हरियाणा में पहली बार किसी मुख्यमंत्री ने लिखा है ऐसा पत्र,  भाजपा प्रवक्ता ने बताया क्यों लिखा गया ऐसा ..

    हरियाणा में पहली बार किसी मुख्यमंत्री ने लिखा है ऐसा पत्र,  भाजपा प्रवक्ता ने बताया क्यों लिखा गया ऐसा ..

प्रिय अमित, अपने ज्ञान एवं परिश्रम के बल पर हरियाणा सरकार की जॉब के लिए चयनित होने पर आपको मेरी ओर से हार्दिक बधाई। यह आपके व आपके परिवार के लिए गर्व एवं हर्ष की बात है। आपके गांव, नगर, जिले एवं प्रदेश के लिए एक गौरवशाली उपलब्धि है। प्रदेश में पिछले कई दशकों से सरकारी भर्तियों में चयन के लिए भाई-भतीजावाद, सिफारिश व घूसके मकड़जाल को समाप्त करने के लिए जो क्रांति हमने प्रारम्भ की, आप उसके अग्रिम पंक्ति के सिपाही बनकर विजयी हुए हैं।

Image result for हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की इस चिट्ठी

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने अपने प्रदेश के करीब 70 हजार युवाओं को ऐसा ही एक लेटर लिखा है। ये वो युवा हैं जिन्हें इस सरकार में जॉब दी गई है। लेटर में खट्टर आगे लिखते हैं कि आपकी सफलता का उदाहरण अब न जाने कितने स्कूल, कॉलेज, मोहल्ले और चौपालों में दिया जाता है। घरों, पुस्तकालयों व कोचिंग सेंटर्स में हजारों युवक एवं युवतियां आपकी सफलता से प्रेरणा लेकर खुद को सुबह-शाम मेहनत की कसौटी पर कस रहे हैं। भाई साहबों व दलालों के चक्करों से मुक्त होकर हमारे नवयुवक अपनी ऊर्जा को रचनात्मक कार्यों में लगा रहे हैं।

अब हम सभी का एक साझा दायित्व व बनता है। आइए, हम संकल्प करें कि जिस ईमानदारी व मेहनत से सरकारी सेवा में प्रवेश किया है, उसी ईमानदारी व मेहनत से हरियाणा की सेवा करते रहेंगे। प्रदेश को आर्थिक व सामाजिक विकास के सर्वोच्च शिखर पर लेकर जाएंगे।

विपक्ष आरोप लगा रहा है कि यह सब विधानसभा चुनाव के लिए किया जा रहा है। हरियाणा में कांग्रेस पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री आफताब अहमद का बोलना है कि मनोहरलाल खट्टर हर वस्तु को चुनाव के आइने में देखते हैं। उसका माइलेज लेने की प्रयास करते हैं। यह लेटर विधानसभा चुनावों के मद्देनजर लिखा गया है।

आफताब के मुताबिक, सरकार बोलना चाहती है कि हमने आपको जॉब दी, आप हमें वोट दो। हरियाणा के इतिहास में किसी भी मुख्यमंत्री ने ऐसा लेटर नहीं लिखा। हरियाणा के वरिष्ठ पत्रकार नवीन धमीजा कहते हैं कि यह लेटर वोट मांगने का एक नया उपाय लग रहा है। यह चिट्ठी चुनावी अपेक्षा से लिखी गई है।

हालांकि, भाजपा प्रवक्ता राजीव जेटली विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हैं। उनका बोलना है कि हमारी सरकार ने भाई-भतीजावाद से ऊपर उठकर युवाओं को योग्यता के आधार पर जॉब दी है। इसलिए बिना सिफारिश जॉब पाने वाले युवाओं को लेटर लिखने की हमारी सरकार में हौसला है। उनका हौसला बढ़ाया जा रहा है ताकि जिस ईमानदारी से उनकी जॉब लगी है उसी ईमानदारी से वे जनता की सेवा करें।

जेटली कहते हैं कि पुरानी सरकार भाई-भतीजावाद, क्षेत्रवाद, जातिवाद व पैसावाद के आधार पर नौकरियां देती थीं इसलिए उसके नेता जॉब पाने वालों से कभी आंख नहीं मिला सके।वो भला चिट्ठी लिखने की हौसला क्या करते।