UP: गांवों में भी जमकर टूटा कोविड-19 का कहर

UP: गांवों में भी जमकर टूटा कोविड-19 का कहर

नोएडा: गौतम बुद्ध नगर (Gautam Buddh Nagar) यानी नोएडा में कस्बों और गांवों में कोविड-19 वायरस ( Covid-19 ) संक्रमण के तेजी से फैल रहे प्रकोप के मद्देनजर बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की कोशिशें जारी हैं दशा संभालने के लिए जिले के प्रमुख स्वास्थ्य ऑफिसर ने महत्वपूर्ण दवाएं उपलब्ध कराने और संक्रमण की जाँच कराने के लिए कई सेंटर खोले जाने की जानकारी साझा की है

नोएडा के मुख्य चिकित्सा ऑफिसर डॉ दीपक अहोरी (CMO Deepak Ohri) ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर की जा रही हैं जिसके अनुसार दवाइयां एवं ऑक्सीजन मौजूद कराने तथा Covid-19 की जाँच के लिए कई केन्द्र खोले गए हैं 

सीएमओ ने शहर के लोगों से अपील की है कि संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत जाँच कराएं और संक्रमित पाए जाने पर स्वास्थ्य विभाग से सम्पर्क कर दवाइयों की किट हासिल करें उन्होंने ये भी बताया कि घर में रहकर उपचार करा रहे लोगों के लिए जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने दवाइयों की किट उनके घरों पर पहुंचानी प्रारम्भ कर दी है साथ ही बताया कि शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए पांच केन्द्र बनाए गए हैं

उन्होंने बताया कि ऑक्सीजन सिलेंडर तथा रेमडेसिविर इंजेक्शन की दर तय कर दी गई है अब यह दवा निजी हॉस्पिटल ों को 1800 रुपए में मिलेगी इसके लिए डॉक्टरों के लिखने पर दवा को स्वास्थ्य विभाग मौजूद कराएगा उन्होंने बताया कि गौतम बुद्ध नगर में अभी पर्याप्त मात्रा मे इंजेक्शन मौजूद है

पंचायत चुनाव के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण तेजी से फैला है और कई लोगों की जान जा चुकी है स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार दनकौर, दादरी, जारचा, जेवर, बिलासपुर और रबूपुरा कस्बे में प्रतिदिन दो से चार लोगों की मृत्यु हो रही हैं चुनाव ड्यूटी में लगे कई लोग Covid-19 की चपेट में आए हैं

शुक्रवार को बेसिक एजुकेशन विभाग के दो प्रधान अध्यापकों की मृत्यु हो गई इनमें से एक ने पंचायत चुनाव के प्रशिक्षण में भाग लिया था संक्रमण के लक्षण दिखने के बाद उन्हें चुनाव ड्यूटी से दूर रखा गया था

भारतीय किसान यूनियन (लोक शक्ति) के अध्यक्ष मास्टर श्योराज सिंह ने बताया कि गांव तथा कस्बों में रहने वाले बहुत ज्यादा लोग शहरों में रोजगार कर रहे हैं ग्राम पंचायत के चुनाव के दौरान वोट डालने आए बहुत ज्यादा लोग संक्रमित थे और Covid-19 (Covid-19) नियमों की अनदेखी की वजह से ग्रामीण अंचल में कोविड-19 वायरस फैला

इस बीच कोविड-19 वायरस का प्रसार पहाड़ी प्रदेश के ग्रामीण इलाकों तक पहुंच चुका है देवभूमि उत्तराखंड (Uttarakhand) के मंत्री सुबोध उनियाल (Subodh Uniyal) के अनुसार कोविड-19 कर्फ्यू के बावजूद संक्रमण की गति और बिगड़े दशा पर काबू पाने के लिए प्रदेश सरकार 10 मई से और कड़े निर्णय लेने जा रही है  


इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इस वर्ष नहीं बढ़ेगी फीस, योगी सरकार का बड़ा फैसला

इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इस वर्ष नहीं बढ़ेगी फीस, योगी सरकार का बड़ा फैसला

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने छात्र हित में प्रदेश के सभी इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इस साल फीस में बढ़ोतरी नहीं करने का एक बड़ा फैसला लिया है। प्रदेश के इंजीनियरिंग कॉलेजों और पॉलिटेक्निक संस्थानों में शैक्षिक सत्र 2021-22 में फीस नहीं बढ़ाई जाएगी। इस बड़े फैसले से एकेटीयू से लगभग 750 इंजीनियरिंग कॉलेज और प्राविधिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश से संबद्ध निजी क्षेत्र के 1247 डिप्लोमा स्तरीय और 19 अनुदानित संस्थाओ में पढ़ने वाले छात्र छात्रओ को इसका लाभ मिलेगा।

