यह प्रदेश का पहला स्टेशन हो गया है, जिसे एलएमएस सर्टिफिकेशन लिमिटेड की ओर से मिला आईएसओ प्रमाणपत्र

 यह प्रदेश का पहला स्टेशन हो गया है, जिसे एलएमएस सर्टिफिकेशन लिमिटेड की ओर से मिला आईएसओ प्रमाणपत्र

लखनऊ जंक्शन रेलवे स्टेशन को पर्यावरण प्रबंधन के लिए आईएसओ सर्टिफिकेट दिया गया है. इसकेसाथ ही यह प्रदेश का पहला स्टेशन हो गया है, जिसे आईएसओ प्रमाणपत्र मिला है. पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क ऑफिसर पंकज कुमार सिंह ने बताया कि यूनाइटेड किंगडम स्थित एलएमएस सर्टिफिकेशन लिमिटेड की ओर से यह प्रमाणपत्र लखनऊ जंक्शन को दिया गया है.

Image result for लखनऊ जंक्शन रेलवे स्टेशन, ]

लखनऊ जंक्शन को परिसर, वेटिंग हॉल, रिटायरिंग रूम, रिफ्रेशमेंट एरिया वगैरह में स्वच्छता और स्वास्थ्यप्रद माहौल देने के लिए यह प्रमाणपत्र दिया गया है. इतना ही नहीं स्टेशन पर पैसेंजरों को पीने का स्वच्छ जल और उच्चस्तरीय सुविधाएं मुहैया कराया जाना भी इसमें शामिल है.

स्टेशन पर सॉलिड वेस्ट को भिन्न-भिन्न जमा करने, बायो कम्पोजिट वर्टिकल बागवानी, प्लास्टिक वेस्ट की रिसाइकिलिंग व ऊर्जा दक्षता में एलईडी की व्यवस्था को भी उन वजहों में जोड़ा गया है, जिसके कारण प्रमाणपत्र प्रदान किया गया है.

बता दें कि लखनऊ जंक्शन स्टेशन एवन श्रेणी में शुमार है जहां से 89 ट्रेनों का संचालन होता है व 50 हजार से अधिक यात्री रोज सफर करते हैं. ईको एयर फैन, लगेज स्कैनर, व्हीकल स्कैनर व हाई डेफिनेशन सीसीटीवी की नजर स्टेशन के कोने-कोने पर रहती है

पहले भी नाम किया है रोशन

इससे पहले भी लखनऊ जंक्शन स्वच्छता में अच्छी रैंक लाकर नाम रोशन कर चुका है. इसमें जंक्शन को छठी रैंक मिल चुकी है. कई अन्य खिताब भी लखनऊ जंक्शन के नाम हैं.

चारबाग स्टेशन के हिस्से में फिर मायूसी
चारबाग में उत्तर रेलवे का चारबाग रेलवे स्टेशन और पूर्वोत्तर रेलवे का लखनऊ जंक्शन हैं, दोनों ही एवन श्रेणी के स्टेशन हैं. पर, चारबाग के हिस्से में अवॉर्डों का हमेशा टोटा रहता है.जबकि यह जंक्शन से बड़ा स्टेशन है. यहां 280 से अधिक गाड़ियों का संचालन होता है, जिससे सवा लाख से अधिक यात्री सफर करते हैं.