मायावती के अकेले चुनाव लड़ने के ऐलान पर सपा ने तोड़ी चुपी कहा ...

मायावती के अकेले चुनाव लड़ने  के ऐलान पर सपा ने तोड़ी चुपी कहा ...

2019 लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद बसपा (बसपा) व समाजवादी पार्टी (सपा) के बीच सबंध अब समाप्त हो चुके हैं। बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने अब अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। वहीं अब सपा ने भी कह दिया है कि यूपी में वह बीजेपी (भाजपा) को चुनौती देने के लिए तैयार है। सपा ने बीएसपी सुप्रीमो मायावती के सभी आरोपों का खंडन करते हुए बोला कि पार्टी ने गठबंधन सदस्यों को जीतने के लिए भरसक कोशिशें की बल्कि बीएसपी ही अपना वोट ट्रांसफर कराने में नाकाम रही है।

Related image

सपा सूत्रों ने बोला है कि पार्टी बीजेपी को उत्तर प्रदेश में चुनौती देने के लिए तैयार है। किन्तु सपा ने मायावती के सभी आरोपों का खंडन किया व बोला कि पार्टी ने ग्राउंड पर गठबंधन बनाने के लिए कड़ी मशक्कत की। लोकसभा चुनावों में बीएसपी ही अपना कोर वोट बैंक समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों को ट्रांसफर कराने में विफल रही। अब बीएसपी की अपने दलित वोट बैंक पर पकड़ निर्बल पड़ने लगी है।

सपा के मुरादाबाद लोकसभा सीट से सांसद एसटी हसन ने बोला है कि पहले भी हम अकेले चुनाव लड़ते थे, आगे भी अकेले लड़ेंगे। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव कभी फोन करके हिंदू मुस्लिम की बात नहीं करते हैं। हमारी पार्टी के पास अच्छा जनाधार है। बीएसपी के पास पिछले चुनाव में एक भी सीट नहीं थी, अब वह 10 सीट पर है। ये सब मायावती हमारी जुबान से क्यों कहलवाना चाह रही हैं।