यात्रीगण कृपया ध्यान दें! रेलवे ने आज इन 52 ट्रेनों को कर दिया है आंशिक तौर पर Cancel

यात्रीगण कृपया ध्यान दें! रेलवे ने आज इन 52 ट्रेनों को कर दिया है आंशिक तौर पर Cancel

भारत में रेलगाड़ी देशभर में यात्रा करने का सबसे प्रमुख माध्यम है। लोग लंबी दूरी की यात्रा के लिए आज भी रेलगाड़ी को तरजीह देते हैं। लोगों की इसी सहूलियत को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेलवे देश में कोविड स्पेशल ट्रेनों का परिचालन कर रहा है। हालांकि, अगस्त महीने के पहले दिन भारतीय रेलवे ने कई ट्रेनों को आंशिक रूप से कैंसल कर दिया है। इसके तहत रेलवे ने 17 ट्रेनों को अंतिम गंतव्य से पहले ही टर्मिनेट करने की घोषणा की है। इसके साथ ही 25 ट्रेनों के सोर्स स्टेशन (जिस स्टेशन से ट्रेन चलती है) में भी बदलाव किया है।

जानिए किन ट्रेनों को अंतिम गंतव्य से पहले ही कर दिया गया है टर्मिनेट

ट्रेन नंबर 01029: CSMT-KOP SPL - मिराज जंक्शन से कोल्हापुर के बीच यह ट्रेन कैंसल रहेगी। इस तरह मिराज जंक्शन ही इस ट्रेन का अंतिम गंतव्य होगा।
ट्रेन नंबर 01040: MAHARASHTRA EXP- यह ट्रेन भी मिराज जंक्शन से कोल्हापुर के बीच रद्द रहेगी। मिराज जंक्शन ही इस ट्रेन का अंतिम गंतव्य होगा।
ट्रेन नंबर 01049: ADI-KOP EXPRESS - यह ट्रेन भी कोल्हापुर की बजाय मिराज जंक्शन पर ही टर्मिनेट हो जाएगी।
ट्रेन नंबर 01411: MAHALAXMI SPL - मिराज जंक्शन से कोल्हापुर के बीच यह ट्रेन कैंसल रहेगी। मिराज जंक्शन ही इस ट्रेन का अंतिम गंतव्य होगा।
ट्रेन नंबर 01913: AF-ETAH UNRESERVED EXP - यह ट्रेन बरहन और एटा स्टेशन के बीच कैंसल रहेगी। बरहन स्ट्रेशन पर यह ट्रेन टर्मिनेट हो जाएगी।
ट्रेन नंबर 01915: TDL-ETAH UNRESERVED SPL - यह रेलगाड़ी भी बरहन और एटा स्टेशनों के बीच रद्द रहेगी। इस ट्रेन का डेस्टिनेंशन अब एटा की बजाय बरहन स्टेशन होगा।
ट्रेन नंबर 02074 BBS-HWH JAN SHATABDI- यह ट्रेन खड़गपुर जंक्शन से हावड़ा जंक्शन के बीच नहीं चलेगी।
इनके अलावा ये ट्रेनों को भी आंशिक रूप से निरस्त कर दिया गया हैः

रेलवे ने इन ट्रेनों को सोर्स स्टेशन में किया है बदलावः

भारतीय रेलवे ने 01030 नंबर को Koyna Express, 01039 नंबर की महाराष्ट्र एक्सप्रेस, 01412 नंबर की महालक्ष्मी स्पेशल, 02087 नंबर की हावड़ा- पुरी सुपरफास्ट स्पेशल, 02206 नंबर की आरएमएम-एमएस सुपरफास्ट स्पेशल, 02260 नंबर की हावड़ा- सीएसएमटी स्पेशल, 02444 नंबर की JU DEE SF EXP, 04700 नंबर की BJPL-PTK EXP Special सहित कुल 25 ट्रेनों के सोर्स स्टेशन में बदलाव किया है।

