12वीं पास के लिए 58000 सरकारी नौकरियां, आज ही आया है रिजल्ट

12वीं पास के लिए 58000 सरकारी नौकरियां, आज ही आया है रिजल्ट

नई दिल्ली यूपी में सरकारी जॉब (sarkari naukri) की राह देख रहे 12वीं पास युवाओं के पास बहुत बढ़िया मौका है एक तरफ जहां आज उत्तर प्रदेश बोर्ड ने कक्षा 12वीं का रिजल्ट जारी कर दिया है तो वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश सरकार ने 12वीं पास स्टूडेंट्स के लिए 58000 पदों पर भर्ती निकाली है ये भर्ती ग्राम पंचायत स्तर पर पंचायत सहायक/एकाउंटेंट-कम-डाटा-एंट्री आपरेटर के पदों को भरने के लिए निकाली गई है खास बात यह है इन भर्तियों के लिए अभ्यर्थियों का चयन 10वीं और 12वीं की मेरिट के आधार पर किया जाएगा इसके लिए किसी तरह की इम्तिहान नहीं देनी होगी आवेदन 2 अगस्त से किए जा सकेंगे

इन पंचायत सहायकों की नियुक्ति संबंधित ग्राम पंचायत के प्रधान द्वारा आवेदन पत्र आमंत्रित करके की जाएगी जिसके बाद पंचायतों में जन सेवा केन्द्र और बीसी सखी के लिए जगह सुलभ कराने वाले सचिवालयों के संचालन के लिए पंचायत सहायक-कम-एकाउंटेंट-कम-डाटा एंट्री आपरेटर के पदों को भरा जाएगा इन पदों पर आवेदन के लिए अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश बोर्ड से इंटरमीडिएट की इम्तिहान उत्तीर्ण होनी चाहिए या फिर समकक्ष योग्यता रखने वाले उम्मीदवार भी आवेदन कर सकते हैं

18 से 40 साल के उम्मीदवार कर सकेंगे आवेदन

आवेदन के लिए अभ्यर्थी की आयु एक जुलाई 2021 को 18 साल से कम और 40 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए जबकि एससी, एसटी और ओबीसी के अभ्यर्थियों को अधिकतम आयु में पांच साल की छूट होगी आवेदन पत्र सादे कागज पर ग्राम पंचायत या संबंधित विकास खंड या जिला पंचायत राज ऑफिसर ऑफिस में जमा करना होगा इसमें शैक्षिक अर्हता, आयु एवं जाति संबंधी प्रमाण पत्र लगा होना जरूरी है

स्थानीय निवासी ही कर सकेंगे आवेदन

गौर करने वाली बात यह है कि यह भर्तियां पंचायत स्तर पर निकाली गई हैं ऐसे में अभ्यर्थियों को जिस पंचायत के लिए आवेदन करना है उसी का निवासी होना आवश्यक है


प्रयागराज में CBI ने SIT से अपने हाथ में ली महंत नरेन्द्र गिरि की संदिग्ध मृत्यु की जांच

प्रयागराज में CBI ने SIT से अपने हाथ में ली महंत नरेन्द्र गिरि की संदिग्ध मृत्यु की जांच

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की 20 सितंबर को प्रयागराज में संदिग्ध मृत्यु की जांच की कमान देश की शीर्ष जांच एजेंसी सीबीआइ ने संभाल ली है। सीएम योगी आदित्यनाथ के बीते बुधवार को महंत की मृत्यु की सीबीआइ जांच की संस्तुति की थी। इसमें केन्द्र सरकार के गृह मंत्रालय ने तत्परता दिखाई और गुरुवार रात नई दिल्ली में सीबीआइ ने केस दर्ज किया। इसके बाद टीम के कुछ सदस्य शुक्रवार रात प्रयागराज पहुंच गए।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि की संदिग्ध मृत्यु प्रकरण की जांच संभालने के बाद केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआइ) ने शनिवार को उत्तर प्रदेश सरकार की एसआइटी से केस अपने हाथ में ले लिया। सीबीआइ की इस छह सदस्यीय टीम का नेतृत्व सीबीआइ स्पेशल ब्रांच के एएसपी केएस नेगी कर रहे हैं। टीम के अन्य सदस्यों के साथ नेगी ने शनिवार को प्रयागराज में केस टेकओवर कर लिया है। सीबीआइ स्पेशल ब्रांच के एएसपी और इस केस के मुख्य जांच अधिकारी केएस नेगी टीम के अन्य कुछ सदस्यों के साथ शनिवार को प्रयागराज पहुंचे। प्रयागराज के इस केस की गंभीरता को समझते हुए शनिवार दोपहर बाद सीबीआइ के आइजी विप्लव चौधरी भी प्रयागराज पहुंचेंगे। वह इस दौरान श्री मठ बाघम्बरी गद्दी भी जा सकते हैं।

