पश्चिम बंगाल व ओडिशा मे मौसम विभाग के इस पूर्वानुमान की वजह से टली यह बड़ी आपदा

 पश्चिम बंगाल व ओडिशा मे मौसम विभाग के इस पूर्वानुमान की वजह से टली यह बड़ी आपदा

मौसम विभाग ने अगर अम्फान तूफान का सटीक पूर्वानुमान नहीं दिया होता तो तबाही का मंजर व भयानक होने कि सम्भावना था. कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता में हुई एनसीएमसी की मीटिंग में पश्चिम बंगाल व ओडिशा के मुख्य सचिवों ने यह जानकारी दी. गौबा ने बोला है कि नुकसान का आकलन करने के लिए गृहमंत्रालय की टीम दोनों राज्यों में जाएगी.


ओडिशा के मुख्य सचिव एके त्रिपाठी ने कहा, मौसम विभाग ने तूफान की चाल, गति व आगमन के समय का सटीक पूर्वानुमान लगाया था. जिसके बदौलत करीब सात लाख लोगों को समय रहते सुरक्षित जगह पर पहुंचा दिया गया व हम बड़ी तबाही से बच गए. उन्होंने कहा, हजारों लोगों की जान बचाने के लिए हमारी सरकार आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय मोहापात्रा व उनकी टीम का शुक्रिया अदा करती है.
सरकार की हरी झंडी मिलने तक घरों में रहें लोगराष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) ने लोगों से सरकार की ओर से हरी झंडी मिलने तक अपने अपने घरों में रहने की अपील की है. एनडीएमए के मुताबिक तूफान इस वक्त बिहार के ऊपर है. वहां तेज बारिश हो सकती है. असम, अरुणाचल प्रदेश, नगालैंड, लक्षद्वीप, केरल, मणिपुर, त्रिपुरा, मेघालय व कर्नाटक के कुछ हिस्सों में भी तेज आंधी व बारिश की आसार है.

उपराष्ट्रपति ने शोक जताया
उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने पश्चिम बंगाल में तूफान अम्फान में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति बृहस्पतिवार को शोक जताया. उन्होंने इतनी बड़ी संख्या में लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए प्रदेश प्रशासनों की भी तारीफ की.

शाह ने किया मदद का वादा
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जी व ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक जी से बात हुई. हमने उन्हें हर संभव मदद का वादा किया है. नरेन्द्र मोदी सरकार अपने लोगों की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है. मैं लोगों से घरों में रहने की अपील करता हूं.