इंसानों की ये गलती मानव-वन्यजीव प्रयत्न को दे रही न्योता

इंसानों की ये गलती मानव-वन्यजीव प्रयत्न को दे रही न्योता

कई बार इंसानों की गलती मानव-वन्यजीव प्रयत्न को न्योता दे रही है. वनाधिकारियों के अनुसार घर के आसपास पॉलिथीन में मांस के टुकड़े, जूठन आदि फेंकने से भी भोजन की तलाश में निकले तेंदुओं के आबादी के पास पहुंचने का खतरा बढ़ जाता है. इसी तरह जंगल व आसपास पॉलिथीन के ढेर लगातार बढ़ रहे हैं. लोगों ने जंगलों को कूड़े का ठिकाना लगाने का जगह बना दिया है.

Image result for कॉर्बेट पार्क , 'कूड़ा' खा रहा तेंदुआ

कॉर्बेट पार्क के पास लगे एक कैमरा ट्रैप तेंदुए का फोटो वायरल हुआ है, इसमें तेंदुआ पॉलिथीन से जूठन खाता दिखाई दे रहा है. कॉर्बेट फाउंडेशन के डाक्टर हेमंत बर्गली ने बताया कि तेंदुए अक्सर आबादी के आसपास रहते है.

कई बार देखा जाता है कि लोग मांसाहार खाने के बाद अवशेष पन्नियों में भरकर फेंक देते है. ऐसे में तेंदुए ने पन्नी से निकालकर खाया होगा. परंतु पन्नियों से जूठन खाने से तेंदुए के व्यवहार पर कोई परिवर्तन नहीं आ रहे है.

रामनगर वन प्रभाग के डीएफओ भूपेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि इस तरह के मामले काफी समय होते रहे है, लेकिन पन्नियों के जूठन से तेंदुए के व्यवहार में कोई परिवर्तन नहीं आ रहा है.

पश्चिमी वृत्त संरक्षक डाक्टर पराग मधुकर धकाते कहते हैं कि खाद्य सामग्री वाली पॉलीथिन खुले में फेंकना गलत है. ऐसे में वन्यजीव उसे खाने के लिए पहुंच जाते हैं. वन विभाग लगातार अभियान चलाकर लोगों जागरूक कर रहा है कि वह घर के आसपास भी मांस के अवशेष मत फेंके.

इसके साथ ही जंगल के पास पालतू पशुओं के मृत शरीर भी कई लोग फेंक देते हैं, यह भी गलत है. इससे भी वन्यजीवों के व्यवहार में परिवर्तन से लेकर मानव-वन्यजीव प्रयत्न का अंदेशा बढ़ जाता है.

लोग जंगल के आसपास कूड़ा भी फेंक रहे हैं. यह भी चिंताजनक है. वन विभाग व्यक्तिगत क्षेत्र के योगदान से जंगल व आसपास पॉलिथीन को लेकर सफाई अभियान चलाएगा.