अस्थमा के मरीज इस बदलते मौसम में खुद का इस तरह से रखें ध्यान

अस्थमा के मरीज इस बदलते मौसम में खुद का इस तरह से रखें ध्यान

अस्थमा सांस से जुड़ी गंभीर बीमारी है जिसके कारण आदमी को सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. यह कठिनाई बढ़ने पर पीड़ित आदमी को इनहेलर का सहारा लेना पड़ता है. कुछ मामलों में अस्थमा का दौरा आदमी के लिए जानलेवा भी साबित हो जाता है. इसके कारण दमा से पीड़ित आदमी को विशेषकर बदलते मौसम में खुद का ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है.

Image result for अस्थमा के मरीज,  बरतें ये सावधानियां, ]

मॉनसून के साथ आने वाली ठंडी हवा व नमी दूसरों को राहत दे सकती है लेकिन अस्थमा के मरीजों के लिए यह भ्रमण का कारण बन सकती है. ऐसे में कुछ सावधानियां बरतने की खास आवश्यकता है.

सावधानियां

* बारिश के मौसम में दीवारों में नमी जमा हो जाती है, जिससे कई बार काई जमा हो जाती है. यह दोनों ही स्थिति अस्थमा के मरीजों के लिए अच्छी नहीं है. आजकल मार्केट में कई तरह के प्रॉडक्ट्स उपस्थित हैं जिनसे दीवारों को डैम्प-प्रूफ बनाया जा सकता है, चाहे तो इनका भी प्रयोग किया जा सकता है, या काई जमा होने पर दीवार को ब्लीच से साफ करें.

* घर में ड्यूमिडिफायर मशीन का प्रयोग करें ताकि नमी जमा न हो सके.

* कूलर की स्थान ऐसी यूज करें. कूलर से घर में नमी बढ़ती है जो मरीजों के लिए अच्छा नहीं है.

* बाहर बारिश हो तो घर के दरवाजे बंद रखें. साथ ही में बाथरूम के दरवाजे भी बंद रखें, ताकि मॉइस्चर इकट्ठा न हो सके.