टीम इंडिया के वर्ल्ड कप से बाहर होने के बाद पराजय की प्रारम्भ हुई समीक्षा, इन10 प्वाइंट में जाने टीम इण्डिया को मिला क्या सबक

टीम इंडिया के वर्ल्ड कप से बाहर होने के बाद पराजय की प्रारम्भ हुई समीक्षा,  इन10 प्वाइंट में जाने टीम इण्डिया को मिला क्या सबक

टीम इंडिया के वर्ल्ड कप से बाहर होने के बाद पराजय की समीक्षा प्रारम्भ हो गई है। सेमीफाइनल में टीम इंडिया ने एक के बाद एक कई गलतियां की। पराजय के बावजूद टीम इंडियाको कई सबक मिले हैं।

Image result for वर्ल्ड कप से बाहर टीम इंडिया, 10 प्वाइंट ,
1.शिखर धवन के बाहर होने के चलते टीम इंडिया के लिए ओपनिंग में लेफ्ट-राइट का कॉम्बिनेशन टूट गया। धवन की स्थान ओपनिंग करने वाले केएल राहुल विरोधी टीम पर दबाव बनाने में नाकाम रहे।

2.पूरे वर्ल्ड कप में टीम इंडिया की फील्डिंग लाजवाब रही। खास कर रवींद्र जडेजा तो फील्डिंग के मोर्चे पर सबसे बड़े हीरो रहे। उन्होंने एक अनुमान के मुताबिक 41 रन बचाए। इसके अतिरिक्त उन्होंने बेहतरीन कैच भी लिए।
3. सेमीफाइनल को छोड़ दें तो टॉप ऑर्डर ने सारे टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन किया। अकेले रोहित शर्मा ने 5 शतक लगाए। इसके अतिरिक्त विराट कोहली ने भी पांच पारियों में हाफ सेंचुरी लगाई।

4.मिडिल ऑर्डर के बल्लेबाज़ सारे टूर्नामेंट में रनों के लिए जूझते नजर आए। रिषभ पंत से लेकर विजय शकंर व फिर केदार जाधव, हार्दिक पंड्या कोई भी बल्लेबाज़ दमदार पारी नहीं खेल सके। रिषभ पंत व पंड्या ने सेमीफाइनल में बेकार शॉट खेल कर हर किसी को खासा निराश किया।
5. वर्ल्ड कप में टीम इंडिया नंबर चार को लेकर जूझती नजर आई। इस नंबर पर टीम इंडिया ने चार बल्लेबाजों को आजमाया लेकिन कोई भी बड़ी पारी नहीं खेल सके। यहां तक की इस नंबर पर कोई भी भारतीय बल्लेबाज़ ने हाफ सेंचुरी भी नहीं लगाई।

6.वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के स्पिनर्स ने बेहद बेकार प्रदर्शन किया। खास कर कुलदीप यादव ने हर किसी को निराश किया। कुलदीप ने 7 मैचों में सिर्फ 6 विकेट लिए।
7. रवींद्र जडेजा को प्लेइंग इलेवन में बहुत ज्यादा देर से मौका मिला। विराट ने उन्हें सिर्फ दो मैचों में खिलाया। उनकी इकॉनमी रेट शानदार 3.7 रही। अगर जडेजा को पहले मौका मिलता तो फिर बात कुछ व होती। लेकिन विराट ने कुलदीप व चहल के चक्कर में उन्हें शुरुआती मैचों से नजरअंदाज कर दिया।
8.कप्तान विराट कोहली ने धोनी का प्रयोग भी ठीक ढंग से नहीं किया। सेमीफाइनल में उन्हें बहुत ज्यादा देर से बैटिंग के लिए उतारा गया। कई पूर्व क्रिकेटर भी ये कह रहे हैं कि धोनी को सेमीफाइनल में नंबर पांच पर उतारा जाना चाहिए था।
9. शुरुआती मैचों में शानदार प्रदर्शन करने वाले मोहम्मद शमी को विराट ने नजरअंदाज किया। जबकि शमी ने 4 मैचों में 14 विकेट लिए थे।
10. दिनेश कार्तिक व केदार जाधव को लेकर भी विराट कोहली सवालों के घेरे में रहेंगे।