मु़लायम सिंह यादव ने लगवाई कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज

मु़लायम सिंह यादव ने लगवाई कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज

लखनऊ: समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मु़लायम सिंह यादव ने सोमवार को गुरुग्राम के मेदांता हॉस्पिटल में कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज लगवाई। सपा सुप्रीमो से पहले उनके छोटे भाई शिवपाल यादव भी कोविड-19 वैक्सीन लगवा चुके हैं। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि मुलायम के पुत्र अखिलेश यादव ने कोविड-19 वैक्सीन का विरोध किया था।

इसी वर्ष जनवरी में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बोला था कि मैं भाजपा की वैक्‍सीन पर कैसे भरोसा कर सकता हूं, जब हमारी सरकार बनेगी तो सभी को फ्री में टीका लगेगा, हम भाजपा की वैक्‍सीन नहीं लगवा सकते। अखिलेश के इस बयान के बाद उनकी बहुत ज्यादा आलोचना हुई थी।

वैक्सीन पर टिप्पणी के बाद अखिलेश यादव की ट्रोलिंग हुई थी
बीजेपी ने आरोप लगाया​ कि अखिलेश यादव ऐसी बयानबाजी कर लोगों में कोविड-19 वैक्सीन के प्रति लोगों में भ्रम तो पैदा ही कर रहे हैं, बल्कि देश के वैज्ञानिकों का भी अपमान कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर भी अखिलेश के इस बयान को लेकर लोगों ने उन्हें खूब सुनाया। मौके की नजाकत को भांपते हुए कोविड-19 की दूसरी लहर के बाद अखिलेश यादव के सुर बदल गए। अब वह सभी लोगों को फ्री में कोविड-19 वैक्सीन लगाने की वकालत करने लगे हैं।  

अब सबको फ्री में वैक्सीन लगाने की मांग कर रहे हैं अखिलेश
मई में अखिलेश यादव ने बोला था कि बीजेपी सरकार शीघ्र सभी को फ्री वैक्सीन देने का ऐलान करे और हवाई बातें छोड़कर बताए कि वैक्सीन लगाने की सरकार के पास क्या ठोस योजना है। इस बीच उन्होंने विभिन्न राष्ट्रों में चल रहे कोविड वैक्सीनेशन कार्यक्रम का एक ग्राफ ट्विटर हैंडल से लिखा है था, जिसमें हिंदुस्तान को बहुत ज्यादा पीछे दिखाया गया था। यह ग्राफ तार्किक नहीं था और अखिलेश को फिर ट्रोल होना पड़ा था।


UP: योगी सरकार के मंत्री का मायावती पर हमला, कहा...

UP: योगी सरकार के मंत्री का मायावती पर हमला, कहा...

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अयोध्या (Ayodhya) पहुंचे सूबे के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य (Labor Minister Swami Prasad Maurya) ने बहुजन समाज पार्टी के ब्राह्मण सम्मेलन को लेकर बड़ा बयान दिया स्वामी प्रसाद मौर्य ने ब्राह्मणों की जमकर प्रशंसा की उन्होंने बोला कि जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) समीप आता जा रहा है, सभी पार्टियां ब्राह्मणों की जमकर प्रशंसा कर रही है उनको लुभाने के लिए सभी पार्टियां तरह-तरह के लुभावने बातें कह रही है  शनिवार को अयोध्या पहुंचे श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या ने बोला कि दलित मायावती का साथ छोड़ चुका है बीएसपी को अब अपने दलित मतदाताओं पर भरोसा नहीं रहा

श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या (Swami Prasad Maurya)  ने ब्राह्मणों की प्रशंसा करते हुए बोला कि ब्राह्मण सबसे अधिक इस देश का बुद्धिजीवी, पढ़ा लिखा और समझदार मतदाता है ब्राम्हण किसी के झांसे बहकावे और प्रलोभन में आने वाला नहीं है ब्राह्मण हमेशा देश की दशा और दिशा तय करता आया है

कभी बीएसपी कार्यकाल में कद्दावर मंत्री थे  स्वामी प्रसाद मौर्य

स्वामी प्रसाद मौर्य ने बोला कि ब्राह्मण सियासी  और सामाजिक स्तर पर उचित अनुचित को अच्छी तरह से समझता है यही नहीं ब्राह्मण खुद अपने विवेक से फैसला लेता है वह किसी के झुनझुना बजाने से बच्चों की तरह उसके पीछे नहीं दौड़ेगा ब्राम्हण स्वयं बहुत समझदार है कभी बीएसपी कार्यकाल के कद्दावर मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य ने बोला कि बीएसपी का ब्राह्मण सम्मेलन फ्लॉप शो साबित होगा स्वामी प्रसाद मौर्या बहुजन समाज पार्टी  कार्यकाल में भी मंत्री रह चुके हैं श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य आज पूर्व सिंचाई मंत्री मराठी लोक दल के प्रदेश अध्यक्ष रहे स्वर्गीय मुन्ना सिंह के पांचवीं पुण्यतिथि पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में शामिल होने अयोध्या के सोहावल महोली गांव पहुंचे थे इस श्रद्धांजलि प्रोग्राम में प्रदेश के जल शक्ति मंत्री डाक्टर महेंद्र सिंह भी शामिल हुए

बसपा-सपा पर गरजे अठावले

यूपी में अपने पक्ष में माहौल बनाने के लिए अठावले ने 26 सितंबर से बहुजन कल्याण यात्रा भी निकाले जाने का ऐलान कर सपा, बीएसपी और कांग्रेस पार्टी के साथ ममता बनर्जी पर भी जमकर निशाना साधा है केन्द्रीय मंत्री रामदास अठावले ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात के बाद आज सीएम योगी से मुलाकात कर यूपी के मुस्लिम-दलित बहुल क्षेत्रों में बीएसपी को टक्कर देने के लिए RPI के प्रत्याशियों को भी चुनाव लड़ाने की मांग की है इस दौरान राम दास अठावले ने बीएसपी के जनाधार में लगातार कमी आने की बात कहते हुए जहां अब अपने बलबूते पर मायावती को सत्ता में न आ पाने की बात कही, तो वही सपा और कांग्रेस पार्टी द्वारा भी उत्तर प्रदेश में सरकार न बना पाने के साथ इस बार उत्तर प्रदेश में 325 की स्थान 375 सीटें आने का दावा किया