समुद्र में लग जाते लाशों के ढेर, अमेरिका की इस एक गलती से आज छिड़ जाती जंग

समुद्र में लग जाते लाशों के ढेर, अमेरिका की इस एक गलती से आज छिड़ जाती जंग

वाशिंगटन: आज की बड़ी खबर रूस से आ रही है। रूस ने जापान सागर के पास अपने समुद्री सीमा में अवैध रूप से आए अमेरिकी नौसेना के एक जंगी जहाज को पकड़ लिया। बाद में उसे चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। इस बात की पुष्टि खुद रूस के रक्षा मंत्रालय ने की है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो रूस के रक्षा मंत्रालय ने इस पूरे मामले में बयान जारी किया है। जिसमें ये बताया गया है कि एक रूसी युद्धपोत ने जापान सागर के पास रूस के जल क्षेत्र में अवैध रूप से मौजूद अमेरिकी नौसेना के विध्वंसक जहाज को पकड़ा है।

रूस के नौसेना के एडमिरल विन्नेरादोव के मुताबिक रूसी जंगी जहाज द्वारा चेतावनी दिए जाने के बाद अमेरिकी जहाज उसके जल क्षेत्र से वापस पीछे लौट गया।

रूस की सूझबूझ से टल गई जंग
इस घटना के सामने आने के बाद हर तरफ रूस की सूझबूझ की चर्चा हो रही है। अगर रूस ने हड़बड़ाहट में अमेरिकी नौसेना के खिलाफ कोई गलत कदम उठा लिया होता तो आज दोनों देशों के बीच जंग छिड़ गई होती।अमेरिका नौसेना की गलती का खामियाजा तमाम बेकसूर लोगों को भुगतना पड़ता।

प्राप्त जानकारी के अनुसार हिंद महासागर में इस समय अमेरिका नौसेना भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया की नौसेना के साथ मिलकर युद्धाभ्यास भी कर रही है। इस युद्धाभ्यास को मालाबार नेवल एक्सरसाइज का नाम से जाना जा रहा है।

हिंद महासागर के अंदर मालाबार नेवल एक्सरसाइज में निमित्ज जंगी जहाज ने भी भाग लिया है जो अमेरिकी नौसेना का परमाणु ऊर्जा संचालित विमान वाहक पोत है।

निमित्ज़ को वर्ष साल 2017 में अमेरिका नौसेना में किया गया था शामिल
इस विमान वाहक युद्ध पोत का नाम द्वितीय विश्व युद्ध के समय अमेरिका के प्रशांत बेड़े के कमांडर फ्लीट एडमिरल चेस्टर डब्लू निमित्ज़ के नाम पर पर रखा गया है।

इस युद्धपोत की लम्बाई 1,092 फीट (333 मीटर) हैं और इसका वजन तकरीबन 100,000 से टन से अधिक है। पूरी दुनिया के अंदर निमित्ज़ अपनी श्रेणी का सबसे बड़ा युद्धपोत है। निमित्ज़ को वर्ष साल 2017 में अमेरिकी नौसेना के बेड़े में शामिल किया था।


1.9 ट्रिलियन डॉलर के रिलीफ पैकज का ऐलान, जो बाइडन का अमेरिकियों को तोहफा

1.9 ट्रिलियन डॉलर के रिलीफ पैकज का ऐलान, जो बाइडन का अमेरिकियों को तोहफा

वॉशिंगटन अमेरिकी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए अमेरिका के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन  ने पहले से ही बड़े कदम उठाएं हैं।  उन्होंने कोरोना वायरस की मार से देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए 1.9 ट्रिलियन डॉलर के राहत पैकेज का ऐलान किया है। उनके इस कदम से हर अमेरिकी के खाते में सीधे 1400 डॉलर जाएंगे। इस पैकेज में कोरोना से लड़ने के लिए 415 बिलियन डॉलर दिए गए हैं। जबकि छोटे बिजनेस के लिए 440 बिलियन डॉलर का ऐलान किया गया है

