इंडिगो ने सरकारी एयरलाइन कतर एयरवेज के साथ कोड शेयर किया समझौता

इंडिगो ने सरकारी एयरलाइन कतर एयरवेज के साथ कोड शेयर किया समझौता

यात्रियों की संख्या के मुद्दे में देश की सबसे बड़ी विमान सेवा कंपनी इंडिगो ने कतर की सरकारी एयरलाइन कतर एयरवेज के साथ कोड शेयर समझौता किया है. Image result for इंडिगो

इसके तहत कतर की राजधानी दोहा के हमद अंतरार्ष्ट्रीय हवाई अड्डे से दिल्ली, मुंबई व हैदराबाद आने वाली इंडिगो की उड़ानों पर कतर एयरवेज अपना कोड दे सकेगी यानी उसके चैनलों के माध्यम से यात्री इन उड़ानों में सीट बुक करा सकेंगे. इसके बदले में उसे कतर एयरवेज से नकद राजस्व मिलेगा.

कतर एयरवेज समूह के मुख्य कार्यकारी अकबर अल बकर व इंडिगो के मुख्य कार्यकारी ऑफिसर रोनोजॉय दत्ता ने यहाँ एक प्रोग्राम में कोड शेयर समझौते पर हस्ताक्षर किये.

बकर ने बोला कि किफायती विमान सेवा कंपनी होने के बावजूद इंडिगो की उड़ानों में कतर एयरवेज के यात्रियों को अलावा बैगेज अलाउंस समेत वे सारी सुविधायें मिलेंगी जो उन्हें कतर की सरकारी एयरलाइन में मिलती हैं. उन्होंने बोला कि कतर की 22 फीसदी आबादी प्रवासी हिंदुस्तानियों की है. वहाँ के श्रमबल में सवार्धिक अनुपात भी उन्हीं का है. भविष्य में उनकी कंपनी इंडिगो की दोहा से आने वाली सभी उड़ानों के लिए कोड शेयर समझौता करना चाहेगी.

दत्ता ने बताया कि यह कतर एयरवेज के साथ इंडिगो के संबंधों की आरंभ है तथा उनकी कंपनी भविष्य में इसे व मजबूत करना चाहेगी. उन्होंने स्पष्ट किया कि कतर एयरवेज के साथ कोड शेयर समझौते के कारण टर्किश एयरलाइन के साथ पूर्व में किया गया कोड शेयर समझौता किसी प्रकार प्रभावित नहीं होगा.

दोनों विमान सेवा कंपनियों के बीच यह कोड शेयर ऐसे समय में हुआ है जब इंडिगो को नकदी की आवश्यकता है व अरब के साथ राष्ट्रों द्वारा हवाई क्षेत्र के प्रयोग संबंधी प्रतिबंध के कारण कतर एयरवेज की उड़ानों को लंबा रास्ता तय करना पड़ता है जिससे उसका मुनाफा प्रभावित हो रहा है.