विराट कोहली के नाम बतौर कप्तान IPL में दर्ज हैं बड़े-बड़े रिकार्ड्स, कई मामलों में माही भी हैं पीछे

विराट कोहली के नाम बतौर कप्तान IPL में दर्ज हैं बड़े-बड़े रिकार्ड्स, कई मामलों में माही भी हैं पीछे

आइपीएल 2021 के एलिमिनेटर मैच में आरसीबी की हार के साथ विराट कोहली की कप्तानी की सफर भी इस लीग में खत्म हो गया। अब कोहली का बतौर कप्तान वो आक्रमक अंदाज मैदान पर क्रिकेट फैंस को नजर नहीं आएगा। वो टीम में खिलाड़ी के तौर पर शामिल तो रहेंगे, लेकिन कप्तान का अपना एक अलग रुतबा होता है और वो अब टीम की अगुआई करते नहीं दिखेंगे। कोहली ने बतौर कप्तान आरसीबी को खिताब दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी, लेकिन कई बार मेहनत के मुताबिक फल नहीं मिलता है और आपको खाली हाथ रहना पड़ता है। विराट इस टीम को आइपीएल में चैंपियन तो नहीं बना पाए, लेकिन बतौर कप्तान काफी कुछ हासिल किया और कई रिकार्ड्स बनाए। 

आइपीएल के एक सीजन में बतौर कप्तान कोहली के नाम सबसे ज्यादा रन

आइपीएल के एक सीजन में बतौर कप्तान विराट कोहली के नाम पर सबसे ज्यादा रन दर्ज हैं और ये रिकार्ड किसी के लिए भी तोड़ना बिल्कुल भी आसान नहीं होने वाला है। उन्होंने साल 2016 में चार शतक के साथ 973 रन बनाए थे और ये उपलब्धि अपने नाम की थी।

आइपीएल के एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले टाप 6 कप्तान-

973 रन- विराट कोहली [2016]

848 रन- डेविड वार्नर [2016]

735 रन- केन विलियिमसन [2018]

649 रन- केएल राहुल [2020]

641 रन- डेविड वार्नर [2017]

634 रन- विराट कोहली [2013]

कोहली के नाम बतौर कप्तान आइपीएल में सबसे ज्यादा रन

विराट कोहली के नाम पर आइपीएल में बतौर कप्तान सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकार्ड दर्ज है। उन्होंने 140 मैचों में कप्तानी की और इस दौरान उन्होंने 4881 रन बनाए। वहीं धौनी इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं और उनके नाम पर 4456 रन दर्ज है।  


कप्तान के तौर पर आइपीएल में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले टाप 5 बल्लेबाज-

4881 रन- विराट कोहली 

4456 रन- MS Dhoni 

3518 रन- गौतम गंभीर 

3406 रन- रोहित शर्मा  

2840 रन- डेविन वार्नर 

कोहली ने नाम बतौर कप्तान आइपीएल जीत में है सबसे ज्यादा रन

विराट कोहली ने आइपीएल में बतौर कप्तान अपनी टीम के लिए जीते हुए मैचों में सबसे ज्यादा रन बनाए थे और उनके नाम पर कुल 2697 रन दर्ज है। वहीं इस मामले में धौनी दूसरे नंबर पर हैं और उनके काफी करीब है। धौनी ने कप्तान के तौर पर सीएसके के लिए जीते हुए मुकाबलों में कुल 2679 रन बनाए हैं। 


आइपीएल जीत में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले टाप 5 कप्तान-

2697 रन- विराट कोहली

2679 रन- MS Dhoni

2374 रन- गौतम गंभीर

2305 रन- रोहित शर्मा

1787 रन- डेविड वार्नर


किसने किसको धोखा दिया, ऐसी क्या मजबूरी आ गई कि हार्दिक पांड्या को टीम में रखना जरूरी हो गया

किसने किसको धोखा दिया, ऐसी क्या मजबूरी आ गई कि हार्दिक पांड्या को टीम में रखना जरूरी हो गया

यहां कौन किसको धोखा दे रहा है? हार्दिक पांड्या, चयनकर्ता को या चयनकर्ता, टीम को या टीम, प्रशंसकों को? बीसीसीआइ को इसे देखना होगा क्योंकि जो पांड्या रविवार को खुद कह रहे थे कि अभी वह गेंदबाजी करने की स्थिति में नहीं हैं, उन्हें चयनकर्ताओं ने करीब एक महीने पहले किस आधार पर आलराउंडर मानते हुए विश्व कप की टीम में रख दिया। चयनसमिति के अध्यक्ष चेतन शर्मा ने नौ सितंबर को कहा था कि हार्दिक 100 फीसद फिट हैं और वह हर मैच में अपने कोटे के पूरे ओवर डालेंगे। हार्दिक भारत के शीर्ष आलराउंडर हैं और हम टीम में ज्यादा से ज्यादा आलराउंडर रखना चाहते हैं। विश्व कप से पहले हम उन्हें बचाना चाह रहे थे, लेकिन वह 100 फीसद फिट हैं।


