तीस हजारी टकराव के बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ किया गया यह बड़ा काम, जाने

तीस हजारी टकराव के बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ किया गया यह बड़ा काम, जाने

तीस हजारी न्यायालय में पुलिस व वकीलों के बीच हुए टकराव के बाद गुरुवार को दिल्ली पुलिस के दो वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का तबादला कर दिया गया. दरअसल इस टकराव के बाद दिल्ली उच्च न्यायलय ने मुद्दे में स्वत: संज्ञान लेते हुए स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर (नॉर्थ) संजय सिंह व उत्तरी जिला के अलावा पुलिस उपायुक्त हरेंद्र कुमार का तबादला करने का आदेश दिया था. हालांकि इसके लिए दिल्ली पुलिस की ओर से मुद्दे पर पुनर्विचार याचिका भी न्यायालय में दाखिल की गई थी. लेकिप आदेश में न्यायालय ने संशोधन करने से मना कर दिया था. इसके बाद गुरुवार को दोनों पुलिस अधिकारियों का ट्रांसफर कर दिया गया.Image result for तीस हजारी टकराव

स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर (नॉर्थ) संजय सिंह का तबादला लाइसेंसिंग एंड ट्रांसपोर्ट में किया गया है. वहीं उत्तरी जिले के अलावा पुलिस उपायुक्त हरेंद्र कुमार का तबादला पुलिस उपायुक्त रेलवे के तौर पर किया गया है. वहीं हरेंद्र कुमार की स्थान पुलिस उपायुक्त रेलवे दिनेश कुमार गुप्ता की तैनाती की गई है. वकीलों ने आरोप लगाया था कि दोनों ऑफिसर ही पुलिस द्वारा की गई हाथापाई के आरोपी है. इसी वजह से न्यायालय ने न्यायिक जाँच के आदेश देने के बाद दोनों अधिकारियों के तबादले का भी आदेश दिया था.

बैठक रद्द होने पर पुलिस का पक्ष
दिल्ली पुलिस के एडिशनल पीआरओ अनिल मित्तल ने बोला कि बार एसोसिएशन की कोऑर्डिनेशन कमेटी के साथ सिर्फ तीस हजार न्यायालय की प्रशासनिक व्यवस्था को लेकर मीटिंग बुलाई गई थी. चूंकि यह क्षेत्र ज्वाइंट कमिश्नर सेंट्रल रेंज में आता है. इस कारण इस रेंज के प्रमुख सहित अन्य ऑफिसर अलीपुर रोड स्थित जीओ मेस में आयोजित की गई थी. जबकि बार एसोसिएशन ने यह समझा कि यह पूरी राजधानी की अदालतों को लेकर मीटिंग आयोजित की गई है. इस कारण उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी की मांग की. लेकिन संवाद का अभाव होने के कारण यह साफ नहीं हो पाया था. इस कारण यह मीटिंग नहीं हो सकी.