3 लाख 85 हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत
बता दें कि अमेरिका में अब तक कोरोना वायरस से 3 लाख 85 हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। बाइडन ने चुनाव प्रचार के दौरान ही कोरोना से लड़ने के लिए बड़े कदम उठाने का वादा किया था। जो बाइडन ने चुनाव प्रचार के दौरान ही कोरोना से लड़ने के लिए बड़े कदम उठाने का वादा किया था। उनका ये ऐलान उस वक्त आया है जब अमेरिका में इन दिनों हर दिन कोरोना के औसतन 2 लाख नए केस आ रहे हैं। जबकि हर रोज़ 4 हज़ार लोगों को मौत हो रही है। टीवी पर प्राइम टाइम स्पीच के दौरान उन्होंने कहा, ‘हमारे देश की स्वास्थ्य व्यवस्था चुनौतियों का सामना कर रही है।  हमें तुरंत इस पर कदम उठाने होंगे। हम ठोकरें खाएंगे। लेकिन हम हमेशा आपके साथ ईमानदार रहेंगे।

अमेरिका में इमरजेंसी अप्रूवल
डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल के दौरान ही दो वैक्सीन को अमेरिका में इमरजेंसी अप्रूवल दी गई। लेकिन अब अधिकारियों का कहना है कि वैक्सीनेशन में तेजी लानी होगी। बाइ़डन ने कहा है कि वो देश के कोने-कोने में वैक्सीन पहुंचाना चाहते हैं। बाइडन के मुताबिक देश भर में कोरोना की टेस्टिंग को भी बढ़ाई जाएगी।

लगातार बढ़ रही बेरोजगारी
अमेरिका में इस वक्त बेरोजगारी लगातार बढ़ रही है। फिलहाल वहां करीब 18 मिलियन लोग बेरोजगार हैं। अब बाइडन के नए ऐलान से ऐसे लोग जिन्हें नौकरी नहीं है उन्हें 300 डॉलर हर हफ्ते के बदले 400 डॉलर मिलेंगे। नव-निर्वाचित राष्ट्रपति ने हर घंटे की न्यूनतम मजदूरी 15 डॉलर से दोगुना करने का वादा किया है। कहा जा रहा है कि ट्रंप की पार्टी नए भारी भरकम पैकेज का विरोध कर सकती है।

डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल के दौरान ही दो वैक्सीन को अमेरिका में इमरजेंसी अप्रूवल दी गई। लेकिन अब अधिकारियों का कहना है कि वैक्सीनेशन में तेजी लानी होगी। बाइ़डन ने कहा है कि वो देश के कोने-कोने में वैक्सीन पहुंचाना चाहते हैं। वाइडन के मुताबिक देश भर में कोरोना की टेस्टिंग को भी बढ़ाई जाएगी।


Samsung Galaxy S21 सीरीज के शानदार फोन लॉन्च       सिंह और धनु का भाग्य देगा साथ, राशिफल से जानें बाकी का हाल       लैंडलाइन से मोबाइल पर कॉल करने के लिए लगाना होगा ‘0’, आज से बदल गया नियम       Apple के प्रोडक्टस पर कैशबैक ऑफर, जानिए       रिलायंस जियो ने ग्राहकों को दिया बड़ा झटका!       केवल 25 में पाए लाखों का मुनाफा, यहां देखें पूरी जानकारी       सोने-चांदी के दाम में क्यों आ रहे उतार-चढ़ाव, ऐसे करें निवेश       यूपी: किन-किन जिलों में कल टीका लगेगा, कब पहुंचना होगा       खतरे में दुनिया, खत्म हो रहा जिंदगी जीने का सहारा       1.9 ट्रिलियन डॉलर के रिलीफ पैकज का ऐलान, जो बाइडन का अमेरिकियों को तोहफा       बांग्लादेश को आया गुस्सा! अमेरिका के बयान पर भड़का       कोरोना से दुनिया में तबाही, चमगादड़ों की मिली नई प्रजाति       भूकंप से बिछी लाशें, जोरदार झटकों से गिरी 60 से ज्यादा इमारतें       ट्रंप का चीन को बड़ा झटका! ब्लैकलिस्ट हुईं ये मशहूर कंपनियां       कैद हुई WHO टीम, अब तो चीन ने तोड़ दी सारी हदें       अमेरिका में कोरोना वायरस का कहर       नसों में उगा मशरूम, युवक की इस हरकत ने पहुंचाया अस्पताल       अमेरिकी कबूतर को सजा: तय किया 13 किमी का सफर, जाने       राष्ट्रपति जो बाइडेन खाते में भेजेंगे इतने रुपए, अमेरिका का हर आदमी होगा लखपति       अमेरिका में बिडेन का बड़ा ऐलान, सबको मिलेंगे 1-1 लाख रुपये