कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच कराई गई पंचायत चुनाव की मतगणना

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच कराई गई पंचायत चुनाव की मतगणना

जिले में पंचायत चुनाव की मतगणना कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच कराई गई। गत रात्रि में तेज आंधी व बारिश के चलते कई जगह पंडाल उखड़ गए जिससे मतगणना निर्धारित समय 8:00 के स्थान पर 10:00 बजे से शुरू हो सकी मतगणना के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे । मतगणना के लिए के लिए ब्लॉक स्तर पर तैयारियां की गई हैं। प्रत्येक पाली के पहले मतगणना स्थल को सेनीटाइज किया गया । बबीना ब बड़ागांव ब्लॉक की मतगणना भोजला मंडी में ,मोठ ब्लॉक की गणना नवीन गल्ला मंडी मोठ में ,चिरगांव ब्लॉक की मतगणना सरदार पटेल इंटर कॉलेज चिरगांव, गुरसराय ब्लॉक की मतगणना मंडी समिति गुरसराय,बंगरा ब्लॉक की मतगणना मा शारदा महाविद्यालय घुराट, मऊरानीपुर ब्लॉक की गणना अग्रसेन महाविद्यालय मऊरानीपुर में की हुई।

पंचायत सदस्य के लिए सफेद ग्राम प्रधान के लिए हरा व क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए नीला एवं जिला पंचायत सदस्य के लिए गुलाबी मतपत्र का प्रयोग किया गया है । इस बार मतपत्रों के रंग को देखकर गड्डियां बनाई गई।इसके बाद गणना का कार्य शुरू कराया गया। मतगणना 378 टेबल पर कराई गई। मतगणना मतपत्रों की आधार पर कराई गई, जिसके चलते मतगणना के दौरान लंबी प्रक्रिया चली और चुनाव परिणाम समाचार लिखे जाने तक अधिकांश सीटों के प्राप्त नहीं हुए। पंचायत चुनाव के लिए प्रत्याशियों के बीच कड़ा मुकाबला देखा गया, प्रत्याशी लगातार आगे पीछे होते रहे।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राजापुर सीट से ग्राम प्रधान पद के लिए सुरेंद्र कबूतरा 221 वोटों से चुनाव जीत गए हैं। वही तोड़ी आमली आमलेट से सुनीता पत्नी राजू पाठक 7 वोट से चुनाव जीत गई है। बबीना के ठाकुर पूरा से आजाद प्रधान का चुनाव जीत गए हैं। जिला पंचायत सदस्य पद के लिए भदरवारा सीट से करणवीर सिंह भदोरिया आगे चल रहे थे। वही स्यावरी सीट से रजनी देवी मीरा हरिश्चन्द आर्य से आगे चल रही थी। मीरा हरिश्चंद्र मऊरानीपुर नगर पालिका अध्यक्ष हरिश्चंद्र की पत्नी है वहीं उनके देवर मऊ ब्लाक के ही चुरारा से हेमंत सेठ रमेश श्रीवास से आगे चल रहे थे। मऊ ब्लाक से सिमरधा से रजनी देवी अपने विरोधी से आगे चल रही थी।

झांसी जिले में जिला पंचायत की दो दर्जन सीटों पर 263 प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतरे हैं। इनमें भाजपा व अन्य दलों के प्रमुख नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। भाजपा से टिकट न मिलने से पूर्व विधायक बबीना सतीश जतारिया बागी प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं। इनका मुकाबला भाजपा नेता व झाँसी नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष धन्नूलाल गौतम के पुत्र पवन गौतम से है। अंतिम चुनाव परिणाम सोमवार तक अथवा रविवार की देर रात तक आने की संभावना व्यक्त की जा रही है।

राजनीतिक दलों में भाजपा, सपा एवं बसपा सहित अनेक निर्दलीय प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। पिछले बार 2 सीटों पर कब्जा करने वाली भाजपा इस बार जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर कब्जा करने की पूरी कोशिश करेगी। हालांकि मतदान से पहले अभी कुछ कहना मुश्किल है। सपा व बसपा भी पूरी ताकत से चुनावी मैदान में उतरे है। ग्राम प्रधान एवं क्षेत्र पंचायत सदस्य के लिए राजनीतिक दलों ने अपने प्रत्याशी घोषित नहीं किए हैं। लगभग 10 प्रत्याशी जो प्रधान पद का चुनाव लड़ रहे थे, मतगणना से पहले ही उनकी मौत हो गई है। इन सीटों पर अब दोबारा मतदान कराया जाएगा।

