शाह की कार्रवाई से घबराई ISI ने हिंदुस्तान के विरूद्ध प्रारम्भ की ये नयी साजिश

 शाह की कार्रवाई से घबराई ISI ने हिंदुस्तान के विरूद्ध प्रारम्भ की ये नयी साजिश

आतंकियों व अलगावादियों के विरूद्ध सुरक्षा एजेंसियों की लगातार कार्रवाई से बौखलाई ने हिंदुस्तान के विरूद्ध एक नयी साजिश रचनी प्रारम्भ कर दी है । पाकिस्तान ने कश्मीर के कुछ अलगवादियो की मदद से चोरी छुपे अलगाववादी ग्रुप बनाने में लगा हुआ है । ज़ी समाचार को मिली एक्सक्लूसिव जानकरी के मुताबिक पकिस्तान ने इस नए ग्रुप में लश्कर के आतंकवादियों को भी शामिल किया है। आइएसआई की मदद से बने इस ग्रुप को कश्मीर के साथ साथ जम्मू में सेना व सुरक्षाबलों के विरूद्ध बड़े प्रदर्शन की जिम्मेदारी दी गई है । रिपोर्ट के मुताबिक नए ग्रुप का प्रेसिडेंट इरशाद अहमद मालिक को बनाया गया है जिसके बारे में बोला जा रहा है की वो पूर्व में लश्कर का आतंकवादी रह चुका है ।

अमित शाह के गृह मंत्री बनने के बाद ही गृह मंत्रालय से जुड़े सूत्रों ने ये साफ़ कर दिया था की आतंक व अलगावादियों के विरूद्ध जीरो टॉलरेंस की पालिसी लगातार जारी रहेगी।एनआईए ,इनकम कर व प्रवर्तन निदेशालय कश्मीर में फैले करप्शन व टेरर फंडिंग के विरूद्ध कमर कस चुकी है जिससे आतंकवादी बौखलाए हुए है। एनआईए ने कई बड़े अलगवादी नेताओं को कारागार में डाल दिया है जिसके बाद से कश्मीर में आतंक की कमर टूट रही है।

गृह मंत्रालय से जुड़े एक ऑफिसर ने ज़ी समाचार को बताया है कि दिल्ली में स्थित पाक हाई कमीशन पहले भी अलगाववादी नेताओं को मदद करता रहा है। पाक से होने वाली टेरर फंडिंग का पैसा आतंकवादियों व अलगावादियों तक जाता है लेकिन एनआईए की जाँच से ये फंडिंग बहुत ज्यादा कम हो चुकी है, अब हमारी एजेंसियों ये पता लगा रही है कि जम्मू में बने इस अलगाववादी गुट को फंडिंग कौन कर रहा है व फंडिंग का सोर्स क्या है

ख़ुफ़िया एजेंसियों ने कुछ दिनों पहले केन्द्र सरकार को भेजे रिपोर्ट में बता या था कि कश्मीर में रमजान के दौरान अलगाववादी गुट फंडिंग की कमी को पूरा करने के लिए ज़कात का सहारा ले रहे है । यही नहीं नेपाल के रास्ते से भी आतंकवादियों को पैसे मिल रहे है ऐसे में पाक कश्मीर में आतंकियो को मदद करने के लिए हर प्रयास में लगा हुआ है ।