अधिकारियों को दी गई माफी का सम्मान करें लड़ाके, नई सरकार को बदनाम न होने दें : तालिबान

अधिकारियों को दी गई माफी का सम्मान करें लड़ाके, नई सरकार को बदनाम न होने दें : तालिबान

तालिबान ने गुरुवार को अपने लड़ाकों से सभी अफगान सरकारी अधिकारियों को दी गई सामान्य माफी का सम्मान करने और इस्लामिक अमीरात की नई सरकार को बदनाम नहीं करने का आग्रह किया। द खामा प्रेस न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट कहती है, अफगानिस्तान के इस्लामिक अमीरात के कार्यवाहक रक्षा मंत्री मुल्ला मोहम्मद याकूब ने अपने लड़ाकों से कहा कि सामान्य माफी की घोषणा की गई है और किसी को भी अपने मनमानी कार्यों से इस्लामिक अमीरात आफ अफगानिस्तान (IEA) को बदनाम नहीं करना चाहिए।

कार्यवाहक रक्षा मंत्री ने उनसे सामान्य माफी को गंभीरता से लागू करने और लोगों के साथ दुर्व्यवहार न करने को कहा है। याकूब द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि तालिबान के कुछ सदस्यों को विभिन्न प्रांतों में प्रतिशोध करते देखा गया है और पिछली सरकार के लिए काम करने वालों को मार डाला गया है, जो अफगानिस्तान के इस्लामी अमीरात की नीति नहीं है।


तालिबान लड़ाकों को संबोधित बयान में कहा गया है, लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करें, अपने मनमाने कार्यों से आईईए को बदनाम न करें, अनावश्यक तस्वीरें और वीडियो लेना बंद करें और सरकारी प्रशासन में प्रवेश न करें।

तालिबान के संस्थापक के बेटे ने आगे कहा कि तालिबान के कुछ कमांडरों ने अपने रैंक का विस्तार करने के लिए बीमार लोगों की भर्ती की है जो आईईए के विरोध में हैं। दोषियों को सजा दी जाएगी। बता दें कि तालिबान के कुछ लड़ाकों द्वारा पिछली सरकार के अधिकारियों के घरों में रात में घुसने और उन्हें मारने और अपहरण करने के बाद यह अपील की गई है।


फेसबुक समेत इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्मो पर आस्ट्रेलिया लगाएगा कानूनी लगाम

फेसबुक समेत इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्मो पर आस्ट्रेलिया लगाएगा कानूनी लगाम

आस्ट्रेलिया ने आनलाइन विज्ञापनदाताओं पर लगाम लगाने की तैयारी कर ली है। खासकर बच्चों के मामले में वह फेसबुक समेत इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्मो पर कानूनी रूप से नजर रखने की योजना बना रहा है। इसके लिए आस्ट्रेलिया सरकार ने 16 साल से कम उम्र के बच्चों के फेसबुक जैसे इंटरनेट मीडिया पर रहने के लिए माता-पिता की सहमति लेने के प्रविधान करने की योजना बनाई है। यह ऐतिहासिक कानून आस्ट्रेलियाई नागरिकों की आनलाइन सुरक्षा का ख्याल रखेगा। इस कानून का उल्लंघन करने पर 75 लाख डालर का जुर्माना तक लग सकता है। इस कानून के मसौदे को जारी किया जा चुका है।

यूजर्स को विभिन्न आनलाइन प्लेटफार्मो पर कोड से बंधी हुई मिलेंगी सेवाएं

नए कानून के तहत इंटरनेट मीडिया को सभी जिम्मेदार कदम उठाने होंगे ताकि यूजर्स की उम्र की पुष्टि की जा सके। इस उम्र के आधार पर ही यूजर्स को विभिन्न आनलाइन प्लेटफार्मो पर कोड से बंधी हुई सेवाएं मिलेंगी। इन इंटरनेट मीडिया के प्लेटफार्मो पर बच्चों से जुड़ी प्राथमिक चिंताओं का ध्यान रखा जाएगा। नियमों से बंधे इन कोड में इन इंटरनेट मीडिया के प्लेटफार्मो पर बच्चों का होना काफी सहज और सुरक्षित होगा। 16 साल से कम उम्र के बच्चों को इंटरनेट मीडिया के विभिन्न मंचों पर आने के लिए माता-पिता की अनुमति लेना अनिवार्य कर दिया जाएगा।

प्रस्तावित कानून लाने की प्रारूप तब लाया गया जब पिछले दिनों फेसबुक के पूर्व प्रोडक्ट मैनेजर फ्रांसिस हुगन ने कहा था कि जब भी जनता की भलाई और कंपनी के फायदे के बीच चुनना होगा, वह अपने हितों को देखेंगे।

फेसबुक समेत कई अन्य इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म के नियम कानून को लेकर कई देश उनपर शिकंजा कसते जा रहे हैं। फेसबुक की कई भ्रामक पोस्ट को लेकर यूजर्स पहले भी कई आपत्ति दर्ज कराते आए हैं।