस जांच क्या करेगी? आरोपियों को सजा कैसे दिलवाएगी?

घटना के वक्त जो कपड़े पीड़िता ने कपड़े पहने थे वो अभी भी घर पर ही हैं। समाचार चैनलों के पत्रकार उन कपड़ों को फैला-फैलाकर वीडियो बना रहे हैं। एक छोटा बच्चा उसे बाद में प्लास्टिक के एक झोले में डालकर घर में ले जाता है।


OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार

OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार

तिरुवनंतपुरम: केरल में लोगों को कुत्तों से अधिक डर बिल्लियों का है और प्रदेश में पिछले कुछ सालों में बिल्लियों के काटने के मुद्दे कुत्तों के काटने की तुलना में कहीं अधिक सामने आए हैं इस वर्ष केवल जनवरी माह में ही बिल्लियों के काटने के 28,186 मुद्दे सामने आए जबकि कुत्तों के काटने के 20,875 मुद्दे थे

राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही में एक आरटीआई (सूचना का अधिकार) के उत्तर में यह जानकारी दी

राज्य स्वास्थ्य निदेशालय के अनुसार, पिछले कुछ सालों से बिल्लियों के काटने का उपचार कराने वालों की संख्या कुत्तों के काटने का उपचार कराने वालों से अधिक है

आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष केवल जनवरी में बिल्लियों के काटने के 28,186 मुद्दे सामने आए जबकि कुत्तों के काटने के 20,875 मुद्दे थे प्रदेश के पशु संगठन, ‘एनिमल लीगल फोर्स’ द्वारा दाखिल आरटीआई के उत्तर में यह आंकड़े दिए गए इसमें 2013 और 2021 के बीच कुत्तों और बिल्लियों द्वारा काटने के आंकड़ों के साथ ‘एंटी-रेबीज’ टीके और सीरम पर खर्च की गई राशि की भी जानकारी दी गई है

आंकड़ों के अनुसार, 2016 से बिल्लियों के काटने के मुद्दे में वृद्धि हुई है 2016 में बिल्लियों से काटने का 1,60,534 इतने लोगों ने उपचार कराया जबकि कुत्तों के काटने के 1,35,217 मुद्दे सामने आए 2017 में बिल्लियों के काटने के 1,60,785 मामले, 2018 में 1,75,368 और 2019 और 2020 में यह बढ़कर क्रमश: 2,04,625 और 2,16,551 हो गए दक्षिणी प्रदेश में 2014 से लेकर 2020 तक बिल्लियों के काटने के मामलों में 128 फीसदी वृद्धि हुई

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 2017 में कुत्तों के काटने के 1,35,749, साल 2018 में 1,48,365, साल 2019 में 1,61,050 और साल 2020 में 1,60,483 मुद्दे सामने आए रेबीज से पिछले वर्ष पांच लोगों की मृत्यु हुई थी


Salman Khan के साथ वीर की शूटिंग करते वक्त ऐसा हो गया था जरीन खान का हाल       विक्की कौशल, रणवीर सिंह या रणबीर कपूर? जानें       बुजुर्ग के साथ बदसलूकी की घटना पर स्वरा भास्कर को बोलना पड़ा भारी, ट्रोलर्स बोले...       विराट-अनुष्का के रास्ते पर बढ़े केएल राहुल और अथिया शेट्टी       पासपोर्ट रिन्यू न होने को लेकर महाराष्ट्र सरकार पर फूटा कंगना रनोट का गुस्सा       पासपोर्ट विवाद के बीच कंगना रनोट को आई फिल्म की याद, कहा...       Govinda ने पत्नी सुनीता आहूजा का खास अंदाज में मनाया 50वां जन्मदिन       Sonu Sood की बढ़ी मुश्किलें, कोरोना की दवाई को लेकर मुंबई उच्च न्यायालय ने दिए जांच के आदेश       Akshay Kumar और ट्विंकल खन्ना की शादी की 20 वर्ष बाद तस्वीरें हुईं लीक       Rakhi Sawant ने लगवाई कोरोना वैक्सीन की पहली डोजी       बेहतरीन एक्टर के साथ कामयाब बिज़नेसमैन, इतने करोड़ की संपत्ति के मालिक़ हैं डिस्को डांसर       म्यांमार के काया क्षेत्र में युद्ध विराम, संयुक्त राष्ट्र ने किया हस्तक्षेप, करीब एक लाख लोगों को पहुंचा था नुकसान       ट्रान्स अटलांटिक संबंधों के नवीनीकरण में यूरोपीय संघ के व्यापार युद्ध को समाप्त करने की हुई कोशिश       दुनियाभर में मशहूर फर्नीचर ब्रांड पर कोर्ट ने लगाया जुर्माना       अमेरिका व ईयू के बीच सालों पुराना व्यापारिक विवाद खत्म, पुतिन से मुलाकात से पहले बाइडन का पक्ष मजबूत!       मध्य नेपाल में बाढ़ के कहर से एक की मौत, कई लोगों के लापता होने की आशंका       चीन के 28 लड़ाकू विमानों ने फिर ताइवान के एयरस्पेस में भरी उड़ान       ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में कोरोना वायरस के प्रकोप के बावजूद लोगों को शहर छोड़ने की मिली अनुमति       जरायल ने गाजा पर किए हवाई हमले, सेना ने पुष्टि कर कहा...       कैलिफोर्निया में वैक्सीन जैकपॉट, जानें दस विजेताओं को मिलेगी कितनी धनराशि