आखिर लड़कियों की बायीं तरफ ही क्यों छिदवाई जाती हैं नाक, जान लें इसका बड़ा कारण

आखिर लड़कियों की बायीं तरफ ही क्यों छिदवाई जाती हैं नाक, जान लें इसका बड़ा कारण

भारतीय संस्कृति और परंपरा के हिसाब से नाक छिदवाना बहुत जरूरी माना जाता है। लेकिन बहुत कम लड़कियां जानती है कि यह स्त्री की खूबसूरती बढ़ाने के साथ-साथ सेहत के ल‍िए भी लाभकारी है। भारतीय महिलाओं के नाक छिदवाने के पीछे का कारण बेहद कम लोग जानते होंगे।

क्यों छिदवाई जाती हैं नाक:

नाक में छेद करवाने के लिए कोई विशेष उम्र नहीं होती है। इसे बचपन, किशोरावस्था, वयस्क होने पर कभी भी करवा सकते हैं। गर्भावस्था में भी महिलाएं नाक छिदवा सकती है। इससे शिशु पर कोई नकारात्मक असर नहीं पड़ता है।

वेदों और शास्त्रों में लिखा गया है कि नाक छिदवाने से महिला को माहवारी पीड़ा से राहत मिलती है। इसके अलावा प्रसव के दौरान शिशु को जन्म देने में आसानी होती है। इससे माइग्रेन में भी राहत मिलती है।

बाई ओर क्‍यों छिदवाई जाती है नाक:

लड़कियों की बाई ओर की नाक छेदी जाती है क्योंकि उस जगह की नसें नारी के महिला प्रजनन अंगों से जुडी हुई होती हैं। नाक के इस हिस्से पर छेद करने से महिला को प्रसव के समय भी कम दर्द का सामना करना पड़ता है। इस वजह से बाई ओर नाक छिदवाई जाती है।


बंदर से मस्ती करना पड़ा महंगा, देख हंसी नहीं रोक पाएंगे

बंदर से मस्ती करना पड़ा महंगा, देख हंसी नहीं रोक पाएंगे

बंदर स्वभाव से काफी चंचल होता है। वह एक जगह स्थिर होकर बैठना पसंद नहीं करता है। साथ ही नकल करने में भी बंदर आगे रहता है। एक बार पता लग जाने के बाद बंदर उस कार्य को करने में देर नहीं करता है। यह वीडियो प्रमाण है। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे देख आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे। वीडियो में व्यक्ति को बंदर के साथ मस्ती करना महंगा पड़ा है। इस वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि एक पार्क में बंदर आराम फरमा रहा है। वह बेहद शांत है। इससे साफ़ पता चलता है कि वह मंत्रणा कर रहा है। तभी एक व्यक्ति भी पार्क में आ जाता है।

यह पार्क मॉल के बेहद नजदीक है। इससे पता लग रहा है कि बंदर खाने-पीने की साथ ठंडी हवा के लिए पार्क में आता है। तभी व्यक्ति बंदर के पास आकर बैठ जाता है और बंदर के साथ मस्ती करने लगता है। व्यक्ति इधर-उधर अपनी नजर घुमाता है, तो व्यक्ति की नजर एक डंडे पर पड़ती है। वह डंडे को उठाकर लाता है और बंदर को डंडे से कैसे पीटा जाता है। इसकी ट्रेनिंग देने लगता है।

इसी क्रम में वह कई बार बंदर को डंडे से मारना सिखाता है। हालांकि, इसमें वह सफल नहीं हो पाता है। जब कई बार भी मारने के बाद वह बंदर को नहीं सीखा पाता है, तो डंडा छोड़ देता है। बंदर भी इसी फ़िराक में था। जैसे ही व्यक्ति डंडा छोड़ता है। उसी समय बंदर डंडा उठाकर जोर की लगाता है। इससे व्यक्ति की बोलती बंद हो जाती है। वहीं, आसपास खड़े सभी लोग व्यक्ति की बचकानी हरकत देखकर हंसने लगते हैं।  डंडे की चोट से व्यक्ति के दिमाग की बत्ती गुल हो जाती है। इस वीडियो को UncleRandom नामक शख्स ने सोशल मीडिया ट्विटर पर अपने अकांउट से शेयर किया है।