भरतौल की बेटी साक्षी की याचिका पर सुनवाई करते हुए इलाहाबाद न्यायालय ने उत्तर प्रदेश पुलिस को दिया ये बड़ा आदेश

भरतौल की बेटी साक्षी की याचिका पर सुनवाई करते हुए इलाहाबाद न्यायालय ने उत्तर प्रदेश पुलिस को दिया ये बड़ा आदेश

उत्‍तर प्रदेश के बरेली के बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी की याचिका पर सुनवाई करते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश पुलिस को साक्षी मिश्रा (23) व उसके पति अजितेश कुमार (29) की सुरक्षा का आदेश दिया है। यही नहीं, न्यायालय ने साक्षी व अजितेश के एडवोकेट विकास राणा को भी सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया है। जबकि न्यायालय ने साक्षी के पिता विधायक राजेश मिश्रा को नोटिस जारी करते हुए अपना पक्ष रखने के लिए याचिका को लम्बित रखा है।


Image result for भरतौल की बेटी साक्षी, न्यायालय, उत्तर प्रदेश पुलिस ,
साक्षी व अजितेश को दिया ये आदेश

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने याचियों साक्षी व अजितेश को आदेशित किया है कि उत्तर प्रदेश मैरिज रजिस्ट्रेशन रुल्स 2017 के तहत दो माह में अपनी विवाह रजिस्टर्ड कराएं।

न्यायालय ने कहा,' यदि दोनों मैरिज के लिए हर लिहाज से उपयुक्त हैं तो दो माह में नियमानुसार विवाह रजिस्टर्ड होनी चाहिए। '

इसके साथ की न्यायालय ने कहा,'दो माह में विवाह रजिस्टर्ड न होने पर न्यायालय का आदेश स्वत: निरस्त समझा जायेगा।

कोर्ट ने देखे प्रमाण पत्र
इससे पहले जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा की एकल पीठ ने आज मुद्दे की सुनवाई जब शुरु हुई तो सबसे पहले विवाह के सर्टिफिकेट के साथ आयु के लिए साक्षी व अजितेश के शैक्षिक प्रमाण पत्रों को देखा, जिससे संतुष्ट होने के बाद न्यायालय ने बोला कि दोनों बालिग हैं व साथ रह सकते हैं। न्यायालय ने साक्षी व अजितेश की अर्जी पर पुलिस को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया है।

दोनों ने यहां की शादी
बताते चलें कि बरेली से बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी ने घर भागकर अपने प्रेमी अजितेश कुमार से विवाह की है। दोनों ने प्रयागराज के धूमनगंज इलाके में बेगम सराय के प्राचीन राम जानकी मंदिर में विवाह है, जिसका सर्टिफिकेट विवाह के बाद से ही सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था। हांलाकि मंदिर में विवाह होने को लेकर मंदिर के मंहत परशुराम दास ने बोला है कि मंदिर में कोई विवाह नहीं होती है व न ही कोई विवाह हुई है।

साक्षी व अजितेश ने मांगी थी सुरक्षा
बीजेपी विधायक की बेटी साक्षी व उनके पति अजितेश ने 5 जुलाई को इलाहाबाद उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल कर सुरक्षा की मांग की थी। उन्होंने याचिका में अपने विधायक पिता, भाई व परिवार के अन्य सदस्यों से जान का खतरा बताया था। इसके साथ ही बरेली पुलिस पर भी पिता के दबाव में कार्य करने का आरोप लगाया था। साक्षी व उनके पति के दो वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे थे, जिसमें उन्होंने अपनी जान का खतरा बताया था। जबकि साक्षी के एडवोकेट विकास राणा ने 11 जुलाई को उच्च न्यायालय में मुद्दे की सुनवाई के दौरान ये वीडियो भी पेश किया था। वहीं, साक्षी की ओर से दाखिल याचिका में प्रदेश सरकार, एसएसपी बरेली, एसओ कैंट बरेली व विधायक राजेश मिश्रा को पक्षकार बनाया गया है।