RTO में बगैर टेस्‍ट दिए भी बन सकेगा ड्राइविंग लाइसेंस, जानें कैसे?

RTO में बगैर टेस्‍ट दिए भी बन सकेगा ड्राइविंग लाइसेंस, जानें कैसे?

नई दिल्‍ली यदि आप ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License) बनवाने की सोच रहे हैं, लेकिन आरटीओ (RTO) में होने वाले ड्राइविंग टेस्‍ट से बचना चाह रहे हैं तो आपके लिए राहत देने वाली समाचार है जल्‍द ही आरटीओ में बगैर ड्राइविंग टेस्‍ट के ही लोग ड्राइविंग लाइसेंस बनवा सकेंगे इसके लिए सड़क परिवहन मंत्रालय (Ministry of Road Transport) से मान्‍यता प्राप्‍त ड्राइविंग टेस्‍ट सेंटर से ट्रेनिंग लेनी होगी, जिसके बाद सेंटर से एक सर्टिफिकेट मिलेगा इसके आधार पर ड्राइविंग लाइसेंस बनवाते समय टेस्‍ट देने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी यह मान्‍यता प्राप्‍त टेनिंग सेंटर 1 जुलाई 2021 से प्रारम्भ हो जाएंगे सड़क परिवहन मंत्रालय ने इस विषय में आदेश जारी कर दिए हैं

सड़क परिवहन मंत्रालय के अनुसार, प्रति साल देश में होने वाले हादसों का एक कारण ट्रेंड ड्राइवरों की कमी होना है मंत्रालय के मुताबिक मौजूदा समय देश में करीब 22 लाख ड्राइवरों की कमी है इस कमी को पूरा करने और सड़क हादसों को कम करने के लिए सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने तय गाइडलाइन के मुताबिक देशभर में ड्राइवर टेनिंग सेंटर खोलने की अनुमति दे दी है लोग मंत्रालय के मानक के मुताबिक सेंटर खोल सकते हैं, जिसमें लोगों को ट्रेनिंग दी सकेगी ट्रेनिंग के बाद टेस्‍ट लिया जाएगा टेस्‍ट पास करने वालों को सेंटर सर्टिफिकेट देगा, जिसके आधार पर बगैर टेस्‍ट दिए ड्राइविंग लाइसेंस बन सकेगा

ड्राइवर ट्रेनिंग सेंटर के लिए शर्तें
ट्रेनिंग सेंटर के लिए मैदानी इलाके में दो एकड़ और पहाड़ी इलाके में एक एकड़ जमीन की आश्‍वयकता होगी एलएमवी और एचएमवी दोनों तरह के वाहनों के लिए सिम्‍युलेटर जरूरी होगा, जिससे ट्रेनिंग दी जाएगी यहां पर बायोमीट्रिक अटेंडेंस और इंटरनेट के लिए ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी महत्वपूर्ण होगी सेंटर में पार्किंग, रिवर्स ड्राइविंग, ढलान, ड्राइविंग आदि ट्रेनिंग देने के लिए ड्राइविंग ट्रैक जरूरी होगा इसमें थ्‍योरी और सेंगमेंट कोर्स होंगे सेंटर में सिम्‍युलेटर की सहायता से हाईवे, ग्रामीण इलाके, भीड़भाड़ और लेन में चलने वाली जगहों पर बरसात, कोहरा और रात में वाहन चलाने की ट्रेनिंग दी जाएगी


Skoda CNG Cars: स्कोडा हिंदुस्तान में नहीं करेगी सीएनजी कार लॉन्च

Skoda CNG Cars: स्कोडा हिंदुस्तान में नहीं करेगी सीएनजी कार लॉन्च

नई दिल्ली: पेट्रोल की बढ़ती हुई कीमतों से परेशान लोग पेट्रोल के विकल्प की ओर देख रहे है. साथ ही कार कंपनियां भी पेट्रोल के विकल्प के तौर पर ग्राहकों के लिए सीएनजी कारों और इलेक्ट्रॉनिक वाहनों को तवज्जो दे रही हैं. महिंद्रा एंड महिंद्रा से लेकर टाटा मोटर्स तक ने ग्राहकों के लिए कई सीएनजी कारों का विकल्प मार्केट में मौजूद कराने पर जोर दिया हैं. लेकिन इस समय भी एक स्कोडा ऑटो कार कंपनी ने घोषणा की है कि मौजूदा समय में, जो भी मॉडल्स हिंदुस्तान में चल रहे हैं उनमें सीएनजी किट लगाने की कोई योजना नहीं है. साथ ही आने वाले समय में भी इसकी कोई योजना नहीं है.

स्कोडा ऑटो इंडिया के ब्रांड निदेशक जैक हॉलिक्स ने इस बात की पुष्टि की है कि भारतीय ग्राहकों के लिए कंपनी अपने सबसे लोकप्रिय मॉडल सेडान रैपिड में सीएनजी किट लगाने के बारे में कोई योजना नहीं बना रही है. स्कोडा ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि हिंदुस्तान में वह कोई भी नयी रैपिड लांच करने के बारे में नहीं सोच रहे हैं. बल्कि कार कंपनी ने बोला है कि भारतीय ग्राहकों के लिए एक नया मॉडल लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं.

नए मॉडल का नाम हो सकता हैं स्लाविया!

स्कोडा ऑटो कंपनी हिंदुस्तान में जो नया मॉडल लॉन्च करने जा रही हैं उसका कोड नेम ANB रखा गया है. खबरों की माने तो कंपनी इस नए मॉडल का नाम "स्लाविया" रख सकती है.

स्कोडा के ब्रांड निर्देशक हॉलिस ने पिछले महीने दिया था जवाब

स्कोडा कंपनी के ब्रांड निदेशक हॉलिस ने पहले मार्च में हिंदुस्तान में सीएनजी विकल्प वाली रैपिड लॉन्च करने की पुष्टि की थी. इसके चलते लोग अनुमान लगा रहे थे कि स्कोडा आने वाले समय में और भी कारे सीएनजी विकल्प के साथ देगी लेकिन कंपनी के निदेशक ने इस बात से साफ इन्कार कर दिया था.

हॉलिस ने बोला था कि स्कोडा ऑटो इंडिया वर्ष के अंत तक एक नयी मिडसाइज सेडान पेश करेगी. इस मिडसाइज सेडान का नाम स्लाविया रखा गया हैं. स्लाविया एमक्यूबी-एओ-इन प्लेटफार्म पर आधारित होगी. साथ ही बताया जा रहा है कि स्लाविया में 1.0 ली TSI और 1.05 ली TSI इंजन दिया जाएगा.