जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए केशरीनाथ त्रिपाठी ने बनर्जी को किया फोन, नही मिला कोई जवाब

 जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए  केशरीनाथ त्रिपाठी ने बनर्जी को किया फोन, नही मिला कोई जवाब

पश्चिम बंगाल के गवर्नर केशरीनाथ त्रिपाठी ने शुक्रवार को बोला है कि उन्होंने जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए सूबे की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को फोन किया लेकिन उनकी ओर से कोई जवाब नहीं मिला। त्रिपाठी ने घायल जूनियर चिकित्सक परीबाह मुखोपाध्याय से अस्पताल जाकर मुलाकात की जहां उनका इलाज चल रहा है।

Image result for जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल,केशरीनाथ त्रिपाठी, ममता बनर्जी

उन्होंने मुखोपाध्याय की हालत का जायजा लेने के बाद प्रेस वालों को बताया है कि, "मैंने मुख्यमंत्री से सम्पर्क करने की प्रयास की। मैंने उन्हें फोन किया। अब तक उनकी ओर से कोई रिएक्शन नहीं आई है। अगर वह मुझे फोन करती हैं तो हम मुद्दे पर बातचीत करेंगे। " मुखोपाध्याय उन दो जूनियर डॉक्टरों में से एक हैं जिन पर एनआरएस मेडिकल कॉलेज वअस्पताल में सोमवार रात दम तोड़ने वाले मरीज के परिजनों ने हमला कर दिया था। इस हमले के बाद से प्रदेश भर के चिकित्सक हड़ताल पर बैठ गए जो अब भी जारी है। त्रिपाठी ने डॉक्टरों के प्रतिनिधियों से गुरुवार को चर्चा की थी।

वहीं, पश्चिम बंगाल में जारी डॉक्टरों की हड़ताल के बीच ममता बनर्जी ने एनआरएस अस्पताल के जूनियर डॉक्टरों को मुलाकात करने के लिए बुलाया है। इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री व टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी को लेटर लिखकर बोला है कि वह डॉक्टरों की दिक्कतों को सुलझाएं। पश्चिम बंगाल में आंदोलनकारी डॉक्टरों ने शुक्रवार को ममता से बिना किसी शर्त माफी मांगने की मांग की व चार दिनों से चल रहे अपने आंदोलन को वापस लेने के लिए प्रदेश सरकार के लिए छह शर्तें तय की।