बिना परामर्श न पहनें यह रत्न, हो जाएंगे निर्धन, धारण करने से पहले जानें

बिना परामर्श न पहनें यह रत्न, हो जाएंगे निर्धन, धारण करने से पहले जानें

आज शनिवार है शनिदेव की पूजा का दिन है। हर ग्रह का एक रत्न होता है। शनि ग्रह का रत्‍न नीलम है, जिसे अंग्रेजी में ‘ब्‍लू सेफायर’ कहते हैं। ज्‍योतिष विज्ञान में इसे कुरूंदम का रत्‍न कहते हैं। इस समूह में लाल रत्‍न को माणिक तथा दूसरे सभी रत्नों को नीलम कहते हैं। इसलिए नीलम सफेद, हरे, बैंगनी, नीले आदि रंगों में प्राप्‍त होता है। रत्नों में सबसे अच्‍छा ब्‍लू सेफायर नीले रंग का होता है। जिसका रंग आसमानी, गहरा नीला, चमकीला नीला आदि होता है।नीलम शनि ग्रह का रत्न कहलाता है।

ऐसा माना जाता है कि मोर के पंख जैसे रंग वाला नीलम सबसे अच्‍छा माना जाता है। यह बहुत चमकीला और चिकना होता है। इससे आर-पार देखा जा सकता है। यह बेहद प्रभावशाली रत्‍न होता है तथा सभी रत्‍नों में सबसे जल्‍दी अपना प्रभाव दिखाता है। इसे पहने से शनि की बुरी दशा ठीक होती है। नीलम असर बहुत तीव्रता से दिखाता है। इसलिए नीलम  कभी भी बिना ज्‍योतिषी की सलाह के नहीं पहनना चाहिए।

नीलम शनि का रत्‍न है और अपना असर बहुत तीव्रता से दिखाता है इसलिए नीलम  कभी भी बिना ज्‍योतिषी की सलाह के नहीं पहनना चाहिए। नीलम रत्न को पहनने के लिए कुंडली में निम्‍न योग होने आवश्‍यक हैं।

मेष, वृष, तुला एवं वृश्चिक लग्‍न वाले अगर नीलम को धारण करते हैं तो उनका भाग्‍योदय होता है। चौथे, पांचवे, दसवें और ग्‍यारवें भाव में शनि हो तो नीलम जरूर पहनना चाहिए। शनि छठें और आठवें भाव के स्‍वामी के साथ बैठा हो या स्‍वयं ही छठे और आठवें भाव में हो तो भी नीलम रत्न धारण करना चाहिए। शनि मकर और कुम्‍भ राशि का स्‍वामी है। इनमें से दोनों राशियां अगर शुभ भावों में बैठी हों तो नीलम धारण करना चाहिए लेकिन अगर दोनों में से कोई भी राशि अशुभ भाव में हो तो नीलम नहीं पहनना चाहिए।

दशा अंतरदशा में भी नीलम धारण
शनि की साढेसाती में नीलम धारण करना लाभ देता है। शनि की दशा अंतरदशा में भी नीलम धारण करना लाभदायक होता है। शनि की सूर्य से युति हो, वह सूर्य की राशि में हो या उससे दृष्‍ट हो तो भी नीलम पहनना चाहिए। कुंडली में शनि मेष राशि में स्थित हो तो भी नीलम पहनना चाहिए।

कुंडली में शनि वक्री, अस्‍तगत या दुर्बल अथवा नीच का हो तो भी नीलम धारण करके लाभ होता है। जिसकी कुंडली में शनि प्रमुख हो और प्रमुख स्‍थान में हो उन्‍हें भी नीलम धारण करना चाहिए।क्रूर काम करने वालों के लिए नीलम हमेशा उपयोगी होता है।


बस इन नियमों का करना होगा पालन, सूर्य देव को अर्घ्य देने से बन जाते हैं कैसे भी बिगड़े काम

बस इन नियमों का करना होगा पालन, सूर्य देव को अर्घ्य देने से बन जाते हैं कैसे भी बिगड़े काम

सनातन धर्म में जहां सूर्य देव को आदि पंच देवों में से कलयुग का एकमात्र दृश्य देवता माना जाता है. वहीं ज्योतिष में सूर्य को ग्रहों का राजा माना गया है. वैदिक ज्योतिष के मुताबिक सूर्य को तारों का जनक माना जाता है.

वहीं जन्म कुंडली के शोध में सूर्य की अहम किरदार होती है. ज्योतिष के मुताबिक सूर्य कभी वक्री गति नहीं करते. विभिन्न राशियों में सूर्य की चाल के आधार पर ही हिन्दू पंचांग की गणना संभव है. राशिचक्र में 12 राशियां होती हैं. अतः राशिचक्र को पूरा करने में सूर्य को एक साल लगता है.

