समस्याओं से आप भी हैं परेशान, तो पढ़ें भगवान ​बुद्ध से जुड़ी यह प्रेरक कथा

समस्याओं से आप भी हैं परेशान, तो पढ़ें भगवान ​बुद्ध से जुड़ी यह प्रेरक कथा

हर​ व्यक्ति के जीवन में कुछ न कुछ समस्याएं हैं। कुछ लोग उन समस्याओं से सफलापूर्वक बाहर निकल जाते हैं, तो कुछ लोग उससे विचलित हो जाते हैं। वे समस्याएं उनके लिए बहुत बड़ी चुनौती बन जाती हैं। उनको इससे निकलने का कोई रास्ता नहीं दिखता है। जागरण अध्यात्म में आज हम आपको भगवान बुद्ध से जुड़ी हुई एक सच्ची घटना बताने जा रहे हैं, जिसमें छिपे संदेश से आप अपने जीवन की समस्याओं से पार पाने में सफल हो सकते हैं।

एक समय की बात है, जब महात्मा बुद्ध अपने एक शिष्य के साथ घने जंगल से गुजर रहे थे। काफी समय तक पैदल यात्रा करने के बाद वे दोनों दोपहर को एक वृक्ष के नीचे विश्राम करने रुके। प्यास के मारे दोनों का गला सूख गया था। उन्होंने शिष्य से कहा कि प्यास लग रही है, कहीं पानी मिले, तो लेकर आओ। भगवान बुद्ध की बात सुनकर शिष्य ने कहा कि हां, उसे भी प्यास लगी है। पानी लेकर आता हूं।


वह शिष्य कुछ दूरी पर गया तो उसे एक पहाड़ी से झरने के गिरने की आवाजें सुनाई दे रही थीं। वह उस ओर ही बढ़ गया। पानी लेने के लिए वह झील के पास पहुंच गया। लेकिन तभी कुछ पशु झील में दौड़ने लगे और देखते ही देखते झील का पानी गंदा हो गया। उनके खुरों से कीचड़ निकलने लगे, इससे झील का पानी गंदा हो गया। वह पानी लिए बेगैर ही भगवान बुद्ध के पास वापस आ गया।

उसने भगवान बुद्ध से कहा कि झील का पानी निर्मल नहीं है, मैं दूर पड़ने वाली नदी से पानी ले आता हूं। बुद्ध ने उसे उसी झील का पानी ही लाने को कहा। शिष्य फिर खाली हाथ लौट आया। पानी अब भी गंदा था, बुद्ध ने शिष्य को फिर वापस भेजा। तीसरी बार शिष्य जब झील पहुंचा, तो झील अब बिल्कुल निर्मल और शांत थी। कीचड़ बैठ गया था और जल निर्मल हो गया था। तब वह पानी लेकर लौटा।


तब भगवान बुद्ध ने अपने शिष्य को समझाया। उन्होंने कहा कि यही स्थिति हमारे मन की भी है। जीवन की दौड़-भाग मन को भी विक्षुब्ध कर देती है, मथ देती है। पर कोई यदि शांति और धीरज से उसे बैठा देखता है, तो कीचड़ अपने आप नीचे बैठ जाता है और सहज निर्मलता का आगमन हो जाता है।

कथा का सार: जीवन की कठिनाइयों से परेशान होने की आवश्यकता नहीं है, धैर्य रखने से वे दूर हो जाती हैं।


पापमोचनी एकादशी पर विष्णु जी को प्रसन्न करने के लिए इन बातों का रखें खास ख्याल

पापमोचनी एकादशी पर विष्णु जी को प्रसन्न करने के लिए इन बातों का रखें खास ख्याल

आज पापमोचनी एकादशी है। आज का दिन भगवान विष्णु को समर्पित है। इस एकादशी का व्रत व्यक्ति पापों से मुक्ति के लिए करता है। इसलिए इसे किया जाता है पापमोचनी एकादशी कहा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, हर एकादशी व्रत का महत्व अत्याधिक होता है। हिंदू पंचांग के अनुसार, चैत्र माह के कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को पापमोचनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन जो व्यक्ति व्रत करता है उसे उसके पापों से मुक्ति प्राप्त होती है। इस दिन कुछ बातों का खास ख्याल रखा जाता है जिससे विष्णु जी बेहद प्रसन्न हो जाते हैं और व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। साथ ही भगवान की कृपा भी बनी रहती है। आइए जानते हैं इन बातों को।

