यूपी में नहीं थम रही है पत्रकारों पर हमले की घटना

यूपी में नहीं थम रही है पत्रकारों पर हमले की घटना

वाराणसी: चौबेपुर थाना क्षेत्र के पूरनपट्टी में सुबह की शुरुआत अपराधियों ने पुलिस को चुनौती देने के साथ ही की है। बदमाशों ने चौबेपुर थाना क्षेत्र के पूरनपट्टी में ताबड़तोड़ गोलियां बरसा कर स्थानीय पत्रकार और उनके बेटे को बुरी तरह जख्मी कर दिया है। स्थानीय लोगों और पुलिस की मदद से इलाज के लिए उन्हें ट्रामा सेंटर ले जाया गया है। फिलहाल पुलिस इस मामले कि तफ्तीश में जुट गई है।

पड़ोसियों ने बरसाई गोलियां
चौबेपुर थाना क्षेत्र के पूरन पट्टी के रहने वाले सुरेन्द्र चौबे स्थानीय अख़बार में बतौर संवाददाता के तौर पर जुड़े हैं। पुलिस के मुताबिक शनिवार कि सुबह उनका बेटा घर के बाहर गाय को चारा दे रहा था, इसी दौरान पड़ोसियों से उसका विवाद शुरु हो गया। ज़ब तक लोग कुछ समझ पाते पड़ोसियों ने फायरिंग शुरु कर दी। गोलीबारी में सुरेन्द्र और उनका बेटा जख्मी हो गया। इसके साथ ही गाय को भी गोली लगी है।

जमीन के विवाद में हुई घटना
वारदात के बाद गांव में हड़कंप मच गया। आनन फानन में दोनों को पुलिस ने प्राथमिक उपचार के लिए पीएचसी चिरईगांव में भर्ती कराया, जहां ट्रामा सेंटर इलाज के लिए भेज दिया गया है।।प्राप्त जानकारी के अनुसार जमीन के विवाद को लेकर घटना को अंजाम दिया गया जिसमें सुरेन्द्र चौबे और उनके पुत्र को गोली मारी गयी। फिलहाल पुलिसकी पकड़ से अपराधी फरार है।मामले की जांच में पुलिस जुट गई है। तो वहीं गोली लगने से घायल पिता पुत्र की स्तिथि गम्भीर बताई जा रही है।


तम्बाकू पर चेतावनी: कानपुर में जागरूकता शिविर का आयोजन

तम्बाकू पर चेतावनी: कानपुर में जागरूकता शिविर का आयोजन

उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के निर्देशानुसार जिले में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। यह आयोजन कानपुर देहात के अकबरपुर के जिला अस्पताल में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव साक्षी गर्ग की अध्यक्षता में की गई।

राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, कानपुर देहात सचिव साक्षी गर्ग द्वारा विधिक जागरूकता शिविर में बताया गया कि राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत कोटपा अधिनियम 2003 के सिगरेट और तम्बाकू उत्पाद अधिनियम 2003 की धारा-4 (बी) एवं धारा-6 (बी) मे से सार्वजनिक स्थलों पर ध्रूमपान करना निषेध है। कोटपा अधिनियम 2003 की धारा-4 (बी) एवं धारा-6 (बी) के अन्तर्गत जन सामानय के साथ-साथ चिकित्सालय/कार्यालय/विद्यालय में कार्यरत अधिकारी/कर्मचारी/विद्यार्थी के स्वास्थ्य को दृष्टिगत रखते हुये परिसर को तम्बाकू मुक्त परिसर घोषित किया जाना है। निकोटिन के प्रभाव के चलते व्यक्ति को भूख प्यास कम लगने लगती है।

तम्बाकू राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम
जैसा कि तम्बाकू का सेवन विभिन्न तरीके से किया जाता है। सिगरेट सामान्य और सबसे अधिक हानिकारक है। बीड़ी आमतौर पर भारत में उपयोग किये जाने वाला सबसे सामान्य प्रकार है। सिगार, हुक्का, सीसा, तम्बाकू चबाना आदि स्वास्थ्य के लिये हानिकारक है। विधिक जागरूकता शिविर में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजेश कटियार, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. महेन्द्र जतारिया एवं जनपद सहायक स्वास्थ्य श्रीमती निधि बाजपेयी उपस्थित रहे।


Nia Sharma ने रवि दुबे को बताया 'बेस्ट किसर मैन' तो अब एक्टर ने किया रिएक्ट, कहा...       कल ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज़ होंगी ये वेब सीरीज़ और फ़िल्में       Kiston Song: जाह्नवी कपूर-राजकुमार राव की फिल्म 'रूही' का दूसरा गाना 'किस्तों' रिलीज       Zeenat Aman के इंडस्ट्री में इतने साल पूरे होने पर भावुक हुईं पाकिस्तानी एक्ट्रेस सोमी अली       इस एक्ट्रेस के साथ जब शख्स ने भीड़ में की ऐसी हरकत, एक्ट्रेस भी हुईं हैरान       इन खिलाड़ियों को मिली जगह, इंग्लैंड के खिलाफ T20 सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान       जिम को देखकर चौंके भारतीय खिलाड़ी, दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम के मुरीद हुए क्रिकेटर       पहले उनके खिलाफ खेला, अब उनके साथ खेलने को बेताब हूं : राहुल तेवतिया       T20 सीरीज के लिए जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी का चयन क्यों नहीं हुआ       इंग्लैंड के खिलाफ T20 और वनडे सीरीज में कमेंट्री करेगा ये भारतीय विकेटकीपर       कस्तूरबा गांधी: सफलता के पीछे रहा अहम योगदान, बापू का हर कदम पर दिया साथ       जिनके निधन पर आज रो रहा देश का हर किसान, जानिए कौन हैं दातार सिंह       महाराष्ट्र में मचा हाहाकार, 34 जिलों में तत्काल हाई अलर्ट जारी       नारायणसामी ने दिया इस्तीफा: पुडुचेरी में गिरी कांग्रेस सरकार       7 बार चुनकर पहुंचे थे लोकसभा, मुंबई के होटल में मिला इस दिग्गज नेता का शव       लाइलाज नहीं है डिप्रेशन और कम उम्र में भी हो सकती है इसकी समस्या, जानें       बहुत ही आसानी से पा सकते हैं बढ़ते वजन से छुटकारा, बस करने होंगे रूटीन में ये जरूरी बदलाव       शुगर लेवल कंट्रोल करना है तो नाश्ते में शामिल करें ये 5 जादुई चीज़ें       डेंगू में रामबाण इलाज है बकरी का दूध, जानें       गर्मियों में कूल और हेल्दी रहने के लिए खाएं फ्रूट कस्टर्ड, जानें