इसका मतलब है कि या तो चेतन शर्मा झूठ बोल रहे हैं या पांड्या? पांड्या झूठ बोल नहीं सकते क्योंकि उन्हें उनके शरीर के बारे में सबसे ज्यादा पता है। हालांकि यह जरूर हो सकता है कि चयनकर्ताओं को टीम प्रबंधन की तरफ से पांड्या के बारे में यह बताया गया हो कि वह विश्व कप तक गेंदबाजी के लिए फिट हो जाएंगे, लेकिन ऐसे में क्या चयनकर्ताओं ने पांड्या की फिटनेस रिपोर्ट नहीं देखी? क्या उन्होंने सिर्फ मुंह जुबानी दिए वादों को मानकर इतना बड़ा फैसला कर लिया। टीम घोषणा के बाद यूएई में ही आइपीएल का दूसरा चरण हुआ जिसमें पांड्या ने मुंबई इंडियंस के लिए एक भी गेंद नहीं फेंकी। जब इस बारे में मुंबई इंडियंस के कप्तान और भारतीय टीम के उप कप्तान रोहित शर्मा से नौ अक्टूबर को पूछा गया तो उन्होंने कहा था कि वह अगले सप्ताह से गेंदबाजी करना शुरू कर देंगे। फिजियो और ट्रेनर उनके साथ काम कर रहे हैं। वह हर दिन बेहतर हो रहे हैं। हालांकि सही जानकारी डाक्टर और फिजियो दे पाएंगे।


इसके बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने 23 अक्टूबर को कहा कि मुझे लगता है कि टूर्नामेंट में एक समय पर हार्दिक दो ओवर डालने की स्थिति में होंगे। एक बार फिर चयनकर्ता का रोल आता है। आइसीसी ने टीम में परिवर्तन की अंतिम तारीख बढ़ाई थी। इस दौरान चयनकर्ताओं ने देख लिया था कि पांड्या मुंबई के लिए गेंदबाजी नहीं कर रहे हैं तो टीम में बदलाव किया जा सकता था लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। उन्होंने पांड्या की गेंदबाजी नहीं करने की स्थिति को देखते हुए स्पिनर अक्षर पटेल की जगह तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर को 15 सदस्यीय टीम में शामिल किया लेकिन वह कड़ा फैसला नहीं ले सके।


फिलहाल गेंदबाजी करने की स्थिति में नहीं हैं पांड्या : अब ये लोग जो भी कह रहे हों, एक जानकार के नाते मैं ये कह सकता हूं कि आइसीसी अकादमी में 20 अक्टूबर को आस्ट्रेलिया के खिलाफ हुए मैच में पांड्या गेंदबाजी करने की स्थिति में तो दूर तेजी से झुकने की स्थिति में भी नजर नहीं आ रहे थे। जब बाहर से बैठकर हम लोगों को यह दिख रहा था तो अंदर बैठे लोगों को यह नहीं दिख रहा होगा ऐसा तो हो नहीं सकता। अब या तो उन्होंने ना दिखने का नाटक किया या वे देखना ही नहीं चाहते हैं।

पाकिस्तान के खिलाफ महामुकाबले में पांड्या ने आठ गेंदों में 11 रन बनाए। इसमें एक चौका तो उनके बल्ले से छूकर पीछे की तरफ चौके के लिए गया। इसमें वह भाग्यशाली रहे। एक चौका उन्होंने फुलटास गेंद पर मारा। पाकिस्तानी गेंदबाजों को पता था कि उनकी कमर में समस्या है और यही कारण था कि उनके गेंदबाज आफ स्टंप के बाहर गेंद खिला रहे थे। इसी कारण पांड्या ने दो गेंद मिस भी कीं। इसी दौरान एक गेंद उनके कंधे में लगी और उनका स्कैन किया गया है। बीसीसीआइ ने अभी तक स्कैन के आगे का अपडेट नहीं दिया है।


ऐसी क्या मजबूरी : भारतीय टीम को पांड्या को खिलाने की ऐसी क्या मजबूरी है? अगर वह फिट नहीं हैं तो उन्हें फिट होने देना चाहिए क्योंकि वह गेंद तो छोडि़ए बल्ले से भी मैच जिताने की स्थिति में नजर नहीं आ रहे हैं। हालांकि जितना मुझे पता है रोहित ही नहीं, विराट और मेंटर महेंद्र सिंह धौनी भी उन्हें पसंद करते हैं। एक बात और हार्दिक ने पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पहले कहा था कि मेरी पीठ ठीक है। पहले परेशानी थी। अभी मैं गेंदबाजी नहीं करूंगा। नाकआउट के नजदीक में मैं गेंदबाजी करने की स्थिति में रहूंगा।


चेतन शर्मा (मुख्य चयनकर्ता), नौ सितंबर : हार्दिक सौ फीसद फिट हैं। वह हर मैच में अपने कोटे के पूरे ओवर डालेंगे।

रोहित शर्मा (उप कप्तान), नौ अक्टूबर : हार्दिक अगले सप्ताह से गेंदबाजी करना शुरू कर देंगे। वह हर दिन बेहतर हो रहे हैं।

विराट कोहली (कप्तान), 23 अक्टूबर : टूर्नामेंट में एक समय पर हार्दिक दो ओवर डालने की स्थिति में होंगे।


हार्दिक पांड्या, 24 अक्टूबर : फिलहाल मैं गेंदबाजी नहीं करूंगा। मैं नाकआउट के पास में गेंद डालने की स्थिति में रहूंगा।

समस्या कहां है

अक्टूबर-2019 में पांड्या ने लंदन में लोअर बैक सर्जरी कराई। इसके बाद से उनका करियर डगमगा गया है। 2018 के बाद से उन्हें किसी टेस्ट मैच में खेलने का मौका नहीं मिला। जहां तक टी-20 की बात है तो उन्होंने आपरेशन के बाद इस साल अहमदाबाद में इंग्लैंड के खिलाफ पांच टी-20 मैचों में 17 और श्रीलंका के खिलाफ एक मैच में दो ओवर डाले। इन छह मैचों में उन्होंने चार विकेट भी लिए लेकिन उनकी वह फार्म नहीं दिखी जिसके लिए वह जाने जाते थे।