पापमोचनी एकादशी पर करें ये उपाय:

यह तिथि भगवान विष्णु को समर्पित है। इस दिन व्रत करना बेहद शुभ माना जाता है। पूजा के दौरान विष्णु जी के साथ-साथ माता लक्ष्मी की पूजा भी करनी चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, अगर ऐसा किया जाए तो व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।


इस दिन मांस-मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए। साथ ही सात्विक भोजन ग्रहण करना चाहिए। इस दिन चावल नहीं खाने चाहिए।

एकादशी के दिन किसी भी तरह के गलत शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। साथ ही ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।

इस दिन दान का महत्व बहुत अधिक होता है। ऐसे में इस दिन अपनी सामर्थ्यनुसार दान करना चाहिए।

एकादशी के पावन दिन भगवान विष्णु को भोग अवश्य लगाया जाना चाहिए। उनके भोग में तुलसी का इस्तेमाल जरूर करें। भोग में सात्विक चीजें ही शामिल करें।


काम के बीच 5 मिनट का ब्रेक लेकर इन स्ट्रेचिंग एक्सरसाइजेस के जरिए करें अपनी एनर्जी चार्ज       कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से गर्भवती महिलाओं को घबराने की नहीं, सजग व सतर्क रहने की है जरूरत       लॉकडाउन के समय इन एक्सरसाइज़ से सिर्फ 7 दिनों में घटेगा वज़न!       लॉकडाउन में अवसाद से बचना है तो अपने आपको मनोरंजन में मसरूफ रखें       बदलते मौसम में सेहत के प्रति सचेत रहने के साथ ही इन जरूरी बातों का भी रखें ध्यान       ब्रेकफास्ट में सीरियल कितनी मात्रा में लेना रहेगा सेहत के लिए फायदेमंद       बार-बार हाथ धोने से हाथों की खूबसूरती कम हो गई है तो इस तरह रखें ख्याल       लॉकडाउन पीरियड का उठाएं फायदा, हेल्दी और बैलेंस डाइट के अलावा इन टिप्स के साथ करें बैली फैट कम       स्वाद के साथ सूंघने की क्षमता बंद हो जाना भी हो सकता है COVID-19 का लक्षण       ई-सिगरेट या स्मोकिंग से बढ़ सकता है कोरोना वायरस का ख़तरा       क्या टीबी वैक्सीन कर पाएगी कोरोना वायरस से बचाव?       अगर रहना चाहते हैं फिट तो डाइट में ज़रूर शामिल करें दालचीनी!       हार्वर्ड के शोधकर्ताओं का दावा, कोरोना से सूंघने की क्षमता भी होती है कम       रातों में अच्छी नींद के लिए लें जायफल, कोरोना से लड़ाई में भी मिलेगी मदद       विटामिन सी और किचन में मौजूद मसालों से बूस्ट होगा इम्यून सिस्टम       पाक को जी-20 से ऋण में राहत की उम्मीद, आर्थिक मामलों के मंत्री खुसरो बख्तियार ने दी जानकारी       दीपक हुड्डा ने 6 छक्कों के साथ ठोकी तूफानी फिफ्टी, बना दिया IPL में अद्भुत रिकॉर्ड       ये है भारत की सबसे सस्ती ABS वाली मोटरसाइकिल, देती है जबरदस्त माइलेज       भविष्य की चुनौतियों से निपटने को तैयार होगा स्वस्थ भारत, जानिए बजट में आपके स्वास्थ्य को लेकर क्या है खास       पति और बेटे की कोरोना से मौत पर महिला ने सदमे में तोड़ा दम