कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राजस्थान में कोविड-19 जाँच की मूल्य तय

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राजस्थान में कोविड-19 जाँच की मूल्य तय

राजस्थान में कोविड-19 के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे है. ऐसे में बड़ी संख्या में लोग कोविड-19 की जाँच करा रहे है लेकिन निजी प्रयोगशाला में उन्हें यह जाँच कराने के लिए अब तक 1200 रुपये का शुल्क देना पड़ रहा था. ऐसे में अब सीएम अशोक गहलोत ने आम लोगों को राहत देते हुए निर्णय किया है कि प्रदेश की निजी प्रयोगशाला में कोविड के लिए होने वाला आरटीपीसीआर टेस्ट अब 800 रुपए में किया जाएगा.

शनिवार को चिकित्सा विभाग की वीडियो कांफ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्री गहलोत ने यह बात कही. इस दौरान चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा, चिकित्सा राज्यमंत्री डॉक्टर सुभाष गर्ग समेत चिकित्सा विभाग के आला ऑफिसर उपस्थित रहे. मुख्यमंत्री की ओर से इस विषय में घोषणा होने के बाद जल्द ही इसके औपचारिक आदेश जारी कर दिए जाएंगे.

राजस्थान में हो रहे हैं केवल आरटीपीसीआर टेस्ट
बता दें कि राजस्थान में कोविड-19 जाँच के लिए केवल आरटीपीसीआर टेस्ट ही किए जा रहे है. मुख्यमंत्री गहलोत ने बोला कि एंटीजन टेस्ट के लिए चाइना से जो किट आई थी, वो फर्जी निकली. सभी किट को वापस चाइना भेजना पड़ा. उन्होंने बोला कि नया एंटीजन टेस्ट भी कार्य का नहीं रहा.

गांवों में भी फैल रहा कोविड-19
मुख्यमंत्री गहलोत ने बोला कि लोगों को यह भ्रम है कि गांवों में कोविड-19 नहीं फैल रहा है. जबकि सच यह है कि अब तक कोविड-19 से जो मृत्यु हुई है, उनमें से करीब 700 मौतें राजस्थान की ग्रामीण इलाकों में हुई है. उन्होंने हर विधानसभा में एक सीएचसी को आधुनिक बनाने की बात कही. साथ ही बोला कि वैक्सीन से अधिक कार्य तो मास्क करेगा.


जिनके निधन पर आज रो रहा देश का हर किसान, जानिए कौन हैं दातार सिंह

जिनके निधन पर आज रो रहा देश का हर किसान, जानिए कौन हैं दातार सिंह

अमृतसर: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन आज भी जारी है। किसान संगठनों के नेताओं का कहना है जब तक सरकार उनकी मांगे पूरी नहीं कर देती उनका आंदोलन ऐसे ही आगे भी चलता रहेगा।

सोमवार को पंजाब के अमृतसर से एक ऐसी खबर आई है। जिससे किसानों आंदोलन में शोक की लहर देखने को मिल रही है। दरअसल अमृतसर में कीर्ति किसान यूनियन के प्रधान मास्टर दातार सिंह का हार्ट अटैक से आज निधन हो गया।

उन्हें हार्ट अटैक एक सभा के दौरान आया था। विरसा विहार में स्वतंत्रता सेनानी उजागर सिंह की याद में रखे गए कार्यक्रम को सम्बोधित करते के बाद दातार सिंह ने जैसे ही अपनी वाणी की विराम देने की कोशिश की। उन्हें हार्ट अटैक आ गया।

हार्ट अटैक के बाद उन्हें अस्पताल में ले जाया गया लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। उनके निधन की खबर जैसे ही पंजाब से होते सिंघु और गाजीपुर पर बैठे आंदोलनकारियों को हुई।

उनकी आंखें भर आई। दातार सिंह तीन दिन पहले ही दिल्ली धरने से लौटे थे और अमृतसर में एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। उन्हें मंच पर बुलाकर सम्मानित भी किया जाना था लेकिन उससे पहले ही यह घटना हो गई।