सीबीआइ के केस का चार्ज लेते ही एसआइटी ने सारी अपनी रिपोर्ट के साथ एफआइआर की कापी, पोस्टमार्टम रिपोर्ट, सीसीटीवी फुटेज, डीवीआर, महंत नरेन्द्र गिरि के मोबाइल तथा केस डायरी सहित दूसरे साक्ष्य सीबीआइ सौंप दिए हैं। इस केस में सीबीआइ की टीम ने प्रयागराज के जार्जटाउन थाने में दर्ज मुकदमे को ही आधार बनाया है। सीबीआइ टीम के कुछ सदस्य शुक्रवार देर शाम प्रयागराज पहुंचे। उन्होंने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात की। अब सीबीआइ की टीम एसआइटी के साथ पुलिस लाइन में बैठक के बाद जांच को आगे बढ़ाएगी।


तेज तर्रार अफसर हैं केएस नेगी

प्रयागराज में महंत नरेन्द्र गिरि की संदिग्ध मृत्यु के केस की जांच सीबीआइ की टीम जिन केएस नेगी के नेत्त्व में करेगी, उनकी गिनती शीर्ष जांच एजेंसी से चुनिंदा तेज अफसरों में की जाती है। माना जा रहा है कि उनकी जांच में निष्पक्ष निष्कर्ष शीर्ष ही सामने आएगा। सीबीआइ स्पेशल ब्रांच के एएसपी केएस नेगी की गिनती तेज तर्रार अफसरों में होती है। उन्होंने मुंबई बहुचर्चित शीना बोरा हत्याकांड के राजफाश में अहम भूमिका निभाई थी। नेगी के हाथ कमान आने से संतों को इस बात की उम्मीद जगी है कि अब तो इस गंभीर प्रकरण में दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा।


सेवादारों और शिष्यों की लोकेशन ट्रेस करेगी सीबीआइ

सीबीआइ ने केस अपने हाथ में लेते ही जांच की दिशा तथा दशा भी तय कर दी है। उनकी जांच में सबसे बड़ा मददगार महंत नरेन्द्र गिरि का मोबाइल भी है। अब सीबीआइ महंत की मृत्यु के कारण तलाशने में श्री मठ बाघम्बरी गद्दी के एक-एक सेवादारों और शिष्यों के बारे में जानकारी हासिल करेगी। यह भी पता लगाया जाएगा कि इस घटना के समय किसकी लोकेशन क्या थी। यह भी ट्रेस किया जाएगा कि उस दौरान कौन का शिष्य या सेवादार किस काम से मठ से बाहर निकला था। इसका भी पता लगाया किस-किस की ड्यूटी कहां पर थी।

प्रयागराज में 20 सितंबर की शाम श्री मठ बाघम्बरी गद्दी के एक कमरे में महंत की संदिग्ध दशा में मृत्यु हो गई थी। इस दौरान उनके कमरे में एक सुसाइड नोट भी बरामद किया गया था। पुलिस का दावा है महंत ने फंदे पर लटककर जान दी है। मगर घटना को लेकर कुछ संतों व अन्य लोगों ने हत्या का आरोप लगाते हुए सवाल उठाए थे। इसके बाद सोमवार की रात ही जार्जटाउन थाने में अमर गिरि की तहरीर पर महंत के शिष्य आनंद गिरि तथा बड़े हनुमान मंदिर के पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी व उनके पुत्र संदीप तिवारी के खिलाफ महंत को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महंत की मौत का कारण फांसी लगाना पाया गया। मुख्यमंत्री के निर्देश पर एसएसपी ने सीओ की अध्यक्षता में 18 सदस्यीय एसआइटी गठित की थी। एसआइटी ने आरोपित आनंद गिरि, बड़े हुनमान मंदिर के पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी, उसके बेटे संदीप को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।