यहाँ नवदम्पति की सुहागरात देखने आता है पूरा गांव

यहाँ नवदम्पति की सुहागरात देखने आता है पूरा गांव

अक्सर शादियों को लेकर हर जगह कई रस्में और परम्पराएं निभाई जाती है। आजकल भी कई परंपराए है जो सदियों से निभाई जा रही है। हालंकि इनमें कई सारे कार्य अच्छे भी होते है। पहले के जमाने में इस तरह की परंपराओं को शादी के बाद दुल्हा दुल्हन को एक दूसरे के साथ घुलमिल जाने के लिए निभाया जाता था। लेकिन आज इनका स्वरूप भी बदल चुका है। 

सुहागरात देखने आता है पूरा गांव

आज हम बात कर रहे है कंजरभाट समुदाय की जहां पर शादी के बाद सुहागरात पर पूरा गांव कमरे के बाहर बैठता है। ये समुदाय पिछले 20 सालों से इसी परंपरा का निर्वहन कर रहा है। इस परंपरा का निर्वहन करने के पीछे एक वजह बताई गई है।यहां पर इसको उद्देश्य सिर्फ महिलाओं के चरित्र को जानना है। 


सरपंच खोलता है राज

यहां पर शुहागरात पर दूल्हे को कमरे के अंदर जाने से पहले सफेद चादर दी जाती है और नवविवाहिता को इसी चादर पर सोना पड़ता है। जिसके बाद सुबह होने पर गांव का सरंपच आकर देखता है कि चादर पर खून के दाग है या नहीं। अगर चादर पर दाग होते है तो उसको पवित्र माना जाता है अगर दाग नहीं मिलता है तो दूल्हन को अपवित्र मानी जाती है।


दो साल की मेहनत के बाद बना डाली लकड़ी की रॉयल एनफ़ील्ड बुलेट

दो साल की मेहनत के बाद बना डाली लकड़ी की रॉयल एनफ़ील्ड बुलेट

रॉयल एनफील्ड की मोटरसाइकिल्स पूरी दुनिया में मशहूर हैं और यह एक लोकप्रिय मोटरसाइकिल ब्रांड भी है। रॉयल एनफील्ड की सभी मोटरसाइकिल्स में से सबसे उपर नाम बुलेट का ही आता है। केरल राज्य में रहने वाले एक व्यक्ति ने रॉयल एनफील्ड बुलेट के मॉडल को लकड़ी से तराशा है और इसका आकार भी बुलेट के जितना ही रखा गया है।

आपको बता दें कि जिदहिन करुलाई ने इस प्रोजैक्ट पर 2 वर्षों तक काम किया है। इस लकड़ी के बुलेट को जिदहिन ने तीन अलग-अलग तरह की लकड़ी से तैयार किया है। इसके टायरों में उन्होंने मलेशियाई लकड़ी का इस्तेमाल किया, जबकि फ्यूल टैंक और बाकी अन्य पैनलों में रोजवुड और टीक का इस्तेमाल हुआ है।

इस लकड़ी की रॉयल एनफील्ड बुलेट के प्रत्येक पार्ट को असली बुलेट के साइज़ जितना ही रखा गया है। जिदहिन ने बाइक के सभी खुरदुरे किनारों को बहुत ही ध्यान से और अच्छे तरीके से पॉलिश भी किया है। सात साल पहले जिदहिन ने रॉयल एनफील्ड बुलेट का एक छोटा लकड़ी का मॉडल भी तैयार किया था।

एक इंटरव्यू में जिदहिन ने बताया कि जब तक लकड़ी की बुलेट तैयार हुई तो इसकी लागत असली बुलेट बाइक के दाम जितनी ही पहुंच गई। रियल बुलेट के साथ ही इस लकड़ी की बुलेट को भी रखा हुआ है। दूर दूर से लोग उनके घर इस लकड़ी की बुलेट को देखने पहुंच रहे हैं। यह पहली बार नहीं है जब उन्होंने लकड़ी से बाइक बना है। 


कोविड-19 का कहर : मैं बचूंगा या नहीं घर गिरवी न रखना पापा, और उसने दुनिया को अलविदा कह दिया       सीएम योगी ने कहा कि गोरखपुर में बनेगा 100 बेड का नया कोविड हॉस्पिटल , BRD में बढ़ेंगे 50 वेंटिलेटर बेड       ऑस्ट्रेलिया के जंगलों से आई इस भेड़ ने सोशल मीडिया पर मचा दी धूम       रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने स्पूतनिक वैक्सीन की तुलना AK-47 से की, कहा...       धरती पर आज गिरेगा चाइना का बेकाबू रॉकेट       Vladimir Putin ने रूसी कोरोना वैक्सीन को बताया दमदार, कहा...       दुनिया के सबसे बड़े Cargo Plane ने सहायता का सामान लेकर India के लिए भरी उड़ान       Imran Khan ने Indian Embassies की प्रशंसा क्या की, आग बबूला हो गए पाकिस्तानी       हिंदुस्तान से अपने देश तुरंत लौट आएं सभी लोग, अमेरिका की अपने नागरिकों से अपील       बाइसन को मारने US में निकली 12 वेकेंसी       यूनीसेफ ने हिंदुस्तान में बढ़ रहे कोविड-19 मामलों पर जताई चिंता, कहा...       व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि रूस की कोविड-19 वैक्सीन AK-47 जितनी भरोसेमंद       Africa में मिली इतने हजार वर्ष पुरानी कब्र, खुलेंगे कई अहम राज       भारतीय टीम में सिलेक्शन से दंग यह क्रिकेटर, बोले...       पूर्व भारतीय हॉकी कोच एमके कौशिक का मृत्यु       कोविड-19 बना काल: नहीं रहे BCCI के आधिकारिक स्कोरर केके तिवारी       कोविड-19 के विरूद्ध जंग में विराट के बाद ऋषभ पंत भी कूदे       इंग्लैंड जाने से पहले हिंदुस्तान में ही 8 दिन क्वारंटीन रहेगी टीम इंडिया       दिल जीत लेगी इस क्रिकेटर की दलील, बोले...       इंग्लैंड दौरे पर टीम इंडिया में हार्दिक पांड्या को क्यों नहीं मिली जगह