इन ट्रेनों को रूट में बदलाव


भारतीय रेलवे ने 00761 नंबर की RU-NZM EXP के रूट में बदलाव किया है। इस ट्रेन के रूट में Renugunta Jn से हजरत निजामुद्दीन के बीच बदलाव किया गया है। वहीं, 02510 नंबर GHY-BNC Express Special के रूट में भी भारतीय रेलवे ने बदलाव किया है। इस ट्रेन के रूट में NEW COOCH BEHAR से RNINGR JLPaigri के बीच परिवर्तन किया गया है।

यहां देख सकते हैं पूरी लिस्ट

भारतीय रेलवे द्वारा ट्रेनों के रूट में हुए किसी तरह के बदलाव, आंशिक रूप से निरस्त ट्रेनों की सूची को आप नेशनल ट्रेन इन्क्वायरी सिस्टम (NTES) पर घर बैठे देख सकते हैं। इतना ही नहीं भारतीय रेलवे इस तरह के किसी परिवर्तन की सूचना SMS के जरिए भी यात्रियों को देता है। आप 139 पर कॉल करके भी अपनी ट्रेन के रूट से जुड़े किसी भी तरह के बदलाव के बारे में पूछ सकते हैं। 


प्रधानमंत्री मोदी के अभियान सौभाग्य योजना के तहत 2.82 करोड़ परिवारों को मिला बिजली कनेक्शन

प्रधानमंत्री मोदी के अभियान सौभाग्य योजना के तहत 2.82 करोड़ परिवारों को मिला बिजली कनेक्शन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा शुरू किए गए अभियान, सौभाग्य योजना के तहत अब तक 2.82 करोड़ परिवारों को बिजली का कनेक्शन हासिल हो चुका है। बिजली मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी उपलब्ध कराई है। सौभाग्य योजना के चार साल पूरे होने पर एक बयान जारी करते हुए बिजली मंत्रालय ने यह कहा है कि, "इस योजना के शुरू होने के बाद से, इस साल 31 मार्च तक, 2.82 करोड़ घरों में बिजली का कनेक्शन दिया जा चुका है। मार्च 2019 तक, देश के ग्रामीण और शहरी दोनों इलाकों में 2.63 करोड़ घरों को 18 महीने के रिकॉर्ड समय में बिजली का कनेक्शन प्रदान किया गया था।"

"इसके बाद, सात राज्यों असम, छत्तीसगढ़, झारखंड, कर्नाटक, मणिपुर, राजस्थान और उत्तर प्रदेश राज्यों में, 31 मार्च, 2019 से पहले चिन्हित किए गए लगभग 18.85 लाख बिना बिजली कनेक्शन वाले घर, जो पहले कनेक्शन नहीं लेना चाहते थे, लेकिन बाद में उन्होंने बिजली कनेक्शन प्राप्त करने की इच्छा जाहिर की थी। इस तरह के घर भी इस योजना के तहत शामिल थे।"

क्या है सौभाग्य योजना

सौभाग्य योजना की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर, 2017 को की थी और यह दुनिया के सबसे बड़े घरेलू विद्युतीकरण अभियानों में से एक है। इस योजना का उद्देश्य अंतिम छोर तक कनेक्टिविटी के जरिए देश में 'सार्वभौमिक घरेलू विद्युतीकरण' प्राप्त करना है। इसके साथ ही, ग्रामीण क्षेत्रों के उन सभी घरों और क्षेत्रों में बिजली कनेक्शन देना है, जिन घरों और शहरी क्षेत्रों में गरीब परिवारों तक बिजली कनेक्शन नहीं पहुंचा है।


इस योजना की शुरुआत करते हुए, प्रधानमंत्री ने "नए युग के भारत" में बिजली कनेक्शन प्रदान करने और इक्विटी, दक्षता और स्थिरता की दिशा में काम करने का संकल्प लिया था। इस योजना के तहत कुल बजट 16,320 करोड़ रुपये का था, जबकि सकल बजटीय सहायता (जीबीएस) 12,320 करोड़ रुपये की थी।