नुकसान पहुंचाने वाले ऐप्स से निपटने के लिए Google ने अपनाया नया उपाय

नुकसान पहुंचाने वाले ऐप्स से निपटने के लिए Google ने अपनाया नया उपाय

वायरस वाले या नुकसान पहुंचाने वाले ऐप्स (Malicious Apps) को प्ले स्टोर (Google Play Store) में आने से रोकने के लिए गूगल ने एक नया उपाय अपनाया है। इसके लिए अमेरिकी टेक कंपनी गूगल ने ESET, Lookout व Zimperium से समझौता किया है ताकि ऐसे ऐप्स को प्ले स्टोर से दूर रखा जा सके जो कि आपको डिवाइस को नुकसान पहुंचा सकते हैं। अपने एक ब्लॉग पोस्ट में गूगल ने बोला कि इससे करीब 25 लाख एंड्रॉयड यूज़र्स को ऐप-बेस्ड खतरे को दूर करने में मदद मिलेगी व उन्हें नए तरह के खतरों बचाया जा सकेगा। इस पार्टनरशिप से किसी ऐप को प्ले स्टोर पर जारी करने से पहले डेटा का विश्लेषण करने में बहुत ज्यादा मदद मिलेगी।
Image result for Google ने अपनाया नया उपाय
ब्लॉग पोस्ट में बोला गया कि पार्टनर के रूप में हमारा पहला उद्देश्य को सुरक्षित बनाना है। हम चाहते हैं कि प्ले स्टोर में उपस्थित जो ऐप्स यूज़र्स को नुकसान पहुंचा सकते हैं, उनकी पहचान कर उन्हें हटाया जाए। इस एलायंस के तहत हम हर पार्टनर के प्ले इंजन के साथ अपने गूगल प्ले प्रोटेक्ट डिटेक्शन सिस्टम (Google Play Protect Detection System) को इंटीग्रेट कर रहे हैं। इससे डेटा का विश्लेषण करके नुकसान पहुंचाने वाले ऐप्स को डिटेक्ट करने में मदद मिलेगी।

गूगल ने आगे बोला कि एंड्रॉयड की बेतहाशा पॉपुलरिटी की वजह से यह सबसे पहले हैकर्स के निशाने पर आ जाता है जो कि अपने व्यक्तिगत फायदा के लिए इस पर अटैक करते हैं। इन के विरूद्धमिलकर काम करने से गूगल प्ले स्टोर से इन ऐप्स को हटाने में मदद मिलेगी।

बता दें कि हाल ही में गूगल प्ले स्टोर में 42 वायरस वाले ऐप्स के बारे में जानकारी मिली थी। ये ऐप्स लंबे समय से चल रहे ऐडवेयर कैंपेन से जुड़े थे। रिपोर्ट के मुताबिक इन ऐप्स को 80 लाख से ज्यादा यूज़र्स ने डाउनलोड किया था। हालांकि, मुद्दे की जानकारी मिलते ही प्ले स्टोर से इन्हें हटा दिया गया था।