डीएम और एसएसपी ने किया मतगणना स्थलों का निरीक्षण

जिलाधिकारी आन्द्रा वामसी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रोहन पी. कनय द्वारा जनपद में 8 ब्लॉकों के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव हेतु 6 मतगणना स्थलों पर हो रही मतगणना का लगातार भ्रमणशील रहकर जायजा लिया। साथ ही सुरक्षा व्यवस्था के संबंध में अधीनस्थों को लगातार आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये।

वहीं, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक झाँसी रोहन पी. कनय के निर्देशन में जनपद में 8 ब्लॉकों के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव हेतु 6 मतगणना स्थलों पर पूर्ण सुरक्षा व्यवस्था के साथ मतगणना कराई जा रही है। इसी क्रम में पर्यवेक्षण अधिकारी/पुलिस अधीक्षक नगर विवेक त्रिपाठी द्वारा सभी मतगणना स्थलों पर लगातार भ्रमणशील रहकर सुरक्षा व्यवस्था में लगे सभी अधिकारी/कर्मचारीगण को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये।

इन ब्लॉकों में लगी थी इतनी टेबिल

उप जिला निर्वाचन अधिकारी शैलेष कुमार के अनुसार कुल 315 टेबिल पर गणना कराई जाएगी। इनमें बबीना ब्लॉक के लिए 42, बड़ागांव के लिए 36, चिरगांव के लिए 41, मोंठ के लिए 44, गुरसराय के लिए 36, बंगरा के लिए 34, मऊरानीपुर के लिए 46 एवं बामौर ब्लॉक के लिए 36 टेबिल लगाई गई है।

इन स्थानों पर चल रही है मतगणना

बबीना गल्ला मंडी भोजला, बड़ागांव गल्ला मंडी, भोजला, मोंठ नवीन गल्ला मंडी, मोंठ, चिरगांव सरदार पटेल इंटर कॉलेज, चिरगांव, गुरसराय कृषि उत्पादन मंडी समिति, गुरसराय, बामौर कृषि उत्पादन मंडी समिति, गुरसराय, बंगरा मां शारदा महाविद्यालय, घुराट, मऊरानीपुर अग्रसेन महाविद्यालय, मऊरानीपुर मतगणना हो रही है।

करीब 32 लाख मतों की चल रही है गिनती

मतगणना के दौरान कुल करीब 32 लाख वोट गिने जाएंगे। झांसी में कुल 973522 वोटर हैं। 15 अप्रैल को हुए मतदान में 80 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। अमूमन अधिकांश मतदाताओं को चार मतपत्र दिए गए थे। इस तरह करीब 32 लाख मतपत्रों का इस्तेमाल हुआ। सामान्य तौर पर सबसे पहले ग्राम पंचायत सदस्यों के मतों की गिनती हो रही है। इसके बाद ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य के मतों की गिनती होगी।

एक नजर में आंकड़े

इतने मतदाता- 973522, इतने पद - 3419, इतने उम्मीदवार- 8090 है। इस बार मतदान का 80 प्रतिशत रहा है।


कोविड-19 का कहर : मैं बचूंगा या नहीं घर गिरवी न रखना पापा, और उसने दुनिया को अलविदा कह दिया

कोविड-19 का कहर : मैं बचूंगा या नहीं घर गिरवी न रखना पापा, और उसने दुनिया को अलविदा कह दिया

लखनऊ: कोविड-19 का कहर तो है ही पर तमाम कोविड-19 संक्रमित मरीज आर्थिक परेशानी की वजह से भी कोविड-19 वायरस का मुकाबला नहीं कर पा रहे हैं. इस कोविड-19 काल में प्रदेश में ऐसे कई केस, कई कहानियों में परिवर्तित हो गए हैं. यदि पढ़ेंगे तो आंखें भर आएंगी. और तब समझ पाएंगे कोविड-19 के हमले का सबसे अधिक प्रभाव किस पर हो रहा है. यह शब्द वो युवा बोलकर चला गया, शब्द हैं पापा! मुझे भगवान भरोसे छोड़ दो, घर गिरवी न रखना. शुक्रवार को कोविड-19 से इस 23 वर्ष के बेटे का मृत्यु हो गया.

बिना पैसों नहीं होगा उपचार :- उन्नाव निवासी रामशंकर के लिए 17 अप्रैल का दिन अच्छा नहीं था. उस दिन के बाद तो घर में सब कुछ समाप्त हो गया. पत्नी जलज और बेटे सुशील (23 वर्ष) कोविड-19 संक्रमित हो गए. पत्नी तो ठीक होने लगी पर जवान बेटा तो बुरे दशा में आा गया. उन्नाव से कानपुर गए कहीं बेड नहीं मिला. तीन दिन बाद बेटे को लेकर लखनऊ आए. यहां एक निजी हॉस्पिटल में बेड मिल गया. डाक्टरों ने पहले अस्सी हजार रुपए जमा कराए. और रोजाना 25 हजार का खर्च बताया. रामशंकर क्या करते जो जमा पूंजी थी वह पहले ही खर्च कर चुके थे. पैसों की और आवश्यकता पड़ी तो बेटी की विवाह के जेवर बेच दिए. रामशंकर को 3.30 लाख रुपए मिले.

