इन केंद्रीय कर्मचारियों को अब 5 गुना ज्‍यादा मिलेगी यह रकम, सरकार ने बढ़ाई लिमिट

इन केंद्रीय कर्मचारियों को अब 5 गुना ज्‍यादा मिलेगी यह रकम, सरकार ने बढ़ाई लिमिट

Covid mahamari के बीच सरकार ने कुछ केंद्रीय कर्मचारियों का मेडिकल क्‍लेम रीइम्‍बर्समेंट (Medical Claim Reimbursement) की Ceiling बढ़ाने का फैसला किया है। शिक्षा विभाग के आदेश के मुताबिक अब Navodaya vidyalaya samiti के कर्मचारियों को 5 गुना मेडिकल क्‍लेम मिलेगा। उन्‍हें अब 5000 रुपए के बजाय 25000 रुपए सालाना मिलेंगे।

7th Central Pay Commission Pay Matrix : आदेश के मुताबिक Principal को छोड़कर दूसरे कर्मचारी अगर सरकारी या CGHS से पंजीकृत अस्‍पताल में इलाज कराते हैं तो उनके treatment की ceiling 5000 रुपए से बढ़ाकर 25000 रुपए होगी। यह आदेश 14 मई से लागू हुआ है। इसके अलावा Vidyalaya स्‍तर का कर्मचारी अगर एएमए से ट्रीटमेंट कराता है तो उसकी ceiling 5000 रुपए से बढ़ाकर 15000 रुपए की गई है।

क्‍या है आदेश में


7th Central Pay Commission Pay Matrix : शिक्षा विभाग का कहना है कि प्राइवेट डॉक्‍टर को रखने का प्रस्‍ताव भारत सरकार के फैसले के अनुरूप है। हालांकि इससे पहले रीजनल ऑफिस सभी प्रधानाचार्य को व्‍यापक गाइडलाइंस भेजेगा और उसको भी इन नियमों को मानना होगा।

Fixed Medical Allowance

7th Central Pay Commission Pay Matrix : यह भत्‍ता उनके लिए है, जो CGHS (Central Government Health Srvices) क्षेत्र से बाहर रहते हैं। 19 दिसंबर 1997 के बाद से FMA में बहुत से बदलाव हुए हैं। इसे बीच-बीच में रिवाइज भी किया जाता है।

पेंशनरों को 1000 रुपए भत्‍ता

7th Central Pay Commission Pay Matrix : बता दें कि केंद्र सरकार ने इससे पहले पेंशनरों को 1000 रुपए मेडिकल भत्‍ता (Fixed Medical Allowance) देने की मंजूरी दी थी। इसमें वे लोग शामिल थे, जिन्‍होंने अपने रिटायरमेंट या उसके बाद इस भत्‍ते की मांग नहीं रखी थी। वह इस भत्‍ते के लिए अप्‍लाई कर सकते हैं। उन्‍हें अप्‍लाई करने की तारीख से यह भत्‍ता मिलना शुरू हो जाएगा।


Skoda CNG Cars: स्कोडा हिंदुस्तान में नहीं करेगी सीएनजी कार लॉन्च

Skoda CNG Cars: स्कोडा हिंदुस्तान में नहीं करेगी सीएनजी कार लॉन्च

नई दिल्ली: पेट्रोल की बढ़ती हुई कीमतों से परेशान लोग पेट्रोल के विकल्प की ओर देख रहे है. साथ ही कार कंपनियां भी पेट्रोल के विकल्प के तौर पर ग्राहकों के लिए सीएनजी कारों और इलेक्ट्रॉनिक वाहनों को तवज्जो दे रही हैं. महिंद्रा एंड महिंद्रा से लेकर टाटा मोटर्स तक ने ग्राहकों के लिए कई सीएनजी कारों का विकल्प मार्केट में मौजूद कराने पर जोर दिया हैं. लेकिन इस समय भी एक स्कोडा ऑटो कार कंपनी ने घोषणा की है कि मौजूदा समय में, जो भी मॉडल्स हिंदुस्तान में चल रहे हैं उनमें सीएनजी किट लगाने की कोई योजना नहीं है. साथ ही आने वाले समय में भी इसकी कोई योजना नहीं है.

स्कोडा ऑटो इंडिया के ब्रांड निदेशक जैक हॉलिक्स ने इस बात की पुष्टि की है कि भारतीय ग्राहकों के लिए कंपनी अपने सबसे लोकप्रिय मॉडल सेडान रैपिड में सीएनजी किट लगाने के बारे में कोई योजना नहीं बना रही है. स्कोडा ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि हिंदुस्तान में वह कोई भी नयी रैपिड लांच करने के बारे में नहीं सोच रहे हैं. बल्कि कार कंपनी ने बोला है कि भारतीय ग्राहकों के लिए एक नया मॉडल लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं.

नए मॉडल का नाम हो सकता हैं स्लाविया!

स्कोडा ऑटो कंपनी हिंदुस्तान में जो नया मॉडल लॉन्च करने जा रही हैं उसका कोड नेम ANB रखा गया है. खबरों की माने तो कंपनी इस नए मॉडल का नाम "स्लाविया" रख सकती है.

स्कोडा के ब्रांड निर्देशक हॉलिस ने पिछले महीने दिया था जवाब

स्कोडा कंपनी के ब्रांड निदेशक हॉलिस ने पहले मार्च में हिंदुस्तान में सीएनजी विकल्प वाली रैपिड लॉन्च करने की पुष्टि की थी. इसके चलते लोग अनुमान लगा रहे थे कि स्कोडा आने वाले समय में और भी कारे सीएनजी विकल्प के साथ देगी लेकिन कंपनी के निदेशक ने इस बात से साफ इन्कार कर दिया था.

हॉलिस ने बोला था कि स्कोडा ऑटो इंडिया वर्ष के अंत तक एक नयी मिडसाइज सेडान पेश करेगी. इस मिडसाइज सेडान का नाम स्लाविया रखा गया हैं. स्लाविया एमक्यूबी-एओ-इन प्लेटफार्म पर आधारित होगी. साथ ही बताया जा रहा है कि स्लाविया में 1.0 ली TSI और 1.05 ली TSI इंजन दिया जाएगा.