भाई ने ही की अपने चिकित्सक भाई की इस बेरहमी के साथ हत्या, मर्डर के पीछे की वजह कर देगी हैरान

भाई ने ही की अपने चिकित्सक  भाई की इस बेरहमी के साथ हत्या, मर्डर के पीछे की वजह कर देगी हैरान

छत्तीसगढ़ की धमतरी जिला पुलिस ने डॉ। प्रभाकर राव की मर्डर करने वाले आरोपी को अरैस्ट कर लिया है। आरोपी व नहीं बल्कि उनका चचेरा भाई ही निकला। पुलिस के मुताबिक ये मर्डर पैसों के पुराने लेनदेन के चलते की गई थी। वैसे पुलिस ने कोरबा के रहने वाले आरोपी चचेरे भाई विशाल वाघटकर को अरैस्ट कर लिया है व आगे की कार्रवाई में जुट गई है। बताया जा रहा है कि सख्ती से पूछताछ करने पर आरोपी ने अपना अपराध कबूल लिया है।


खून से लतपत मिली थी चिकित्सक की लाश

बता दें कि बीते 22 मई को गुजराती कॉलोनी में श्याम रेसिडेंसी में रहने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक प्रभाकर राव की अज्ञात लोगों ने मर्डर कर दी गयी थी। चिकित्सक की डेड बॉडीबाथरूम में लहूलुहान हालत में देखी गई थी। इसके बाद इस घटना की सूचना सिटी कोतवाली पुलिस को दी गई। वही पुलिस मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का मुआयना किया वफॉरेंसिक टीम को बुलाकर जाँच भी कराई गई। जानकारी के मुताबिक डॉ। प्रभाकर राव रोज की तरह उपाध्याय नर्सिंग होम सहित अन्य अस्पतालों में ड्यूटी के बाद रात घर लौटे थे।दूसरी प्रातः काल जब घर में कार्य करने वाली नौकरानी पहुंची, तो बाथरूम में चिकित्सक प्रभाकर की डेड बॉडी खून से सनी हालत में देखकर दंग रह गई। इसके बाद तत्काल इर्द-गिर्द के लोगों को जानकारी दी गई। घटना की जानकारी मिलते ही एसपी के साथ उनकी टीम घटनास्थल पहुंचे गए थे। बताते हैं कि डॉ। प्रभाकर दंतेवाड़ा के रहने वाले थे जो वर्ष भर पहले धमतरी में शिफ्ट हुए थे। उनकी पत्नी की 2 वर्ष पहले मौत हो चुकी है। इसके आलावा उनके दो लड़की है, जो की उनके साथ नहीं रहते थे। इधर घटना के बाद मौके का मुआयना वसाक्ष्य के आधार पर पुलिस को संदेह था कि उनकी मर्डर किसी सम्बन्धी ने ही की होगी। संदेह के बिनाह पर पुलिस की जाँच भी इसी दिशा में आगे बढ़ी गई। वहीं पुलिस के सख्ती से पूछताछ करने पर आरोपी चचेरे भाई ने अपना अपराध कबूल कर लिया।

पैसों को लेकर था दोनों भाई में विवाद

पुलिस के मुताबिक ये मर्डर पैसों के पुराने लेनदेन के चलते की गई थी। आरोपी चचेरे भाई विशाल वाघटकर ने प्रापर्टी में इनवेस्ट करने के नाम पर डॉ। प्रभाकर राव को 12 लाख 50 हजार रूपए दिए थे। घटना के दो दिन पहले उसी पैसे को वापस लेने आरोपी धमतरी पहुंचा हुआ था। इस बीच पैसों को लेकर दोनों के बीच जमकर टकराव भी हुआ था। लेकिन डॉ।प्रभाकर राव ने आरोपी को डांट फटकार वापस भेज दिया था। इसके बाद आरोपी विशाल वाघटकर ने उन्हे जान से मारने की योजना बनाई। योजना के मुताबिक विशाल कोरबा से रायपुर आकर उसने अपने दोस्त की बाइक ली व सीधे धमतरी पहुंचा। मर्डर के दिन देर शाम डॉ। प्रभाकर राव के घर का दरवाजा खटखटाया। इसके बाद दोनों के बीच जमकर टकरावहुआ

हत्या के बाद की सबूत मिटाने की कोशिश

मर्डर के दिन देर शाम विशाल डॉ। प्रभाकर राव के घर पहुंचा था जहां दोनों के बीच जमकर टकराव हुआ। टकराव इतना बढ़ गया कि तैश में आकर अपने बैग में रखे चाकू से डॉ। प्रभाकर पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। इसके बाद विशाल ने घायल डॉ। प्रभाकर राव को बाथरूम में बंद कर दिया व खून से सने फर्श को साफ किया ताकि सबूत पुलिस के हाथ न लगे। इसके बाद आलमारी को तोड़कर पैसे सहित सोने के गहने अपने पास रख लिए। घटना के बाद आरोपी रातभर उसी घर में रहा व जैसे ही प्रातः काल हुई वो रायपुर की ओर निकल गया। इस बीच आरोपी ने मर्डर में प्रयोग किए चाकू को एक नाले में फेंक दिया। पुलिस का बोलना है कि आरोपी चचेरे भाई विशाल वाघटकर व मृतक डॉ। प्रभाकर राव के बीच व्यवसायिक मामलों को लेकर वार्ता होती थी। वही आरोपी के पिता सीएसईबी कोरबा में भृत्य थे। सेवानिवृत्त होने के बाद उन्हे भिन्न-भिन्न किश्तों में 30 लाख रूपए मिले थे। इसी में से विशाल ने डॉ।प्रभाकर को 12 लाख रूपए दिए थे। बहरहाल पुलिस ने आरोपी को अरैस्ट कर लिया है। उनके कब्जे से 15 से 20 लाख रूपए के सोने-चांदी के गहने व मोबाइल सहित नकदी रकम 2 लाख 81 हजार जब्त किया है। अब उनके विरूद्ध मर्डर का मुद्दा पंजीकृत कर आगे की कार्रवाई में पुलिस जुट गई है।