कंपनी ने मेक्सिकों के प्यूब्ला शहर के अपने प्लांट में बीटल के आखिरी वेरिएंट को लेकर लिया ये फैसला, बनाएगी इतिहास

कंपनी ने मेक्सिकों के प्यूब्ला शहर के अपने प्लांट में बीटल के आखिरी वेरिएंट को लेकर लिया ये फैसला, बनाएगी इतिहास

फॉक्सवैगन अपनी सबसे लोकप्रिय कारों में से एक बीटल का प्रोडक्शन बंद करने जा रहा है। कंपनी ने मेक्सिकों के प्यूब्ला शहर के अपने प्लांट में बीटल के आखिरी वेरिएंट का प्रोडक्शन रोकने का निर्णय किया है। इस कार ने पिछले 80 वर्ष में पूरी संसार में अपनी छाप छोड़ी है। बीटल ने अपनी पहचान आम लोगों की कार के तौर पर बनाई थी व देखते-देखते ये गाड़ी संसार की सबसे प्रसिद्ध गाड़ियों में से एक बन गई।

Image result for हिटलर , पीपुल्स कार,
आम लोगों की कार
इतिहास के पन्नों में बीटल का नाम यूं ही नहीं दर्ज हुआ है। ये नाजी जर्मनी के तानाशाही इतिहास की गवाह रही है व इसे खासतौर पर जर्मनी के तानाशाह अडोल्फ हिटलर के लिए ही बनाया गया था। हिटलर ने पॉर्श कार कंपनी के फाउंडर फर्डिनांड पॉर्श से एक ऐसी कार बनाने को बोला था, जो आम लोगों की पसंद बन सके, जिसको 'पीपुल्स कार' यानी आम आदमी की गाड़ी बोला जा सके। हिटलर के आदेश के बाद फर्डिनांड पॉर्श ने 1937 में फॉक्सवैगनवर्क नाम की फैक्ट्री गठित व 1938 में पहली बीटल कार सड़कों पर उतरी।

अमेरिका की रगों में बसती थी बीटल
बीटल लॉन्च होते ही धीरे-धीरे मीडिल-क्लॉस लोगों की शान बन गई। ये गाड़ी ग्लोब्लाइजेशन की पहचान बनी। 1960 में बीटल अमेरिका में सबसे अधिक लोकप्रिय कार बनी व यूएस ही इसका सबसे बड़ा बाजार भी बना। 1968 में अमेरिका 5,63,522 बीटल अमेरिका में बिकी, जिसका मतलब है प्रोडक्शन का 40 फीसद। फॉक्सवैगन के हेडक्वॉर्टर Wolfsburg में 1978 में इसका प्रोडक्शन बंद हो गया। लेकिन बीटल अभी भी जिंदा थी। व मेक्सिकों में इस कार 1967 से लेकर 2003 तक प्रोडक्शन जारी रहा।