दरअसल सनातन संस्कृति में सूर्य को महज़ एक प्रकाश देने का प्राकृतिक स्रोत ही नहीं समझा जाता है, बल्कि इसे देवताओं की श्रेणी में रखा गया है. इसलिए हिन्दू संस्कृति में सदा से सूर्य देव की पूजा का विधान रहा है.

सूर्य न केवल अंधकार का नाशक है, बल्कि इसके प्रकाश में कई ऐसे तत्व भी हैं, जिनसे हमें रोग दोषों से मुक्ति मिलती है. शास्त्रों में सूर्य देव से प्राप्त होने वाली शक्तियों को हमारे धार्मिक ग्रंथों और शास्त्रों में भी विस्तार से बताया गया है.

सूर्य के चिकित्सीय और आध्यात्मिक फायदा को पाने के लिए लोग प्रातः उठकर सूर्य नमस्ते करते हैं. हिन्दू पंचांग के मुताबिक रविवार का दिन सूर्य ग्रह के लिए समर्पित है जो कि हफ्ते का एक जरूरी दिन माना जाता है.

सूर्य देव की कृपा पाने के लिए लोग सुबह-सुबह उठकर उन्हें अर्घ्य देते हैं. शास्त्रों में सूर्य के अर्घ्य को बहुत ज्यादा जरूरी माना गया है. मान्यता के मुताबिक ऐसा करने से जहां एक ओर आदमी का समाज में मान-सम्मान भी बढ़ने लगता है.

वहीं दूसरी ओर कुंडली में सूर्य से संबंधित गुनाह दूर होने लगते हैं. लेकिन कई बार लोग अर्घ्य देते हुए ऐसी गलतियां कर जाते हैं जिस वजह से उन्हें इसका फल मिल ही नहीं पाता है. ऐसे में आज हम आपको उन प्रमुख गलतियों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें करने से सूर्य देवता नाराज हो जाते हैं

भूलकर भी ना करें गलतियां

केवल जल अर्पित ना करें
जब भी सूर्य देव की पूजा करें तो उन्हें लाल फूल, गुड़हल का फूल और चावल अर्पित जरूर करें और मीठे का भोग लगाएं. खाली जल भूलकर भी सूर्य देव को अर्पित नहीं करना चाहिए. माना जाता है कि ऐसा करने से भगवान रुष्ट हो जाते हैं. इसलिए जल के साथ पुष्प या अक्षत जरूर रखें. चाहें तो जल में रोली, चंदन या लाल फूल भी डाल सकते हैं.

पैरों में ना पड़े जल
सूर्य को अर्घ्य लोटे से दें, लेकिन ध्यान रहे कि, जल सीधे आपके पैरों पर ना पड़े. इसका कारण ये माना जाता है कि जो आदमी सूर्य को जल देते हुए अपने पैरों में ही जल डालने लगता है, उसे सूर्य देव का आशीर्वाद नहीं मिलता.

किस समय दें जल
वैसे तो नियमित रूप से सूर्य देव को जल अर्पित करना चाहिए, लेकिन रविवार का दिन इसके लिए सबसे उत्तम माना गया है. तभी तो जो रोज भी सूर्य को जल देना चाहते हैं, उन्हें भी इसकी आरंभ रविवार से ही करने की सलाह दी जाती है. लेकिन ध्यान रखें कि सूर्य को ब्रह्म मुहूर्त में ही जल अर्पित करने से सबसे अधिक फायदा मिलता है. इसलिए प्रातः स्नान आदि कर साफ स्वच्छ कपड़ा धारण कर ही सूर्य को जल चढ़ाएं.

ऐसे दें अर्घ्य
सूर्य को अर्घ्य देते हुए तांबे के लोटे का उपयोग करें और पात्र को अपने दोनों हाथों से पकड़े. उसके बाद सिर के ऊपर से चढ़ाएं. ऐसा करने से सूर्य की किरणें पानी के बीच से होती हुईं सीधे शरीर पर पड़ती हैं.

दिशा का रखें ध्यान
जल तो कई लोग चढ़ाते हैं, लेकिन कुछ लोग कई बार गलत दिशा में जल चढ़ा देते हैं. जिसे अनुचित माना गया है, इसलिए सूर्य को जब भी अर्घ्य दें तो ध्यान रखें कि, आपका मुख पूर्व दिशा की तरफ हो.

अगर कभी सूर्य देव बेकार मौसम की वजह से नजर नहीं आ रहे हैं, तो भी पूर्व दिशा की तरफ मुख करके जल अर्पित करें. जल चढ़ाते हुए ध्यान रखें कि, सूर्य की किरणें जल की धार के बीच से जरूर नजर आएं.

