तुलसी शादी के बाद यहां से पढ़े यह ख़ास आरती पूजा हो जाएगी सफल

तुलसी शादी के बाद यहां से पढ़े यह ख़ास आरती पूजा हो जाएगी सफल

आज तुलसी शादी है। हर वर्ष तुलसी शादी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि यानी देव प्रबोधनी एकादशी के दिन मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है है कि जो लोग कन्या सुख से वंचित होते हैं यदि वो इस दिन भगवान शालिग्राम से तुलसी जी का शादी करें तो उन्हें कन्या दान के बराबर फल की प्राप्ति होती है। इस दिन से लोग सभी शुभ कामों की आरंभ कर सकते हैं। आरती के बिना मां तुलसी की पूजा अधूरी है। आइए पढ़ते हैं तुलसी जी की आरती
Image result for तुलसी शादी के बाद
तुलसी जी की आरती

तुलसी महारानी नमो-नमो,

हरि की पटरानी नमो-नमो .

धन तुलसी पूरण तप कीनो,
शालिग्राम बनी पटरानी .

जाके लेटर मंजरी कोमल,
श्रीपति कमल चरण लपटानी ॥

धूप-दीप-नवैद्य आरती,
पुष्पन की वर्षा बरसानी .
छप्पन भोग छत्तीसों व्यंजन,
बिन तुलसी हरि एक ना मानी ॥

सभी सखी मैया तेरो यश गावें,
भक्तिदान दीजै महारानी .
नमो-नमो तुलसी महारानी,
तुलसी महारानी नमो-नमो ॥



तुलसी महारानी नमो-नमो,
हरि की पटरानी नमो-नमो.