आपकी आखें भर आएंगी :- छोटी सी परचून की दुकान से रामशंकर के घर का खर्चा चलता था. उपचार के लिए और पैसे चाहिए थे. अंत में रामशंकर ने अपना पुश्तैनी घर गिरवी रखने का निर्णय किया. हॉस्पिटल में भर्ती बेटे सुशील को जब यह पता चला तो हॉस्पिटल के एक वार्ड ब्वाय के मोबाइल से पिता से बात की. उसने पिता से जो बोला उसे पढ़कर आपकी आखें भर आएंगी.

मुझे भगवान भरोसे छोड़ दो :- चार मई की शाम को सुशील ने पिता से कहाकि, पापा! मुझे भगवान भरोसे छोड़ दो, घर गिरवी न रखना,और कोविड-19 ने बेटे की छीनीं सांसें मेरे उपचार के लिए मम्मी के जेवर बिक गए. आपके खाते में जो पैसे थे वे भी समाप्त हो गए. मुझे पता चला है कि आप उन्नाव बाई पास वाला घर आप गिरवी रखने जा रहे हैं. मेरा उपचार कराने में सब बरबाद हो जाएगा. पम्मी (बहन) की विवाह कैसे होगी. मैं बचूंगा या नहीं, यह पक्का नहीं है. मुझे भगवान भरोसे छोड़ दो.’ तीन दिन बाद सुशील ने इस रहती दुनिया को अलविदा कह दिया.

दाह संस्कार कर दिया :- शुक्रवार प्रातः काल सुशील के मृत्यु की समाचार सुन पिता बेहोश होकर गिर पड़े. हॉस्पिटल प्रशासन की तरफ से उपलब्ध कराई गई एम्बुलेंस से बेटे का मृत शरीर आलमबाग शमशान घाट पहुंचा. जहां उसका दाह संस्कार हुआ.


कोविड-19 का कहर : मैं बचूंगा या नहीं घर गिरवी न रखना पापा, और उसने दुनिया को अलविदा कह दिया       सीएम योगी ने कहा कि गोरखपुर में बनेगा 100 बेड का नया कोविड हॉस्पिटल , BRD में बढ़ेंगे 50 वेंटिलेटर बेड       ऑस्ट्रेलिया के जंगलों से आई इस भेड़ ने सोशल मीडिया पर मचा दी धूम       रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने स्पूतनिक वैक्सीन की तुलना AK-47 से की, कहा...       धरती पर आज गिरेगा चाइना का बेकाबू रॉकेट       Vladimir Putin ने रूसी कोरोना वैक्सीन को बताया दमदार, कहा...       दुनिया के सबसे बड़े Cargo Plane ने सहायता का सामान लेकर India के लिए भरी उड़ान       Imran Khan ने Indian Embassies की प्रशंसा क्या की, आग बबूला हो गए पाकिस्तानी       हिंदुस्तान से अपने देश तुरंत लौट आएं सभी लोग, अमेरिका की अपने नागरिकों से अपील       बाइसन को मारने US में निकली 12 वेकेंसी       यूनीसेफ ने हिंदुस्तान में बढ़ रहे कोविड-19 मामलों पर जताई चिंता, कहा...       व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि रूस की कोविड-19 वैक्सीन AK-47 जितनी भरोसेमंद       Africa में मिली इतने हजार वर्ष पुरानी कब्र, खुलेंगे कई अहम राज       भारतीय टीम में सिलेक्शन से दंग यह क्रिकेटर, बोले...       पूर्व भारतीय हॉकी कोच एमके कौशिक का मृत्यु       कोविड-19 बना काल: नहीं रहे BCCI के आधिकारिक स्कोरर केके तिवारी       कोविड-19 के विरूद्ध जंग में विराट के बाद ऋषभ पंत भी कूदे       इंग्लैंड जाने से पहले हिंदुस्तान में ही 8 दिन क्वारंटीन रहेगी टीम इंडिया       दिल जीत लेगी इस क्रिकेटर की दलील, बोले...       इंग्लैंड दौरे पर टीम इंडिया में हार्दिक पांड्या को क्यों नहीं मिली जगह