युवराज के बाद अब यह धाकड़ बल्लेबाज लेने जा रहा है  अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास

युवराज के बाद अब यह धाकड़ बल्लेबाज लेने जा रहा है  अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास

भारतीय खिलाड़ी युवराज सिंह के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास के बाद हाल ही में हिंदुस्तान के ही अंबाती रायडू व वेणुगोपाल राव ने भी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था।अब संन्यास की इस कड़ी में न्यूजीलैंड के धाकड़ बल्लेबाज ब्रैंडन मैकुलम का नाम भी जुड़ गया है। न्यूजीलैंड के पूर्व कैप्टन मैकुलम ने ट्विटर पर ये जानकारी साझा की।

Image result for युवराज के बाद अब यह धाकड़ बल्लेबाज लेने जा रहा है  अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास

ब्रैंडन मैकुलम ने बोला कि मौजूदा कनाडा टी-20 लीग के समाप्त होने के बाद वे किसी भी प्रारूप में नहीं खेलेंगे। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि मुझे यह ऐलान करते हुए संतुष्टि व गर्व का अहसास हो रहा है कि कनाडा टी-20 लीग के बाद मैं किसी प्रारूप में क्रिकेट नहीं खेलूंगा। हालांकि मैकुलम ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से अपने 101वें टेस्ट मैच के बाद 2016 में ही संन्यास ले लिया था। उसके बाद से वे भिन्न-भिन्न राष्ट्रों में आयोजित होने वाली टी-20 लीग में खेल रहे थे।

37 वर्ष के मैकुलम की कप्तानी में ही न्यूजीलैंड की टीम 2015 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंची थी। हालांकि खिताबी मुकाबले में उसे ऑस्ट्रेलिया के हाथों शिकस्त का सामना करना पड़ा था। मैकुलम ने बोला कि अपने 20 वर्ष के करियर में मैंने जो कुछ भी हासिल किया है, उसके बारे में सपने में भी नहीं सोचा था। मगर हाल के महीनों में खेलते रहने के लिए प्रेरणा न मिलने के चलते मैंने संन्यास का निर्णय किया। मगर मैं पीछे मुड़कर देखता हूं तो मुझे अपने खेल पर गर्व होता है व अपनी उपलब्धियों पर भी। यह एक शानदार सफर था, लेकिन हर अच्छी वस्तु का अंत होता है।

ब्रैंडन मैकुलम टी-20 क्रिकेट के दूसरे सबसे पास बल्लेबाज हैं। उनसे आगे सिर्फ वेस्टइंडीज के क्रिस गेल हैं, जो इस प्रारूप में दस हजार रन बना चुके हैं। मैकुलम के नाम 6453 टेस्ट रन, 6 083 वनडे रन व 2140 टी-20 रन है। टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक 107 छक्के लगाने का रिकॉर्ड उन्हीं के नाम है। टेस्ट इतिहास की सबसे तेज सेंचुरी लगाने का रिकॉर्ड भी मैकुलम के नाम ही है। उन्होंने 2016 में अपने आखिरी टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के विरूद्ध 54 गेंदों पर शतक जड़ते हुए यह कारनामा किया था।