खतरे में दुनिया, आइसबर्ग के लाखों जिंदगियां होंगी खत्म

खतरे में दुनिया, आइसबर्ग के लाखों जिंदगियां होंगी खत्म

नई दिल्ली। विशाल हिमखंड यानी आइसबर्ग के टूटने की वजह से वैज्ञानिकों ने लगभग 10 साल की कड़ी मेहनत के बाद पता लगा ही लिया। अंटार्कटिका में आई पहली दरार जिसकी वजह से आइस शेल्फ से आइसबर्ग टूट गया था, अब उसकी सारी गुत्थियां सुलझ गई हैं। बता दें, इस हिमखंड का आकार मुंबई शहर के दोगुने से भी ज्यादा है। ये घटना महामारी वाले साल नवंबर 2020 में आइस शेल्फ पर बनी एक बड़ी दरार के बाद घटित हुई है। जोकि शुक्रवार की सुबह यानी 26 फ़रवरी को ये आइस बर्ग पूरी तरह टूट कर बिखर गया।

हिमखंड खुले पानी में तैर रहा
दरअसल “नॉर्थ रिफ्ट” दरार बीते दशक में ब्रंट आइस शेल्फ में सक्रिय रूप से सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा था। इस बारे में ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे (बीएएस) के वैज्ञानिकों को इसके अलग होने की पूरी उम्मीद थी। आपको बता दें कि इस हिमखंड का आकर 1,270 वर्ग किमी है जबकि मुंबई का आकार 603 वर्ग किलोमीटर ही है।

ऐसे में बीएएस के निदेशक डेम जेन फ्रांसिस ने जानकारी देते हुए कहा, ” हमारी टीमें बरसों से ब्रंट आइस शेल्फ से एक हिमखंड के अलग होने को लेकर पूरी तरह तैयार थी। आने वाले हफ्तों या महीनों में, हिमखंड मूल हिस्से से दूर जा सकता है, या फिर यह चारों तरफ से ब्रंट आइसबर्ग के करीब रह सकता है।” वहीं अब यह हिमखंड खुले पानी में तैर रहा है।


सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक, यह बर्फ विभाजन एक प्राकृतिक प्रक्रिया के कारण हुआ, और इस बात का कोई सबूत नहीं है कि जलवायु परिवर्तन ने इसमें कोई भूमिका निभाई है। ये आइसबर्ग बहुत बड़ा है जिसका अनुमानित आकार लगभग 490 वर्ग मील (1,270 वर्ग किमी) है।

हिमखंड के टूटने से बहुत बड़ा खतरा
अंटार्कटिका में बर्फ के बड़े हिस्से का टूटना पूरी तरह से सामान्य है। ये बड़े पैमाने पर होने वाली यह प्राकृतिक घटना ( ब्रंट आइस शेल्फ का टूटना) काफी दुर्लभ और रोमांचक है। लेकिन हिमखंड के टूटने से बहुत बड़ा खतरा भी है।

इस हिमखंड यानी बर्फीले पहाड़ के टूटने की वजह से हजारों सील मछलियों, पेंग्विन और दूसरे वन्यजीवों पर खतरा मंडराने लगा है. ऐसे में जीववैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि अगर ए68ए नाम का यह आइसबर्ग टापू से भिड़ गया, तो पर्यावरण को भयानक नुकसान हो सकता है।

जिससे लाखों जानवरों के आवास नष्ट हो जाएंगे। सामने आए एक आकलन के अनुसार, आइसबर्ग का वजन एक ट्रिलियन टन है और 200 मीटर गहरा है। इसकी वजह से इसका जमीन से टकराने का खतरा दूसरे विशाल आइसबर्ग की तुलना में कहीं ज्यादा है।


चीन ने दिया था भरोसा लेकिन नहीं दी वैक्सीन, धोखा खाए परागुए को भारत ने की मदद

चीन ने दिया था भरोसा लेकिन नहीं दी वैक्सीन, धोखा खाए परागुए को भारत ने की मदद

कोविड-19 वैक्सीन मामले में चीन का धोखा झेल रहे परागुए को भारत ने मदद दी है। दक्षिण अमेरिकी देश परागुए ने ताइवान को मान्यता देते हुए उसके साथ कूटनीतिक संबंध बनाए हुए हैं। इस पर चीन को सख्त आपत्ति है। कोरोना संक्रमण से जूझ रहे परागुए को चीन ने पहले वैक्सीन देने का भरोसा दिया लेकिन बाद में इन्कार कर दिया। ताइवान मुश्किल में फंसे अपने सहयोगी देश के लिए वैक्सीन का इंतजाम करने में सक्रिय हुआ और उसने भारत सरकार से वार्ता कर परागुए को वैक्सीन दिलवा दी। यह जानकारी ताइवान के विदेश मंत्री ने दी है।

