विकासोन्मुख हो बजट, नौकरियों के सृजन और रोजगार के लिए अर्थव्यवस्था में भारी निवेश की जरूरत

विकासोन्मुख हो बजट, नौकरियों के सृजन और रोजगार के लिए अर्थव्यवस्था में भारी निवेश की जरूरत

भारत ने आंकड़ों के हिसाब से भी अब तक के सबसे कमजोर वित्त वर्ष का सामना किया है, जो कोविड-19 महामारी से बुरी तरह प्रभावित रहा है। महामारी के शुरुआती महीनों से जून तक आर्थ‍िक गतिविधि‍यों में भारी गिरावट आई, इसके बाद सितंबर के बाद धीरे-धीरे इसमें सुधार हुआ। भारत इस मामले में सौभाग्यशाली रहा है कि यहां अन्य यूरोपीय देशों और कुछ पूर्वी एशियाई देशों की तरह कोरोना की दूसरी लहर नहीं आई है।

वित्त वर्ष 2021 की रियल जीडीपी में 7 से 8.5 फीसद तक की गिरावट आने का अनुमान है, जो भारत के इतिहास में सबसे कम जीडीपी रेट होगा। एक अनुकूल आधार प्रभाव और आर्थ‍िक गतिविधि‍यों के फिर से पटरी पर लौटने को देखते हुए अगले वर्ष में रियल जीडीपी 8-9 फीसदी और नॉमिनल जीडीपी 12.5-13.5 फीसदी तक बढ़ने की उम्मीद है। आर्थ‍िक गतिविधि‍यों के पटरी पर लौटने के बावजूद कई ऐसे सेक्टर हैं, खासकर सेवाओं में, जो अब भी बुरी तरह प्रभावित हैं। इनमें हॉस्पिटलिटी, टूरिज्म, रेस्टोरेंट, एंटरटेनमेंट और एविएशन शामिल हैं।

बजट से हमारी प्राथमिक उम्मीद यही है कि यह विकासोन्मुख हों। नौकरियों के सृजन और रोजगार के लिए अर्थव्यवस्था में भारी निवेश की जरूरत है। निवेश का चक्र तो वास्तव में महामारी से पहले ही मंदा हो गया था, लेकिन अब उसमें कुछ अच्छे संकेत दिख रहे हैं, क्योंकि पिछले दो साल से दबी हुई मांग और मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने तथा कंपनियों को आकर्षि‍त करने के सरकारी प्रयास से इसमें मदद मिली है। इसकी वजह से बहुत सी कंपनियां अपनी रणनीति में बदलाव कर चीन+1  मॉडल पर काम कर रही हैं।

आगे हम मैन्युफैक्चरिंग आधार को बढ़ाने, जो कि बड़े पैमाने पर नौकरी देने वाला सेक्टर है, की कोशि‍श के तहत पूंजीगत खर्च के लिए और प्रेरणा एवं प्रोत्साहन देख सकते हैं। आदर्श रूप से देखें तो निर्माण, किफायती मकान, रियल एस्टेट (कॉमर्शि‍यल सहित), पर्यटन, बुनियादी ढांचा (खासकर सड़कें, रेलवे) को वित्तीय प्रोत्साहन मिलना चाहिए, यह देखते हुए कि ये ऐसे सेक्टर हैं, जिनमें सबसे ज्यादा मल्टीप्लायर इफेक्ट होता है।

जिन अन्य सेक्टर्स पर ध्यान देना चाहिए वे हैं- एमएसएमई/ एसएमई। ऐसा अनुमान है कि भारत में करीब 6.5 लाख छोटे उद्यम हैं, जो कृषि के बाद सबसे ज्यादा नौकरियां देने वाला सेक्टर है। ऐसी प्रमुख MSME/SME, जो बड़ी कंपनियों को सप्लाई करने वाले चेन में हैं, उनमें फिर से ग्रोथ को रफ्तार देने में मदद के लिए नीतियां बनानी काफी महत्वपूर्ण हैं।

अब हम एक नए चक्र की तरफ बढ़ रहे हैं, तो केंद्र सरकार के पूंजीगत व्यय को 4 लाख करोड़ से बढ़ाकर 5.5 लाख करोड़ रुपये तक करना होगा, ताकि जरूरी शुरुआती गति बन सके। राज्यों को भी आवंटन करना होगा, क्योंकि बुनियादी ढांचे पर ज्यादातर खर्च राज्यों के स्तर पर होता है।

चुनौतीपूर्ण सकल राजकोषीय घाटे के लक्ष्य की चुनौती को देखते हुए कुल खर्च में काफी संतुलन बनाकर रखना होगा। राजकोषीय घाटा वित्त वर्ष 2022 में 5 फीसद को पार हो सकता है। (वित्त वर्ष 2021 में यह 7.5 फीसदी हो सकता है, जबकि बजट लक्ष्य 3.5 फीसदी था) राज्यों और केंद्र का मिलाकर राजकोषीय घाटा वित्त वर्ष 2022 में 11 से 12 फीसदी तक पहुंच सकता है।


सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से आठ कंपनियों का बाजार कैपिटलाइजेशन 1.94 लाख करोड़ रुपये बढ़ा

सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से आठ कंपनियों का बाजार कैपिटलाइजेशन 1.94 लाख करोड़ रुपये बढ़ा
सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से आठ कंपनियों के बाजार कैपिटलाइजेशन (मार्केट कैप) में बीते हफ्ते 1.94 लाख करोड़ रुपये का वृद्धि हुआ है इन कंपनियों में से सबसे अधिक फायदा में रिलायंस इंडस्ट्रीज रही है वहीं दूसरी ओर एचडीएफसी बैंक और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) के बाजार कैपिटलाइजेशन में गिरावट दर्ज की गयी है इस हफ्ते के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार कैपिटलाइजेशन 60,034.51 करोड़ रुपये बढ़कर 13,81,078.86 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है वहीं टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) का बाजार कैपिटलाइजेशन 41,040.98 करोड़ रुपये बढ़कर 11,12,304.75 करोड़ रुपये और कोटक महिंद्रा बैंक का 28,011.19 करोड़ रुपये के उछाल के साथ 3,81,092.82 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है
इन्फोसिस और हिंदुस्तान यूनिलीवर का मार्केट कैपिटलाइजेशन भी बढ़ा

इस दौरान भारत यूनिलीवर का मार्केट कैपिटलाइजेशन 16,388.16 करोड़ रुपये की वृद्धि के साथ 5,17,325.3 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है वहीं इन्फोसिस का बाजार कैपिटलाइजेशन 27,114.19 करोड़ रुपये बढ़कर 5,60,601.26 करोड़ रुपये पर और आईसीआईसीआई बैंक का 8,424.22 करोड़ रुपये की वृद्धि के साथ 4,21,503.09 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है इसी तरह एचडीएफसी की बाजार कैपिटलाइजेशन 1,038 करोड़ रुपये की वृद्धि के साथ 4,58,556.73 करोड़ रुपये तथा बजाज फाइनेंस की 12,419.32 करोड़ रुपये बढ़कर 3,28,072.65 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है  शीर्ष 10 कंपनियों की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले जगह पर कायम रही उसके बाद टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, इन्फोसिस, भारत यूनिलीवर, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, एसबीआई तथा बजाज फाइनेंस का जगह रहा


एचडीएफसी बैंक के मार्केट कैपिटलाइजेशन में आई गिरावट 

इस रुख के उलट एचडीएफसी बैंक का मार्केट कैपिटलाइजेशन 2,590.08 करोड़ रुपये की गिरावट के साथ 8,42,962.45 करोड़ रुपये पर आ गया है यही हाल एसबीआई का भी रहा जिसकी मार्केट कैपिटलाइजेशन इस दौरान  5,711.75 करोड़ रुपये घटकर 3,42,526.59 करोड़ रुपये रह गई है

Atom 1.0 बाइक से केवल 7 रुपये में करें 100 किलोमीटर का सफर       गर्म पानी पीने से हो सकता है स्वास्थ्य को ये नुकसान!       नींद नहीं आती है रातों में? अपनाएं ये उपाय       उरी बेस कैंप पहुंचे Vicky Kaushal, इंडियन आर्मी संग फोटोज़ शेयर कर बोले...       ये प्यारी सी 'डिमांड' भी कर दी, Sonu Sood ने बिहार की बहन के लिए दिखाई दरियादिली       इस मंदिर में चढ़ाया जाता है इंसान के निजी अंग का डमी मॉडल, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान       सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से आठ कंपनियों का बाजार कैपिटलाइजेशन 1.94 लाख करोड़ रुपये बढ़ा       करोड़ों में लगी Twitter के CEO के पहले ट्वीट की बोली...       इस दिन लगेगा खरमास, जानें इस दौरान क्या करें       बस इन नियमों का करना होगा पालन, सूर्य देव को अर्घ्य देने से बन जाते हैं कैसे भी बिगड़े काम       RSWS 2021: इंग्लैंड ने बांग्लादेश लीजेंड्स को हराया, केविन पीटरसन की धुआंधार बैटिंग       खिताबी सिक्सर लगाने उतरेगी रोहित की मुंबई, RCB से खेलेगी पहला मैच       44 लेयर में भरी जाएगी राम मंदिर की 15 मीटर गहरी नींव, पारंपरिक शैली में होगा निर्माण       दुनियाभर में फैली दहशत, कोरोना महामारी पर WHO ने दी चेतावनी       आर्मी तक पहुंची वैक्सीन, रिटायर्ड सैन्य कर्मियों का टीकाकरण       गौतम बुद्ध के ये अनमोल वचन बदल देंगे आपकी जिंदगी       कब से शुरू हो रहा है खरमास, नहीं कर पाएंगे कोई शुभ कार्य       मार्च में है महाशिवरात्रि, होली, विजया एकादशी जैसे महत्वपूर्ण व्रत एवं त्योहार       समस्याओं से आप भी हैं परेशान, तो पढ़ें भगवान ​बुद्ध से जुड़ी यह प्रेरक कथा       महाशिवरात्रि के दिन करें ये उपाय, शिव जी प्रसन्न होकर कष्टों से देते हैं मुक्ति