स्पाइसजेट की बैंकॉक-दिल्ली उड़ान में सवार एक यात्री को कोरोना वायरस के संक्रमण का शक

स्पाइसजेट की बैंकॉक-दिल्ली उड़ान में सवार एक यात्री को कोरोना वायरस के संक्रमण का शक

कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए केरल के एक विद्यार्थी को गुरुवार को अलप्पुझा मेडिकल कॉलेज अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. वह चाइना के वुहान विश्वविद्यालय का विद्यार्थी है. उसे अस्पताल में अलग वार्ड में रखा गया था.

सूत्रों ने बताया के विद्यार्थी के दो नमूने जाँच के लिये पुणे के राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान भेजे गए. दोनों नमूने नेगेटिव पाए जाने के बाद उसे छुट्टी दे दी गई. उसे 14 दिनों तक घर में अलग रखा जाएगा. विद्यार्थी 24 जनवरी को केरल लौटा था. इधर, चाइना में कोरोना वायरस से मरने वाले की संख्‍या लगभग 1500 पहुंच गई है.

इस बीच, स्पाइसजेट की बैंकॉक-दिल्ली उड़ान में सवार एक यात्री को कोरोना वायरस के संक्रमण के शक में अलग रखा गया है. स्पाइसजेट ने एक बयान में बोला कि विमान के दिल्ली हवाई अड्डे पर उतरने के बाद यात्री को अलग रखा गया. स्पाइसजेट के प्रवक्ता ने कहा, '13 फरवरी को बैंकॉक से दिल्ली के बीच उड़ने वाली स्पाइसजेट की उड़ान संख्या एसजी-88 में सवार एक यात्री के कोरोना वायरस से संक्रमित होने का शक हुआ.'बता दें कि चाइना में संक्रमित लोगों की संख्‍या 50 हजार के पार पहुंच गई है. विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर कई एडवाइजरी जारी की हैं. कई राष्ट्रों ने अपनी विमान से भी चाइना के लिए रोक दी है.

एयर इंडिया चालक दल को मोदी ने लिखा प्रशस्ति पत्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस फैलने के बाद चाइना के वुहान से भारतीय एवं मालदीव के नागरिकों को निकालने वाले एयर इंडिया के चालक दल एवं स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों को प्रशस्ति लेटर लिखा है. गुरुवार को पीएम ऑफिस द्वारी बयान के अनुसार, एयर इंडिया के चालक दल एवं स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों को यह प्रशस्ति लेटर नागरिक उड्डयन प्रदेश मंत्री द्वारा सौंपा जाएगा. बताते चलें कि एयर इंडिया ने कोरोना वायरस के केन्द्र रहे चाइना के वुहान शहर से हिंदुस्तानियों को निकालने के लिए इमरजेंसी अभियान चलाया था व इसके लिए अपनी दो उड़ानें भेजी थीं.