मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने धोनी की धीमी बल्लेबाजी केा देखते हुए दे दिए यह इशारे कहा , अब आ गया समय

  मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद  ने धोनी की धीमी बल्लेबाजी केा देखते हुए दे दिए यह इशारे कहा , अब आ गया समय

विश्व कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों मिली पराजय के बाद से महेंद्र सिंह धोनी के संन्‍यास लेने की अटकलें तेज हो गई हैं। पूर्व भारतीय कैप्टन महेंद्र सिंह धोनी भले ही अभी संन्यास के बारे में न सोच रहे हों लेकिन इसके सारे इशारा मिलने प्रारम्भ हो गए है कि अब महेंद्र सिंह धोनी का कॅरियर समाप्त हो चुका है।

Image result for चयनकर्ता एमएसके प्रसाद, महेंद्र सिंह धोनी ,
इस बार के वर्ल्ड कप में रही। सेमीफाइनल में जिस तरह से महेंद्र सिंह धोनी ने धीमी पारी की खेली उससे धोनी की बल्लेबाजी पर सवाल उठने प्रारम्भ हो गए हैं। इंग्लैंड के साथ खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में धोनी ने 31 गेंद में 42 रन बनाए थे। धोनी ने पारी की आरंभ बहुत ज्यादा धीमे की व आखिर ओवर में कुछ बेहतरीन शॉट लगाए लेकिन तब तक बहुत ज्यादादेर हो चुकी थी। टाइम्स ऑफ इंडिया को मिली जानकार के मुताबिक सारे वर्ल्ड कप में धोनी की धीमी बल्लेबाजी केा देखते हुए मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद जल्द ही धोनी से बात करेंगे। हालांकि उन्होंने इशरों ही इशारों में यह इशारा दे दिए हैं कि अब धोनी को टीम से बाहर करने का समय आ गया है।


प्रसाद ने बोला कि हमें आश्चर्य है कि धोनी ने अब तक ऐसा नहीं किया है। ऋषभ पंत जैसे युवा खिलाड़ी उनकी स्थान लेने का इंतजार कर रहे हैं। जैसा कि हमने दुनिया कप में देखा, धोनी अब आक्रामक बल्लेबाजी नहीं कर पा रहे हैं। नंबर 6 या 7 पर उतरने के बावजूद वह रन को बढ़ाने के लिए लगातार प्रयत्न कर रहे हैं। जो टीम के लिए घातक साबित हो रहा है।

उन्होंने बताया कि धोनी की धीमी बल्लेबाजी को देखते हुए वेस्ट इंडीज दौरे से धोनी को बाहर किया गया है। उन्होंने बोला कि मुझे नहीं लगता कि 2020 के टी 20 दुनिया कप में चयनकर्ता उन्हें टीम में शामिल करेंगे। ऐसे में यह ठीक समय है कि धोनी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से खुद संन्यास ले लें।

दिलचस्प बात यह है कि धोनी व चयनकर्ताओं के बीच वर्ल्ड कप के बाद धोनी के संन्यास को लेकर कोई बात नहीं हुई थी। उन्होंने कहा, हम उनका ध्यान भटकाना नहीं चाहते थे। हम चाहते थे कि धोनी वर्ल्ड कप पर अपना पूरा ध्यान लगाएं। लेकिन अब समय आ गया है कि उन्हें कोई निर्णय ले लेना चाहिए। उन्होंने बोला कि धोनी के पास अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में हासिल करने के लिए अब कुछ नहीं बचा है। उन्हें जो कुछ भी हासिल करना था वह कर चुके हैं, इसलिए उन्हें नए खिलाड़ियों को मौका देना चाहिए।