कानपुर टेस्ट की पिच देख क्यूरेटर से की बात; अभ्यास पिचों से दिखे नाखुश, सुधारने को कहा

कानपुर टेस्ट की पिच देख क्यूरेटर से की बात; अभ्यास पिचों से दिखे नाखुश, सुधारने को कहा

टीम इंडिया के कप्तान अजिंक्य रहाणे और कोच राहुल द्रविड़ सोमवार को कानपुर में बायो बबल का घेरा तोड़कर ग्रीन पार्क स्टेडियम पहुंच गए। दोनों शाम करीब 4.30 बजे वहां पहुंचे। उन्होंने मैदान और पिच का बारीकी से निरीक्षण किया।

क्यूरेटर एल. प्रशांत राव से मुलाकात कर विकेट के नेचर के बारे में भी बात की। वह नए ड्रेसिंग रूम में करीब 15 मिनट तक रुके। कोच ने अभ्यास पिचों का निरीक्षण कर उसमें सुधार करने को भी कहा। वह अभ्यास पिचों के स्तर से थोड़ा नाखुश थे। भारतीय टीम मंगलवार दोपहर 2 बजे से प्रैक्टिस करेगी।

नहीं माने BCCI के निर्देश
BCCI के सख्त निर्देश थे कि कोई भी खिलाड़ी बायो बबल का घेरा तोड़ नहीं सकता, लेकिन कप्तान अजिंक्य रहाणे और कोच राहुल द्रविड़ ने उन निर्देशों को नजरअंदाज कर दिया। इससे पहले IPL के दौरान भी KKR (कोलकाता नाइट राइडर्स) के कुछ खिलाड़ियों ने बायो बबल का घेरा तोड़ा था। इसके बाद उस टीम के पांच खिलाड़ी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। BCCI ने उन खिलाड़ियों पर जुर्माना भी लगाया था।

एयरपोर्ट से होटल और उसके बाद पहुंचे ग्रीन पार्क
कप्तान अजिंक्य रहाणे तो कानपुर में पहले से आइसोलेट थे, लेकिन कोच राहुल द्रविड़ सोमवार को कानपुर पहुंचे। वह होटल से अजिंक्य रहाणे के साथ सीधे ग्रीन पार्क मैदान पहुंच गए। जहां उन्होंने पिच का निरीक्षण किया।


जीत के लिए अब 280 रन की जरूरत, दूसरी पारी में कीवी टीम ने गंवाया एक विकेट

जीत के लिए अब 280 रन की जरूरत, दूसरी पारी में कीवी टीम ने गंवाया एक विकेट

कानपुर के ग्रीनपार्क स्टेडियम में भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहला टेस्ट मैच खेला जा रहा है। भारत ने दूसरी पारी में श्रेयस अय्यर और साहा की अर्धशतकीय पारी के दम पर 7 विकेट पर 234 रन बनाए  और कप्तान रहाणे ने पारी की घोषणा कर दी। इसके बाद भारत की दूसरी पारी में कुल बढ़त 283 रन की हो गई और न्यूजीलैंड को जीत के लिए 284 रन बनाने हैं। दूसरी पारी में चौथे दिन का खेल खत्म होने तक न्यूजीलैंड की टीम ने एक विकेट खोकर चार रन बना लिए हैं और उसे जीत के लिए अभी 280 रन बनाने हैं। न्यूजीलैंड की तरफ से टाम लाथम और विलियम समरविले क्रीज पर मौजूद हैं। 

न्यूजीलैंड की दूसरी पारी, विल यंग आउट हुए

न्यूजीलैंड की टीम ने अपना पहला विकेट दूसरी पारी में सिर्फ 3 रन पर विल यंग के रूप में खो दिया। विल यंग इस पारी में 2 रन बनाकर आर अश्विन की गेंद पर पगबाधा आउट हो गए। 

भारत की दूसरी पारी, अय्यर व साहा के अर्धशतक

तीसरे दिन के खेल के बाद 14/1 से आगे खेलते हुए भारत को दूसरी पारी में दूसरा झटका चेतेश्वर पुजारा के रूप में लगा जो 22 रन बनाकर काइल जेमिसन की गेंद पर विकेट के पीछे टाम ब्लंडेल के हाथों कैच आउट हए। भारत को तीसरा झटका कप्तान अजिंक्य रहाणे के रूप में लगा जो 4 रन के निजी स्कोर पर एजाज पटेल की गेंद पर lbw आउट होकर पवेलियन लौटे। 

भारत को चौथा झटका मयंक अग्रवाल के तौर पर लगा, जो 17 रन बनाकर टिम साउथी की गेंद पर टाम लाथम के हाथों कैच आउट होकर पवेलियन लौटे। दो गेंद बाद रवींद्र जडेजा भी चलते बने। साउथी उनको बिना खाता खोले lbw आउट कर भारत को पांचवां झटका दिया। इस तरह कानपुर टेस्ट मैच में मुश्किल में भारतीय टीम है। छठवें विकेट के लिए आर अश्विन और श्रेयस अय्यर के बीच 50 रन से ज्यादा की साझेदारी हुई। 

हालांकि, आर अश्विन 62 गेंदों में 32 रन की पारी खेलकर काइल जेमिसन की गेंद पर क्लीन बोल्ड हो गए। इस तरह भारत को छठा झटका लगा। वहीं, पहली पारी में डेब्यू मैच में शतक ठोकने वाले श्रेयस अय्यर ने दूसरी पारी में भी धैर्य दिखाया और 109 गेंदों में अर्धशतक जड़ा। चौथे दिन टी ब्रेक से ठीक पहले श्रेयस अय्यर 125 गेंदों में 65 रन बनाकर आउट हो गए। उनको टिम साउथी ने टाम ब्लंडेल के हाथों कैच आउट कराया।  इसके बाद साहा ने 61 रन बनाए और नाबाद रहे जबकि अक्षर पटेल 28 नाबाद रन बनाकर पवेलियन लौटे। 

मैच का लेखा-जोखा

भारतीय टीम ने इस मैच में टास जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी थी और श्रेयस अय्यर के शतक, शुभमन गिल और रवींद्र जडेजा के अर्धशतकों के दम पर भारत ने 345 रन बनाए थे। इसके जवाब में न्यूजीलैंड की टीम ने टाम लाथम और विल यंग के अर्धशतकों की बदौलत 296 रन बनाए। इस तरह पहली पारी के आधार पर भारत को 49 रन की बढ़त मिली। वहीं, तीसरे दिन के खेल समाप्त होने तक भारत ने 63 रन की बढ़त हासिल कर ली थी।