क्रिसमस पर ऐसी सजा दे रहा ये देश, देख कांप उठेगी आपकी भी रूह

क्रिसमस पर ऐसी सजा दे रहा ये देश, देख कांप उठेगी आपकी भी रूह

नई दिल्ली : 2010 की जनगणना को ध्यान में रखते हुए दुनिया का सबसे ज्यादा फैला हुआ धर्म ईसाई है। आपको बता दें कि इस धर्म में दुनिया की तकरीबन 31 फीसदी आबादी है। यानी करीब 7 अरब में से 2. 2 अरब लोग ईसाई हैं। इसका मतलब 70 फीसदी लोग ईसाई नहीं हैं। धार्मिक तौर पर यह लोग क्रिसमस नहीं मनाते हैं। दुनिया में 200 देशों में से करीब 40 से ज्यादा ऐसे देश हैं जहां लोग क्रिसमस को एक आम दिन मानते हैं। इन देशों में क्रिसमस के इस मौके पर कोई सार्वजानिक अवकाश नहीं होता हैं।

18 देशों में लोग नहीं मनाते क्रिसमस
गैर ईसाई देशों में से करीब 43 ऐसे देश हैं जहां क्रिसमस के दिन को खास नहीं माना जाता हैं। लेकिन इसमें से आधे से ज्यादा ऐसे देश भी हैं जहां लोग इस दिन को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। इन देशों में क्रिसमस की सजावट देखने को मिल जाती हैं। किसी तौर पर यहां के लोग इस दिन को मानते हुए दिख जाते हैं। लेकिन करीब 18 ऐसे देश हैं जहां लोग क्रिसमस को किसी तरह भी नहीं मनाते हैं।

क्रिसमस मनाने पर होती है सजा
अफगानिस्तान के इस देश में क्रिसमस जैसे पर्व को मनाने पर सजा मिलती है। इस देश में क्रिसमस को मनाना किसी जोखिम से कम नहीं हैं। आपको बता दें कि इस देश में 1990 के दशक से तालिबान की हुकूमत चलती आ रही है। ईसाई देशों के साथ इस देश का लगातार संघर्ष देखने को मिलता आ रहा है। इसलिए इस इस्लामी देश में अगर कोई क्रिसमस मनाता है तो उसे सजा के तौर पर अत्याचार सहने का जोखिम उठाना पड़ता है। ऐसे कितने इस्लामी देश हैं जहां क्रिसमस नहीं मनाया जाता है।

इन इस्लामिक देशों में नहीं मनाया जाता क्रिसमस
साल 1962 में फ्रांस से आजादी मिलने के बाद से इन मुस्लिम देशों में क्रिसमस मनाने की परम्परा नहीं रही। आपको बता दें कि तेल के लिए मशहूर इस्लामी देश ब्रूनेई में सार्वजानिक तौर पर क्रिसमस नहीं मनाने का कानून है। इसके साथ इस देश इस कानून को तोड़ने पर पांच साल तक जेल की सजा या 20,000 डॉलर का जुर्माना या दोनों भी है।


चीन ने दिया था भरोसा लेकिन नहीं दी वैक्सीन, धोखा खाए परागुए को भारत ने की मदद

चीन ने दिया था भरोसा लेकिन नहीं दी वैक्सीन, धोखा खाए परागुए को भारत ने की मदद

कोविड-19 वैक्सीन मामले में चीन का धोखा झेल रहे परागुए को भारत ने मदद दी है। दक्षिण अमेरिकी देश परागुए ने ताइवान को मान्यता देते हुए उसके साथ कूटनीतिक संबंध बनाए हुए हैं। इस पर चीन को सख्त आपत्ति है। कोरोना संक्रमण से जूझ रहे परागुए को चीन ने पहले वैक्सीन देने का भरोसा दिया लेकिन बाद में इन्कार कर दिया। ताइवान मुश्किल में फंसे अपने सहयोगी देश के लिए वैक्सीन का इंतजाम करने में सक्रिय हुआ और उसने भारत सरकार से वार्ता कर परागुए को वैक्सीन दिलवा दी। यह जानकारी ताइवान के विदेश मंत्री ने दी है।

परागुए की मदद कर रहा ताइवान 

चीन दावा करता है कि ताइवान उसका हिस्सा है। इसलिए उसके साथ दुनिया के किसी भी देश को स्वतंत्र कूटनीतिक रिश्ते नहीं रखने चाहिए। चीन के अनुसार दुनिया के 15 देश ताइवान के साथ कूटनीतिक रिश्ते रखे हुए हैं। उनमें परागुए भी शामिल है। लोकतांत्रिक देश परागुए को कोरोना से निपटने में हो रही मुश्किल के बीच वैक्सीन न मिलने के कारण अपनी जनता का आक्रोश भी झेलना पड़ रहा है। ऐसे में ताइवान ने कहा कि वह अपने मित्र राष्ट्र परागुए की मदद करेगा। 