मेरा समय खत्म होता है, इतना कहने के बाद जमीन पर गिर पड़े दातार सिंह
दातार सिंह आज सभा में किसान आंदोलन को लेकर मंच से अपने विचार रख रहे थे। अपनी बात पूरी करने के बाद दातार सिंह ने कहा, अलविदा! मेरा समय खत्म होता है।

इतना कहने के बाद जैसे ही वह कुर्सी पर बैठे उन्हें हार्ट अटैक की शिकायत हुई। जिसके बाद अस्पताल ले जाने के दौरान उनकी मौत हो गई।

दातार सिंह के निधन से किसान नेताओं और उनके चाहने वालों के बीच शोक की लहर दौड़ गई। उनके प्रशंसकों का कहना है कि दातार सिंह की कमी को कभी पूरा नहीं किया जा सकता है। वह हमेशा किसानों का हित चाहते थे। दातार सिंह कृषि कानून वापस लिए जाने को लेकर कई प्रदर्शनों में भी शामिल हुए थे।


मोदी सरकार की जमकर आलोचना की थी
उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि मोदी सरकार कृषि कानून का समाधान तलाशने के बजाए किसान नेताओं को बांटने में जुटी हुई है। उन्होंने कहा था कि सरकार जबतक कृषि कानून वापस नहीं ले लेती है तबतक किसान अपने घर नहीं जाएंगे।


Nia Sharma ने रवि दुबे को बताया 'बेस्ट किसर मैन' तो अब एक्टर ने किया रिएक्ट, कहा...       कल ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज़ होंगी ये वेब सीरीज़ और फ़िल्में       Kiston Song: जाह्नवी कपूर-राजकुमार राव की फिल्म 'रूही' का दूसरा गाना 'किस्तों' रिलीज       Zeenat Aman के इंडस्ट्री में इतने साल पूरे होने पर भावुक हुईं पाकिस्तानी एक्ट्रेस सोमी अली       इस एक्ट्रेस के साथ जब शख्स ने भीड़ में की ऐसी हरकत, एक्ट्रेस भी हुईं हैरान       इन खिलाड़ियों को मिली जगह, इंग्लैंड के खिलाफ T20 सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान       जिम को देखकर चौंके भारतीय खिलाड़ी, दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम के मुरीद हुए क्रिकेटर       पहले उनके खिलाफ खेला, अब उनके साथ खेलने को बेताब हूं : राहुल तेवतिया       T20 सीरीज के लिए जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी का चयन क्यों नहीं हुआ       इंग्लैंड के खिलाफ T20 और वनडे सीरीज में कमेंट्री करेगा ये भारतीय विकेटकीपर       कस्तूरबा गांधी: सफलता के पीछे रहा अहम योगदान, बापू का हर कदम पर दिया साथ       जिनके निधन पर आज रो रहा देश का हर किसान, जानिए कौन हैं दातार सिंह       महाराष्ट्र में मचा हाहाकार, 34 जिलों में तत्काल हाई अलर्ट जारी       नारायणसामी ने दिया इस्तीफा: पुडुचेरी में गिरी कांग्रेस सरकार       7 बार चुनकर पहुंचे थे लोकसभा, मुंबई के होटल में मिला इस दिग्गज नेता का शव       लाइलाज नहीं है डिप्रेशन और कम उम्र में भी हो सकती है इसकी समस्या, जानें       बहुत ही आसानी से पा सकते हैं बढ़ते वजन से छुटकारा, बस करने होंगे रूटीन में ये जरूरी बदलाव       शुगर लेवल कंट्रोल करना है तो नाश्ते में शामिल करें ये 5 जादुई चीज़ें       डेंगू में रामबाण इलाज है बकरी का दूध, जानें       गर्मियों में कूल और हेल्दी रहने के लिए खाएं फ्रूट कस्टर्ड, जानें