तमिलनाडु ने धमाकेदार जीत से रचा इतिहास, हैदराबाद को पीट पहुंची फाइनल में

तमिलनाडु ने धमाकेदार जीत से रचा इतिहास, हैदराबाद को पीट पहुंची फाइनल में

भारत की घरेलू टी20 टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली ट्राफी के फाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम का फैसला हो गया है। तमिलनाडु ने धमाकेदार प्रदर्शन के दम पर हैदराबाद को मात देकर लगातार तीसरी बार फाइनल में जगह पक्की की। इस टूर्नामेंट में ऐसा करने वाली तमिलनाडु पहली टीम बन गई है। घातक गेंदबाजी के दम पर टीम ने पहले हैदराबाद को 90 रन पर समेटा और फिर 14.2 ओवर में 2 विकेट गंवाकर लक्ष्य हासिल कर शान से फाइनल का टिकट पक्का किया।


शनिवार को खेले गए टूर्नामेंट के पहले सेमीफाइनल में तमिलनाडु के कप्तान विजय शंकर ने टास जीतकर पहले गेंदबाजी चुनी। पी श्रवण कुमार की धारदार गेंदबाजी के आगे हैदराबाद की बल्लेबाजी बेबस नजर आई। इस बड़े मैच में कुमार ने अकेले आधी हैदराबाद की आधी टीम को मैदान से वापस लौटने पर मजबूर कर दिया। 3.3 ओवर में श्रवन ने 21 रन दिए और 5 विकेट चटकाए। मुरुगन अश्विन एम मोहम्मद ने 2-2 विकेट हासिल किए। साई किशोर को एक विकेट मिला।


91 रन के छोटे से लक्ष्य का पीछा करने उतरी तमिलनाडु की टीम को पहला झटका 15 रन के स्कोर पर लगा। एन जगदीशन महज 1 रन बनाकर ही वापस लौट गए। इसके बाद इसी ओवर में हरि निशांत भी आउट हो गए। 16 रन पर दो विकेट गंवाने के बाद कप्तान विजय (43) ने साई सुदर्शन (34) के साथ मिलकर मैच को खत्म कर टीम को फाइनल में पहुंचाया।

लगातार तीसरी बार फाइनल में

सैयद मुश्ताक अली ट्राफी फाइनल में लगातार तीसरी बार पहुंचकर तमिल नाडु की टीम ने इतिहास रचा है। इससे पहले किसी भी टीम ने ऐसा कमाल नहीं किया था। तमिल नाडु की टीम ने पिछले दो लगातार सीजन में फाइनल में जगह बनाई थी। 2019-20 में टीम को कर्नाटक ने हराया था जबकि पिछले सीजन में बड़ौदा को हरा तमिल नाडु की टीम चैंपियन बनी थी।


जीत के लिए अब 280 रन की जरूरत, दूसरी पारी में कीवी टीम ने गंवाया एक विकेट

जीत के लिए अब 280 रन की जरूरत, दूसरी पारी में कीवी टीम ने गंवाया एक विकेट

कानपुर के ग्रीनपार्क स्टेडियम में भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहला टेस्ट मैच खेला जा रहा है। भारत ने दूसरी पारी में श्रेयस अय्यर और साहा की अर्धशतकीय पारी के दम पर 7 विकेट पर 234 रन बनाए  और कप्तान रहाणे ने पारी की घोषणा कर दी। इसके बाद भारत की दूसरी पारी में कुल बढ़त 283 रन की हो गई और न्यूजीलैंड को जीत के लिए 284 रन बनाने हैं। दूसरी पारी में चौथे दिन का खेल खत्म होने तक न्यूजीलैंड की टीम ने एक विकेट खोकर चार रन बना लिए हैं और उसे जीत के लिए अभी 280 रन बनाने हैं। न्यूजीलैंड की तरफ से टाम लाथम और विलियम समरविले क्रीज पर मौजूद हैं। 

न्यूजीलैंड की दूसरी पारी, विल यंग आउट हुए

न्यूजीलैंड की टीम ने अपना पहला विकेट दूसरी पारी में सिर्फ 3 रन पर विल यंग के रूप में खो दिया। विल यंग इस पारी में 2 रन बनाकर आर अश्विन की गेंद पर पगबाधा आउट हो गए। 

भारत की दूसरी पारी, अय्यर व साहा के अर्धशतक

तीसरे दिन के खेल के बाद 14/1 से आगे खेलते हुए भारत को दूसरी पारी में दूसरा झटका चेतेश्वर पुजारा के रूप में लगा जो 22 रन बनाकर काइल जेमिसन की गेंद पर विकेट के पीछे टाम ब्लंडेल के हाथों कैच आउट हए। भारत को तीसरा झटका कप्तान अजिंक्य रहाणे के रूप में लगा जो 4 रन के निजी स्कोर पर एजाज पटेल की गेंद पर lbw आउट होकर पवेलियन लौटे। 

भारत को चौथा झटका मयंक अग्रवाल के तौर पर लगा, जो 17 रन बनाकर टिम साउथी की गेंद पर टाम लाथम के हाथों कैच आउट होकर पवेलियन लौटे। दो गेंद बाद रवींद्र जडेजा भी चलते बने। साउथी उनको बिना खाता खोले lbw आउट कर भारत को पांचवां झटका दिया। इस तरह कानपुर टेस्ट मैच में मुश्किल में भारतीय टीम है। छठवें विकेट के लिए आर अश्विन और श्रेयस अय्यर के बीच 50 रन से ज्यादा की साझेदारी हुई। 

हालांकि, आर अश्विन 62 गेंदों में 32 रन की पारी खेलकर काइल जेमिसन की गेंद पर क्लीन बोल्ड हो गए। इस तरह भारत को छठा झटका लगा। वहीं, पहली पारी में डेब्यू मैच में शतक ठोकने वाले श्रेयस अय्यर ने दूसरी पारी में भी धैर्य दिखाया और 109 गेंदों में अर्धशतक जड़ा। चौथे दिन टी ब्रेक से ठीक पहले श्रेयस अय्यर 125 गेंदों में 65 रन बनाकर आउट हो गए। उनको टिम साउथी ने टाम ब्लंडेल के हाथों कैच आउट कराया।  इसके बाद साहा ने 61 रन बनाए और नाबाद रहे जबकि अक्षर पटेल 28 नाबाद रन बनाकर पवेलियन लौटे। 

मैच का लेखा-जोखा

भारतीय टीम ने इस मैच में टास जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी थी और श्रेयस अय्यर के शतक, शुभमन गिल और रवींद्र जडेजा के अर्धशतकों के दम पर भारत ने 345 रन बनाए थे। इसके जवाब में न्यूजीलैंड की टीम ने टाम लाथम और विल यंग के अर्धशतकों की बदौलत 296 रन बनाए। इस तरह पहली पारी के आधार पर भारत को 49 रन की बढ़त मिली। वहीं, तीसरे दिन के खेल समाप्त होने तक भारत ने 63 रन की बढ़त हासिल कर ली थी।