रोमांचक मैच में झूलन ने आखिरी गेंद डाली 'No Ball'

रोमांचक मैच में झूलन ने आखिरी गेंद डाली 'No Ball'

सलामी बल्लेबाज बेथ मूनी की नाबाद शतकीय पारी के दम पर आस्ट्रेलियाई महिला टीम ने तीन मैचों की सीरीज के रोमांचक दूसरे वनडे में भारत को पांच विकेट से हराकर 2-0 की अजेय बढ़त हासिल कर ली। भारतीय महिला टीम आस्ट्रेलिया के विजयी अभियान को थामने के लिए बेताब थी। जिसके चलते मैच के अंतिम पल में अनुभवी तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी दबाव को झेल नहीं सकीं व दो नो बाल कर बैठी। भारतीय महिला टीम अंतिम गेंद के बाद जश्न भी मनाने लगी थी लेकिन बाद में अंपायर ने नो बाल देकर इस मजे को किरकिरा कर दिया। वहीं आस्ट्रेलिया ने इसका फायदा उठाते हुए वनडे प्रारूप में लगातार 26वीं जीत दर्ज की।

अंतिम ओवर का रोमांच :


आखिरी ओवर में आस्ट्रेलिया को जीत के लिए 13 रन की जरूरत थी और गेंद झूलन के हाथ में थी। मूनी ने गोस्वामी की पहली गेंद पर तीन रन लिए और कैरी ने दूसरी गेंद पर दो रन लिए। इसके बाद गोस्वामी ने तीसरी गेंद कमर से अधिक ऊंचाई पर फेंकी और वह सीधे कैरी के सिर पर लगी और वह हेलमेट पहने होने के कारण बाल-बाल चोटिल होने से बच गईं। यह गेंद नोबाल हुई और नो बाल के कारण एक रन मिल गया।

झूलन ने फिर से तीसरी गेंद फेंकी और एक रन दिया। चौथी गेंद पर एक रन जबकि पांचवी गेंद पर दो रन गए। अंतिम गेंद पर आस्ट्रेलिया को तीन रन चाहिए तभी यह गेंद भी गोस्वामी ने कमर से अधिक ऊंचाई पर डाली और आस्ट्रेलिया की बल्लेबाज कैरी एक भी रन नहीं बना सकी। इस पर भारतीय महिलाएं जश्न मनाने लगी तभी अंपायर ने नो बाल करार दिया और अगली गेंद पर दो रन लेकर आस्ट्रेलिया ने जीत हासिल कर ली।

इस हार के लिए भारतीय गेंदबाजी के साथ लचर फील्डिंग भी बड़ा कारण रहा। भारतीय खिलाडि़यों ने कई कैच टपकाए। जीत के लिए 275 रन के लक्ष्य का पीछा कर रही आस्ट्रेलिया टीम अपनी पारी के शुरुआती 25 ओवरों में दबाव में थी लेकिन मूनी की 133 गेंद में 125 रन की नाबाद साहसिक पारी के दम पर लक्ष्य का पीछा करते हुए महिला क्रिकेट में सफलतापूर्वक सबसे बड़ा लक्ष्य हासिल किया।


आस्ट्रेलियाई टीम 52 रन पर चार विकेट गंवाकर मुश्किल में थी लेकिन मूनी ने ताहलिया मैकग्रा (77 गेंद में 74 रन) के साथ भी 126 रन की साझेदारी कर जीत की नींव रखी। इस दौरान भारतीय स्पिनरों दीप्ति शर्मा और पूनम यादव ने एक बार फिर निराश किया। दोनों ने मिलकर 15 ओवर में 98 रन लुटाए। आस्ट्रेलिया टीम का जीत का यह सिलसिला 2018 में शुरू हुआ था जिसके बाद उसके खिलाफ बना यह सबसे बड़ा स्कोर था।


इससे पहले सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना की 86 रन की संयमित पारी के दम पर भारतीय टीम ने सात विकेट पर 274 रन बनाए। टास हारने के बाद पहले बल्लेबाजी का निमंत्रण मिलने पर मंधाना और शेफाली वर्मा (22) ने पहले विकेट के लिए 74 रन की साझेदारी निभाई। शेफाली (22 रन) को 12वें ओवर में सोफी मोलिनेक्स ने बोल्ड किया।

मंधाना ने इसके बाद विकेटकीपर बल्लेबाज रिचा घोष (44) के साथ भी चौथे विकेट के लिए 76 रन की शानदार साझेदारी की। भारत की ओर से पूजा वस्त्राकर ने 29 और झूलन गोस्वामी ने नाबाद 28 रन बना कर अच्छा योगदान दिया और स्कोर को 274 तक पहुंचाया। आस्ट्रेलिया की तरफ से ताहलिया मैकग्रा ने 45 रन देकर तीन विकेट लिए जबकि मोलिनेक्स ने दो विकेट झटके।


अफगानिस्तान का टी20 विश्व कप में स्काटलैंड पर धमाकेदार जीत से आगाज

अफगानिस्तान का टी20 विश्व कप में स्काटलैंड पर धमाकेदार जीत से आगाज

अफगानिस्तान की टीम ने आइसीसी टी20 विश्व कप में सुपर 12 मुकाबले का आगाज धमाकेदार जीत के साथ किया। सोमवार को स्काटलैंड के खिलाफ टीम ने पहले 190 रन का स्कोर खड़ा किया और फिर महज 60 रन पर उसे समेट बड़ी जीत हासिल की। स्पिनर मुजीब उर रहमान ने 5 विकेट झटके जबकि अनुभवी राशिद ने 4 बल्लेबाजों को आउट किया। टी20 क्रिकेट में यह अफगानिस्तान की अब तक की सबसे बड़ी जीत है। इस मैच में एक साथ टीम कई रिकार्ड अपने नाम कर लिए।


स्काटलैंड के खिलाफ अफगानिस्तान के कप्तान मोहम्मद नबी ने टास जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया। 20 ओवर में टीम ने 4 विकेट पर 190 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया। लक्ष्य का पीछा करने उतरी स्काटलैंड पर अफगानी स्पिनर जोड़ी मुजीब और राशिद ने घातक गेंदबाजी आक्रमण किया। पूरी टीम महज 60 रन पर सिमट गई और अफगानिस्तान की टीम टी20 विश्व कप में सबसे बड़ी जीत हासिल करने वाली दूसरी टीम बन गई।

अफगानिस्तान की सबसे बड़ी जीत

टी20 क्रिकेट में अफगानिस्तान की टीम ने सोमवार को स्काटलैंड को 130 रन से हरा सबसे बड़ी जीत हासिल की। इससे पहले साल 2013 में केन्या के खिलाफ 106 रन से जीत मिली थी। 2019 में आयरलैंड के खिलाफ मिली 84 रन की जीत लिस्ट में तीसरे पायदान पर है।

टी20 विश्व कप की सबसे बड़ी जीत

टूर्नामेंट के इतिहास में सबसे बड़ी जीत दर्ज करने का रिकार्ड श्रीलंका ने नाम है। साल 2007 के विश्व कप में केन्या को टीम ने 172 रन के बड़े अंतर से हराया था। अफगानिस्तान की स्काटलैंड पर 130 रन की सोमवार की जीत संयुक्त रूप से दूसरी सबसे बड़ी जीत है। 2009 में इसी टीम के खिलाफ साउथ अफ्रीका ने 130 रन से जीत दर्ज की थी। 2012 अफगानिस्तान ने इंग्लैंड को 116 रन से हराया था।