परागुए की मदद कर रहा ताइवान 

चीन दावा करता है कि ताइवान उसका हिस्सा है। इसलिए उसके साथ दुनिया के किसी भी देश को स्वतंत्र कूटनीतिक रिश्ते नहीं रखने चाहिए। चीन के अनुसार दुनिया के 15 देश ताइवान के साथ कूटनीतिक रिश्ते रखे हुए हैं। उनमें परागुए भी शामिल है। लोकतांत्रिक देश परागुए को कोरोना से निपटने में हो रही मुश्किल के बीच वैक्सीन न मिलने के कारण अपनी जनता का आक्रोश भी झेलना पड़ रहा है। ऐसे में ताइवान ने कहा कि वह अपने मित्र राष्ट्र परागुए की मदद करेगा। 


चीन कर रहा भेदभाव 

ताइवान के विदेश मंत्री जोसेफ वू ने बुधवार को कहा, दुनिया के कई हिस्सों में कोविड से बचाव की वैक्सीन की आपूर्ति कर रहा चीन दक्षिण और मध्य अमेरिका को लेकर दुराभाव दिखा रहा है। वह इलाके में ताइवान के पांच सहयोगी देशों को वैक्सीन देने में ना-नुकुर कर रहा है। इसके चलते वहां पर मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। मुश्किलें झेल रहे देश ब्राजील, चिली और अल सल्वाडोर हैं। इन सभी के ताइवान के साथ कूटनीतिक रिश्ते हैं।


चीन की यह है नीति 

परागुए को लेकर चीन की नीति साफ है, वह ताइवान के साथ अपने रिश्तों पर यदि पुनर्विचार करता है तो चीन से वह दसियों लाख वैक्सीन खुराक प्राप्त कर सकता है। वू ने कहा, परागुए को दबाव से निकालने में ताइवान उसकी मदद करेगा। बताया कि कुछ हफ्ते पहले उन्होंने अमेरिका, जापान और भारत के नेताओं से बात की। 

भारत ने बढ़ाए मदद को हाथ 


इसके बाद भारत परागुए को कोवैक्सीन की खुराक देने के लिए तैयार हो गया। कोविड से बचाव की यह वैक्सीन भारत ने विकसित की है। भारत ने दक्षिण अमेरिकी देश को कोवैक्सीन की एक लाख खुराक उपहार के तौर पर भेज दी हैं। जल्द एक लाख खुराक और भेजी जाएंगी। वू ने कहा, भारत सबकी मदद का इच्छुक है, कोरोना काल में यह बात दुनिया ने जानी है। अमेरिका ने भी वैक्सीन उपलब्ध कराने का वादा किया है।


काम के बीच 5 मिनट का ब्रेक लेकर इन स्ट्रेचिंग एक्सरसाइजेस के जरिए करें अपनी एनर्जी चार्ज       कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण से गर्भवती महिलाओं को घबराने की नहीं, सजग व सतर्क रहने की है जरूरत       लॉकडाउन के समय इन एक्सरसाइज़ से सिर्फ 7 दिनों में घटेगा वज़न!       लॉकडाउन में अवसाद से बचना है तो अपने आपको मनोरंजन में मसरूफ रखें       बदलते मौसम में सेहत के प्रति सचेत रहने के साथ ही इन जरूरी बातों का भी रखें ध्यान       ब्रेकफास्ट में सीरियल कितनी मात्रा में लेना रहेगा सेहत के लिए फायदेमंद       बार-बार हाथ धोने से हाथों की खूबसूरती कम हो गई है तो इस तरह रखें ख्याल       लॉकडाउन पीरियड का उठाएं फायदा, हेल्दी और बैलेंस डाइट के अलावा इन टिप्स के साथ करें बैली फैट कम       स्वाद के साथ सूंघने की क्षमता बंद हो जाना भी हो सकता है COVID-19 का लक्षण       ई-सिगरेट या स्मोकिंग से बढ़ सकता है कोरोना वायरस का ख़तरा       क्या टीबी वैक्सीन कर पाएगी कोरोना वायरस से बचाव?       अगर रहना चाहते हैं फिट तो डाइट में ज़रूर शामिल करें दालचीनी!       हार्वर्ड के शोधकर्ताओं का दावा, कोरोना से सूंघने की क्षमता भी होती है कम       रातों में अच्छी नींद के लिए लें जायफल, कोरोना से लड़ाई में भी मिलेगी मदद       विटामिन सी और किचन में मौजूद मसालों से बूस्ट होगा इम्यून सिस्टम       पाक को जी-20 से ऋण में राहत की उम्मीद, आर्थिक मामलों के मंत्री खुसरो बख्तियार ने दी जानकारी       दीपक हुड्डा ने 6 छक्कों के साथ ठोकी तूफानी फिफ्टी, बना दिया IPL में अद्भुत रिकॉर्ड       ये है भारत की सबसे सस्ती ABS वाली मोटरसाइकिल, देती है जबरदस्त माइलेज       भविष्य की चुनौतियों से निपटने को तैयार होगा स्वस्थ भारत, जानिए बजट में आपके स्वास्थ्य को लेकर क्या है खास       पति और बेटे की कोरोना से मौत पर महिला ने सदमे में तोड़ा दम