चीन ने दिया था भरोसा लेकिन नहीं दी वैक्सीन, धोखा खाए परागुए को भारत ने की मदद

चीन ने दिया था भरोसा लेकिन नहीं दी वैक्सीन, धोखा खाए परागुए को भारत ने की मदद

कोविड-19 वैक्सीन मामले में चीन का धोखा झेल रहे परागुए को भारत ने मदद दी है। दक्षिण अमेरिकी देश परागुए ने ताइवान को मान्यता देते हुए उसके साथ कूटनीतिक संबंध बनाए हुए हैं। इस पर चीन को सख्त आपत्ति है। कोरोना संक्रमण से जूझ रहे परागुए को चीन ने पहले वैक्सीन देने का भरोसा दिया लेकिन बाद में इन्कार कर दिया। ताइवान मुश्किल में फंसे अपने सहयोगी देश के लिए वैक्सीन का इंतजाम करने में सक्रिय हुआ और उसने भारत सरकार से वार्ता कर परागुए को वैक्सीन दिलवा दी। यह जानकारी ताइवान के विदेश मंत्री ने दी है।

परागुए की मदद कर रहा ताइवान 

चीन दावा करता है कि ताइवान उसका हिस्सा है। इसलिए उसके साथ दुनिया के किसी भी देश को स्वतंत्र कूटनीतिक रिश्ते नहीं रखने चाहिए। चीन के अनुसार दुनिया के 15 देश ताइवान के साथ कूटनीतिक रिश्ते रखे हुए हैं। उनमें परागुए भी शामिल है। लोकतांत्रिक देश परागुए को कोरोना से निपटने में हो रही मुश्किल के बीच वैक्सीन न मिलने के कारण अपनी जनता का आक्रोश भी झेलना पड़ रहा है। ऐसे में ताइवान ने कहा कि वह अपने मित्र राष्ट्र परागुए की मदद करेगा। 


चीन कर रहा भेदभाव 

ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू ने बुधवार को कहा, दुनिया के कई हिस्सों में कोविड से बचाव की वैक्सीन की आपूर्ति कर रहा चीन दक्षिण और मध्य अमेरिका को लेकर दुराभाव दिखा रहा है। वह इलाके में ताइवान के पांच सहयोगी देशों को वैक्सीन देने में ना-नुकुर कर रहा है। इसके चलते वहां पर मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। मुश्किलें झेल रहे देश ब्राजील, चिली और अल सल्वाडोर हैं। इन सभी के ताइवान के साथ कूटनीतिक रिश्ते हैं।


चीन की यह है नीति 

परागुए को लेकर चीन की नीति साफ है, वह ताइवान के साथ अपने रिश्तों पर यदि पुनर्विचार करता है तो चीन से वह दसियों लाख वैक्सीन खुराक प्राप्त कर सकता है। वू ने कहा, परागुए को दबाव से निकालने में ताइवान उसकी मदद करेगा। बताया कि कुछ हफ्ते पहले उन्होंने अमेरिका, जापान और भारत के नेताओं से बात की। 

भारत ने बढ़ाए मदद को हाथ 


इसके बाद भारत परागुए को कोवैक्सीन की खुराक देने के लिए तैयार हो गया। कोविड से बचाव की यह वैक्सीन भारत ने विकसित की है। भारत ने दक्षिण अमेरिकी देश को कोवैक्सीन की एक लाख खुराक उपहार के तौर पर भेज दी हैं। जल्द एक लाख खुराक और भेजी जाएंगी। वू ने कहा, भारत सबकी मदद का इच्छुक है, कोरोना काल में यह बात दुनिया ने जानी है। अमेरिका ने भी वैक्सीन उपलब्ध कराने का वादा किया है।


व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि रूस की कोविड-19 वैक्सीन AK-47 जितनी भरोसेमंद

व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि रूस की कोविड-19 वैक्सीन AK-47 जितनी भरोसेमंद

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने बोला है कि रूस की Covid-19 वैक्सीनें AK-47 की तरह भरोसेमंद हैं. न्यूज एजेंसी TASS के अनुसार रूस ने अब तक की चार वैक्सीनों को स्वीकृति दे दी है. TASS ने पुतिन के हवाले से लिखा, वे AK-47 जितनी भरोसेमंद हैं. यह हम नहीं, एक यूरोपियन स्पेशलिस्ट ने बोला है और मुझे लगता है कि वह पूरी तरह ठीक है.' AK-47 दुनिया में सबसे अधिक इस्तेला किए जाने वाले हथियारों में से एक है.

एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान उपप्रधानमंत्री तात्याना गोलिकोवा ने पुतिन के हवाले से बताया, 'हमारा मेडिकेशन ऐसी तकनीक और प्लैटफॉर्म पर आधारित है जिसे दशकों से इस्तेमाल किया जा रहा है. वे बहुत मॉडर्न और अप-टू-डेट हैं. इसमें कोई संदेह नहीं है कि वे सबसे अधिक भरोसेमंद और सुरक्षित है.'


एक खुराक की वैक्सीन मंजूर
इससे पहले रूस ने Covid-19 रोधी अपने टीके Sputnik V की एक-खुराक वाले संस्करण को बृहस्पतिवार को यह तर्क देते हुए नियामक स्वीकृति प्रदान कर दी कि इस कदम से कोविड-19 वायरस के विरूद्ध सामूहिक प्रतिरक्षा प्राप्त करने की प्रक्रिया में तेजी आ सकती है. टीके के इस संस्करण का नाम 'स्पूतनिक लाइट' है और यह दो-खुराक वाले Sputnik V की पहली खुराक के समान है. इसे अभी तक स्थापित वैज्ञानिक प्रोटोकॉल के अनुरूप इसकी सुरक्षा और प्रभावशीलता सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक उन्नत परीक्षण पूरा करना बाकी है.




वायरस के विरूद्ध मजबूती
आधिकारिक रिकॉर्ड के मुताबिक रूस ने जनवरी में 'स्पूतनिक लाइट' का मानव परीक्षण प्रारम्भ किया था और शोध अभी भी जारी हैं. 'स्पूतनिक लाइट' रूस में स्वीकृत चौथा घरेलू विकसित Covid-19 रोधी टीका है जिसे देश में स्वीकृति दी गई है. रूसी स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने बोला कि चौथे टीके को अधिकृत करने से वायरस के विरूद्ध सामूहिक प्रतिरक्षा बनाने की प्रक्रिया को गति देने में सहायता मिलेगी. अधिकांश वैज्ञानिकों का मानना है कि Covid-19 के विरूद्ध सामूहिक प्रतिरक्षा हासिल करने के लिए कम से कम 70 फीसदी आबादी का टीकाकरण आवश्यक है, लेकिन सटीक सीमा अभी भी अज्ञात है.


कोविड-19 का कहर : मैं बचूंगा या नहीं घर गिरवी न रखना पापा, और उसने दुनिया को अलविदा कह दिया       सीएम योगी ने कहा कि गोरखपुर में बनेगा 100 बेड का नया कोविड हॉस्पिटल , BRD में बढ़ेंगे 50 वेंटिलेटर बेड       ऑस्ट्रेलिया के जंगलों से आई इस भेड़ ने सोशल मीडिया पर मचा दी धूम       रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने स्पूतनिक वैक्सीन की तुलना AK-47 से की, कहा...       धरती पर आज गिरेगा चाइना का बेकाबू रॉकेट       Vladimir Putin ने रूसी कोरोना वैक्सीन को बताया दमदार, कहा...       दुनिया के सबसे बड़े Cargo Plane ने सहायता का सामान लेकर India के लिए भरी उड़ान       Imran Khan ने Indian Embassies की प्रशंसा क्या की, आग बबूला हो गए पाकिस्तानी       हिंदुस्तान से अपने देश तुरंत लौट आएं सभी लोग, अमेरिका की अपने नागरिकों से अपील       बाइसन को मारने US में निकली 12 वेकेंसी       यूनीसेफ ने हिंदुस्तान में बढ़ रहे कोविड-19 मामलों पर जताई चिंता, कहा...       व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि रूस की कोविड-19 वैक्सीन AK-47 जितनी भरोसेमंद       Africa में मिली इतने हजार वर्ष पुरानी कब्र, खुलेंगे कई अहम राज       भारतीय टीम में सिलेक्शन से दंग यह क्रिकेटर, बोले...       पूर्व भारतीय हॉकी कोच एमके कौशिक का मृत्यु       कोविड-19 बना काल: नहीं रहे BCCI के आधिकारिक स्कोरर केके तिवारी       कोविड-19 के विरूद्ध जंग में विराट के बाद ऋषभ पंत भी कूदे       इंग्लैंड जाने से पहले हिंदुस्तान में ही 8 दिन क्वारंटीन रहेगी टीम इंडिया       दिल जीत लेगी इस क्रिकेटर की दलील, बोले...       इंग्लैंड दौरे पर टीम इंडिया में हार्दिक पांड्या को क्यों नहीं मिली जगह