सूर्य देव की आरती
ऊँ जय सूर्य भगवान,
जय हो दिनकर भगवान .
जगत् के नेत्र स्वरूपा,
तुम हो त्रिगुण स्वरूपा .
धरत सब ही तव ध्यान,
ऊँ जय सूर्य भगवान ॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान  

सारथी अरूण हैं प्रभु तुम,
श्वेत कमलधारी .
तुम चार भुजाधारी ॥
अश्व हैं सात तुम्हारे,
कोटी किरण पसारे .
तुम हो देव महान ॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान  

ऊषाकाल में जब तुम,
उदयाचल आते .
सब तब दर्शन पाते ॥
फैलाते उजियारा,
जागता तब जग सारा .
करे सब तब गुणगान ॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान  

संध्या में भुवनेश्वर,
अस्ताचल जाते .
गोधन तब घर आते॥
गोधुली बेला में,
हर घर हर आंगन में .
हो तव महिमा गान ॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान  

देव दनुज नर नारी,
ऋषि मुनिवर भजते .
आदित्य दिल जपते ॥
स्त्रोत ये मंगलकारी,
इसकी है रचना न्यारी .
दे नव जीवनदान ॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान  

तुम हो त्रिकाल रचियता,
तुम जग के आधार .
महिमा तब अपरम्पार ॥
प्राणों का सिंचन करके,
भक्तों को अपने देते .
बल बृद्धि और ज्ञान ॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान  

भूचर जल चर खेचर,
सब के हो प्राण तुम्हीं .
सब जीवों के प्राण तुम्हीं ॥
वेद पुराण बखाने,
धर्म सभी तुम्हें माने .
तुम ही सर्व शक्तिमान ॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान  

पूजन करती दिशाएं,
पूजे दश दिक्पाल .
तुम भुवनों के प्रतिपाल ॥
ऋतुएं तुम्हारी दासी,
तुम शाश्वत अविनाशी .
शुभकारी अंशुमान ॥
॥ ऊँ जय सूर्य भगवान  

ऊँ जय सूर्य भगवान,
जय हो दिनकर भगवान .
जगत के नेत्र रूवरूपा,
तुम हो त्रिगुण स्वरूपा ॥
धरत सब ही तव ध्यान,
ऊँ जय सूर्य भगवान ॥


कच्चे ऑयल के दम पर की 2021 में जमकर कमाई       e-Vehicle: केजरीवाल सरकार का चार्जिंग स्टेशन बढ़ाने पर जोर       Atom 1.0 बाइक से केवल 7 रुपये में करें 100 किलोमीटर का सफर       गर्म पानी पीने से हो सकता है स्वास्थ्य को ये नुकसान!       नींद नहीं आती है रातों में? अपनाएं ये उपाय       उरी बेस कैंप पहुंचे Vicky Kaushal, इंडियन आर्मी संग फोटोज़ शेयर कर बोले...       ये प्यारी सी 'डिमांड' भी कर दी, Sonu Sood ने बिहार की बहन के लिए दिखाई दरियादिली       इस मंदिर में चढ़ाया जाता है इंसान के निजी अंग का डमी मॉडल, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान       सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से आठ कंपनियों का बाजार कैपिटलाइजेशन 1.94 लाख करोड़ रुपये बढ़ा       करोड़ों में लगी Twitter के CEO के पहले ट्वीट की बोली...       इस दिन लगेगा खरमास, जानें इस दौरान क्या करें       बस इन नियमों का करना होगा पालन, सूर्य देव को अर्घ्य देने से बन जाते हैं कैसे भी बिगड़े काम       RSWS 2021: इंग्लैंड ने बांग्लादेश लीजेंड्स को हराया, केविन पीटरसन की धुआंधार बैटिंग       खिताबी सिक्सर लगाने उतरेगी रोहित की मुंबई, RCB से खेलेगी पहला मैच       44 लेयर में भरी जाएगी राम मंदिर की 15 मीटर गहरी नींव, पारंपरिक शैली में होगा निर्माण       दुनियाभर में फैली दहशत, कोरोना महामारी पर WHO ने दी चेतावनी       आर्मी तक पहुंची वैक्सीन, रिटायर्ड सैन्य कर्मियों का टीकाकरण       गौतम बुद्ध के ये अनमोल वचन बदल देंगे आपकी जिंदगी       कब से शुरू हो रहा है खरमास, नहीं कर पाएंगे कोई शुभ कार्य       मार्च में है महाशिवरात्रि, होली, विजया एकादशी जैसे महत्वपूर्ण व्रत एवं त्योहार