लखनऊ : अमीनाबाद के इस शख्स की हो रही थी दाह संस्‍कार की तैयारी अर्थी से उठकर कर दी यह ड‍िमांड, देखकर उपस्थित भीड़ गई घबरा

लखनऊ :  अमीनाबाद के इस शख्स की हो रही थी दाह संस्‍कार की तैयारी अर्थी से उठकर कर दी यह ड‍िमांड,  देखकर उपस्थित भीड़ गई घबरा

शहर के एक व्यक्तिगत अस्पताल में युवक को मृत घोषित कर दिया गया. प्रातः काल घर पर पहुंचे मृत शरीर को देखकर परिजन बिलखने लगे. मोहल्ले की भीड़ जुट गई.आकस्मित चार घंटे बाद उसने आंखें खोलीं. इशारे से पानी मांगा व कप भर पीया. यह देखकर हड़कंप मच गया. आनन-फानन में उसे लेकर परिजन बलरामपुर अस्पताल गए, जहां फिर से मृत घोषित किया गया.

Image result for अमीनाबाद, दाह संस्‍कार की तैयारी , अर्थी से उठ युवक ,

अमीनाबाद के कल्लन की लाट निवासी संजय (28) पुत्र गुरुप्रसाद की तबियत बेकार थी. उसे क्लीनिक पर दिखाया. जहां डॉक्टरों ने पीलिया बताया. चार-पांच दिन उपचार किया. मगर लाभ नहीं हुआ. ऐसे में उसे शनिवार को उसे नक्खास के व्यक्तिगत अस्पताल में भर्ती कराया गया. मौसेरी बहन रजनी के मुताबिक शनिवार प्रातः काल 10 बजे भर्ती संजय को रविवार प्रातः काल छह बजे मृत घोषित कर दिया गया. परिजन मृत शरीर लेकर घर आ गए. यहां संबंधियों का इंतजार किया जा रहा था. मोहल्लेवालों की भीड़ लग जुटी थी. साथ ही दाहसंस्कार की तैयारी हो गई थीं. अर्थी तैयार हो गई थी.

सुबह 10 बजे के करीब आकस्मित उसके शरीर में हरकत हुई. थोड़ी देर में आंख खोली. यह देखकर उपस्थित भीड़ घबरा गई. संजय ने थोड़ी ही देर में पानी के लिए संकेत किया. घर से एक कप पानी लाकर पिलाया गया. संजय के जीवित होने पर घर के लोग लेकर उसे बलरामपुर अस्पताल भागे. यहां इमरजेंसी में 11:10 पर लोग पहुंचे. डॉक्टरों ने यहां संजय को मृत घोषित कर दिया.

शरीर से आ रहा था पसीना

परिजनों के मुताबिक व्यक्तिगत अस्पताल में मृत घोषित होने के बाद संजय का शरीर सफेद कपड़े से ढक दिया गया. इस दौरान उनके शरीर से पसीना लगातार आ रहा था. वहीं जब आंख खोली तो सभी देखकर दंग रह गए. दाहसंस्कार के लिए जाने के बजाए सीधे बलरामपुर अस्पताल ले गए.

एक जुलाई को भी जिंदा को घोषित किया था मृत

एक जुलाई को इंदिरा नगर निवासी फुरकान 24 को निराला नगर में मृत घोषित कर दिया गया. उसको परिजन कब्र में दफनाने जा रहे थे. इसी दरम्यान लोगों को उसकी सांसें चलने का आभास हुआ. परिजन उसे लोहिया अस्पताल लेकर गए. यहां न्यूरो का चिकित्सक न होने पर लोहिया संस्थान लेकर गए. इसके बाद उन्होंने व्यक्तिगत अस्पताल में भर्ती कराया.