भारत ने अमेरिका को दिया ये बड़ा झटका, 21.70 करोड़ डॉलर का राजस्व मिलने की उम्मीद ड्यूटी बढ़ाने की घोषणा

भारत ने अमेरिका को दिया ये बड़ा झटका,  21.70 करोड़ डॉलर का राजस्व मिलने की उम्मीद ड्यूटी बढ़ाने की घोषणा

अमेरिका की तरफ से कारोबारी रियायतें वापिस होने के बाद अंतत: हिंदुस्तान ने भी 29 अमेरिकी उत्पादों पर आयात शुल्क में वृद्धि करने का फैसला ले लिया है. सरकार ने पिछले वर्ष जून में इसकी घोषणा की थी लेकिन बाद में इसकी समय सीमा कई बार बढ़ाई गई. बढ़ी हुई दरें 16 जून से लागू होंगी. वित्त मंत्रालय की तरफ से इसके लिए जल्दी ही अधिसूचना जारी होने की उम्मीद है.

Image result for अमेरिकी उत्पाद,

अमेरिका से आयात होने वाले जिन उत्पादों पर आयात शुल्क में वृद्धि की बात की जा रही है उनमें अखरोट, बादाम व दालें शामिल हैं. आयात शुल्क में वृद्धि के बाद हिंदुस्तान को इनके आयात से 21.70 करोड़ डॉलर का अलावा राजस्व मिलने की उम्मीद है. पिछले वर्ष जब अमेरिका ने भारतीय स्टील व अल्यूमीनियम उत्पादों पर आयात शुल्क में वृद्धि की थी तभी हिंदुस्तान ने जवाबी कार्रवाई में इन 29 उत्पादों पर ड्यूटी बढ़ाने की घोषणा की थी. उस वक्त हिंदुस्तान ने अमेरिका को तीन महीने में वक्त दिया था. लेकिन बाद में द्विपक्षीय वार्ता में यह मामला लंबा खिंचने के बाद ड्यूटी बढ़ाने का निर्णय टलता रहा.

अमेरिका ने 5 जून को ही हिंदुस्तान को जीएसपी रियायतों के दायरे से बाहर करने का निर्णय लिया है. हिंदुस्तान जीएसपी के तहत 5.5 अरब डालर सालाना का अमेरिका को निर्यात करता है. इसी परिप्रेक्ष्य में हिंदुस्तान ने अब यह निर्णय किया है. सूत्र बताते हैं कि हिंदुस्तान ने अमेरिका को आयात शुल्क की दर में वृद्धि करने के अपने इस फैसला से अवगत करा दिया है.

अमेरिका ने मार्च 2018 में स्टील पर आयात शुल्क बढ़ाकर 25 फीसद व अल्यूमीनियम उत्पादों पर 10 फीसद कर दिया था. चूंकि हिंदुस्तान इन दोनों उत्पादों का प्रमुख निर्यातक है, इसलिए अमेरिका के इस कदम से उसे 24 करोड़ डॉलर का अलावा भुगतान करना पड़ रहा है. हिंदुस्तान के इस निर्णय से अमेरिकी अखरोट पर आयात शुल्क को मौजूदा 30 फीसद से बढ़ाकर 120 फीसद हो जाएगी.

इसके अलावा चना व मसूर दाल पर ड्यूटी 30 फीसद से 70 फीसद व अन्य दालों पर 40 फीसद हो जाएगी. इसके अलावा बोरिक एसिड समेत कुछ अन्य रसायनों पर भी ड्यूटी की दरें बढ़ेंगी. साथ ही अमेरिकी सेब, नाशपाती व कुछ स्टील उत्पादों पर भी आयात शुल्क की दर बढ़ेगी. वर्ष 2017-18 में हिंदुस्तान ने अमेरिका को 47.9 अरब डॉलर का निर्यात किया था, जबकि अमेरिका से आयात 26.7 अरब डॉलर का किया गया.