कांग्रेस पार्टी ने राष्‍ट्रीय जनता दल के मुख्‍यमंत्री प्रत्‍याशी को अपना नेता मानने से किया मना

 कांग्रेस पार्टी ने राष्‍ट्रीय जनता दल के मुख्‍यमंत्री प्रत्‍याशी को अपना नेता मानने से किया मना

बिहार में महागठबंधन (Grand Alliance) में ऑल इज वेल नहीं है. आगामी विधानसभा चुनाव (Assembly Election) में कांग्रेस पार्टी (Congress) ने राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के मुख्‍यमंत्री प्रत्‍याशी (CM Candidate) तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) को अपना नेता मानने से मना कर दिया है.

Image result for  कांग्रेस पार्टी, तेजस्‍वी यादव,

विदित हो कि गुरुवार को आयोजित आरजेडी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की मीटिंग में तय किया गया कि 2020 का बिहार विधानसभा चुनाव तेजस्वी यादव के नेतृत्व में लड़ा जाएगा.पार्टी ने तेजस्‍वी को सीएम उम्मीदवार भी घोषित कर दिया. आरजेडी की इस बात पर महागठबंधन के अन्‍य घटक दलों, खासकर कांग्रेस पार्टी को असहमति है.

कांग्रेस ने इसे आरजेडी का 'निजी फैसला' करार देते हुए बोला है कि उसका इससे कोई लेना देना नहीं है.

तेजस्वी के नेतृत्व को कांग्रेस पार्टी ने नकारा

कांग्रेस के नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने बोला है कि तेजस्वी के नेतृत्व ने चुनाव लड़ने का निर्णय आरजेडी का व्यक्तिगत निर्णय है. हर पार्टी को अपना निर्णय लेने का अधिकार है. गत लोकसभा चुनाव में महागठबंधन में आरजेडी और तेजस्‍वी की बड़ी किरदार पर कांग्रेस पार्टी के शकील अहमद ने बोला कि अब नए परिवेश में नयी कहानी लिखी जाएगी.

तेजस्‍वी को ही नेता मानता आरजेडी

कांग्रेस के नेता जो भी कहें, आरजेडी की मंशा स्‍पष्‍ट है. आरजेडी के भाई वीरेन्द्र ने बोला कि आगामी विधानसभा चुनाव तेजस्‍वी के नेतृत्‍व में ही लड़ा जाएगा व उसमें हर हाल में पार्टी की जीत होगी.

कांग्रेस में अकेले चुनाव लड़ने की उठी थी मांग

विदित हो कि लोकसभा चुनाव में महागठबंधन की पराजय के बाद कांग्रेस पार्टी और आरजेडी के रिश्‍तों में पहले वाली बात नहीं रही. कांग्रेस पार्टी के कई नेताओं ने पराजय के लिए तेजस्वी यादव को जिम्मेदार बताया था. कांग्रेस पार्टी ने पराजय को लेकर जो समीक्षा मीटिंग की थी, उसमें बिहार में अकेले विधानसभा चुनाव लड़ने की मांग उठी थी.