सचिव (प्राविधिक शिक्षा) आलोक कुमार ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए इस बार फीस बढ़ोतरी नहीं की जाएगी। जो फीस पिछले शैक्षिक सत्र 2020-21 में निर्धारित की गई थी, वही इस साल भी ली जाएगी। प्राविधिक शिक्षा विभाग के इस फैसले से करीब चार लाख विद्यार्थियों को बड़ी राहत मिल गई है।


उत्तर प्रदेश के 750 इंजीनियरिंग कॉलेजों में अलग-अलग 60 हजार रुपये से लेकर 1.20 लाख रुपये वार्षिक फीस है। वहीं 1,371 पॉलिटेक्निक संस्थानों में 10 हजार रुपये से लेकर 45 हजार रुपये तक सरकारी व निजी पॉलिटेक्निक संस्थानों की फीस निर्धारित है। सभी इंजीनियरिंग व पॉलिटेक्निक संस्थानों को निर्देश दिए गए हैं कि वह पिछले वर्ष तय की गई फीस ही इस सत्र में भी लें। अगर कोई संस्थान इससे अधिक फीस वसूलेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।


प्राविधिक शिक्षा विभाग के सचिव आलोक कुमार ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। प्रदेश में 1247 पॉलिटेक्निक कॉलेज व 750 इंजीनियरिंग कॉलेज हैं और 17 अनुदानित संस्थाओं के विद्यार्थियों को इसका लाभ मिलेगा। पिछले वर्ष भी कोरोना संक्रमण के कारण फीस वृद्धि पर रोक लगाई थी। इसे चालू शैक्षिक सत्र में भी जारी रखा जाएगा। इस सत्र में फीस 2020-21 के सत्र की ही मान्य होगी।


Salman Khan के साथ वीर की शूटिंग करते वक्त ऐसा हो गया था जरीन खान का हाल       विक्की कौशल, रणवीर सिंह या रणबीर कपूर? जानें       बुजुर्ग के साथ बदसलूकी की घटना पर स्वरा भास्कर को बोलना पड़ा भारी, ट्रोलर्स बोले...       विराट-अनुष्का के रास्ते पर बढ़े केएल राहुल और अथिया शेट्टी       पासपोर्ट रिन्यू न होने को लेकर महाराष्ट्र सरकार पर फूटा कंगना रनोट का गुस्सा       पासपोर्ट विवाद के बीच कंगना रनोट को आई फिल्म की याद, कहा...       Govinda ने पत्नी सुनीता आहूजा का खास अंदाज में मनाया 50वां जन्मदिन       Sonu Sood की बढ़ी मुश्किलें, कोरोना की दवाई को लेकर मुंबई उच्च न्यायालय ने दिए जांच के आदेश       Akshay Kumar और ट्विंकल खन्ना की शादी की 20 वर्ष बाद तस्वीरें हुईं लीक       Rakhi Sawant ने लगवाई कोरोना वैक्सीन की पहली डोजी       बेहतरीन एक्टर के साथ कामयाब बिज़नेसमैन, इतने करोड़ की संपत्ति के मालिक़ हैं डिस्को डांसर       म्यांमार के काया क्षेत्र में युद्ध विराम, संयुक्त राष्ट्र ने किया हस्तक्षेप, करीब एक लाख लोगों को पहुंचा था नुकसान       ट्रान्स अटलांटिक संबंधों के नवीनीकरण में यूरोपीय संघ के व्यापार युद्ध को समाप्त करने की हुई कोशिश       दुनियाभर में मशहूर फर्नीचर ब्रांड पर कोर्ट ने लगाया जुर्माना       अमेरिका व ईयू के बीच सालों पुराना व्यापारिक विवाद खत्म, पुतिन से मुलाकात से पहले बाइडन का पक्ष मजबूत!       मध्य नेपाल में बाढ़ के कहर से एक की मौत, कई लोगों के लापता होने की आशंका       चीन के 28 लड़ाकू विमानों ने फिर ताइवान के एयरस्पेस में भरी उड़ान       ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में कोरोना वायरस के प्रकोप के बावजूद लोगों को शहर छोड़ने की मिली अनुमति       जरायल ने गाजा पर किए हवाई हमले, सेना ने पुष्टि कर कहा...       कैलिफोर्निया में वैक्सीन जैकपॉट, जानें दस विजेताओं को मिलेगी कितनी धनराशि