चीन कर रहा भेदभाव 

ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू ने बुधवार को कहा, दुनिया के कई हिस्सों में कोविड से बचाव की वैक्सीन की आपूर्ति कर रहा चीन दक्षिण और मध्य अमेरिका को लेकर दुराभाव दिखा रहा है। वह इलाके में ताइवान के पांच सहयोगी देशों को वैक्सीन देने में ना-नुकुर कर रहा है। इसके चलते वहां पर मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। मुश्किलें झेल रहे देश ब्राजील, चिली और अल सल्वाडोर हैं। इन सभी के ताइवान के साथ कूटनीतिक रिश्ते हैं।


चीन की यह है नीति 

परागुए को लेकर चीन की नीति साफ है, वह ताइवान के साथ अपने रिश्तों पर यदि पुनर्विचार करता है तो चीन से वह दसियों लाख वैक्सीन खुराक प्राप्त कर सकता है। वू ने कहा, परागुए को दबाव से निकालने में ताइवान उसकी मदद करेगा। बताया कि कुछ हफ्ते पहले उन्होंने अमेरिका, जापान और भारत के नेताओं से बात की। 

भारत ने बढ़ाए मदद को हाथ 


इसके बाद भारत परागुए को कोवैक्सीन की खुराक देने के लिए तैयार हो गया। कोविड से बचाव की यह वैक्सीन भारत ने विकसित की है। भारत ने दक्षिण अमेरिकी देश को कोवैक्सीन की एक लाख खुराक उपहार के तौर पर भेज दी हैं। जल्द एक लाख खुराक और भेजी जाएंगी। वू ने कहा, भारत सबकी मदद का इच्छुक है, कोरोना काल में यह बात दुनिया ने जानी है। अमेरिका ने भी वैक्सीन उपलब्ध कराने का वादा किया है।


काम के बीच 5 मिनट का ब्रेक लेकर इन स्ट्रेचिंग एक्सरसाइजेस के जरिए करें अपनी एनर्जी चार्ज       कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से गर्भवती महिलाओं को घबराने की नहीं, सजग व सतर्क रहने की है जरूरत       लॉकडाउन के समय इन एक्सरसाइज़ से सिर्फ 7 दिनों में घटेगा वज़न!       लॉकडाउन में अवसाद से बचना है तो अपने आपको मनोरंजन में मसरूफ रखें       बदलते मौसम में सेहत के प्रति सचेत रहने के साथ ही इन जरूरी बातों का भी रखें ध्यान       ब्रेकफास्ट में सीरियल कितनी मात्रा में लेना रहेगा सेहत के लिए फायदेमंद       बार-बार हाथ धोने से हाथों की खूबसूरती कम हो गई है तो इस तरह रखें ख्याल       लॉकडाउन पीरियड का उठाएं फायदा, हेल्दी और बैलेंस डाइट के अलावा इन टिप्स के साथ करें बैली फैट कम       स्वाद के साथ सूंघने की क्षमता बंद हो जाना भी हो सकता है COVID-19 का लक्षण       ई-सिगरेट या स्मोकिंग से बढ़ सकता है कोरोना वायरस का ख़तरा       क्या टीबी वैक्सीन कर पाएगी कोरोना वायरस से बचाव?       अगर रहना चाहते हैं फिट तो डाइट में ज़रूर शामिल करें दालचीनी!       हार्वर्ड के शोधकर्ताओं का दावा, कोरोना से सूंघने की क्षमता भी होती है कम       रातों में अच्छी नींद के लिए लें जायफल, कोरोना से लड़ाई में भी मिलेगी मदद       विटामिन सी और किचन में मौजूद मसालों से बूस्ट होगा इम्यून सिस्टम       पाक को जी-20 से ऋण में राहत की उम्मीद, आर्थिक मामलों के मंत्री खुसरो बख्तियार ने दी जानकारी       दीपक हुड्डा ने 6 छक्कों के साथ ठोकी तूफानी फिफ्टी, बना दिया IPL में अद्भुत रिकॉर्ड       ये है भारत की सबसे सस्ती ABS वाली मोटरसाइकिल, देती है जबरदस्त माइलेज       भविष्य की चुनौतियों से निपटने को तैयार होगा स्वस्थ भारत, जानिए बजट में आपके स्वास्थ्य को लेकर क्या है खास       पति और बेटे की कोरोना से मौत पर महिला ने सदमे में तोड़ा दम