गया सोनडीहा सामूहिक दुष्कर्म कांड में नौ दोषियों को उम्रकैद, जेल में ही लेंगे अंतिम सांस

गया सोनडीहा सामूहिक दुष्कर्म कांड में नौ दोषियों को उम्रकैद, जेल में ही लेंगे अंतिम सांस

 गया। बिहार के गया जिले के गुरारू प्रखंड के सोनडीहा गांव के समीप 13 जून 2018 को पति के सामने महिला और उसकी नाबालिग बेटी से सामूहिक दुष्कर्म की घटना के नौ दोषयों को सजा मिल ही गई। बुधवार को गया सिविल कोर्ट ने सभी नौ दोषियों को अंतिम सांस तक जेल में रहने की सजा सुनाई। अपराधियों को सजा दिलाने के लिए संघर्ष करने वाले अलग-अलग महकमों और मोर्चे के लोगों को उनकी मेहनत का सार्थक परिणाम मिला।

अपराधियों के हत्‍थे चढ़ गया चिकित्‍सक परिवार

बता दें कि गुरारू प्रखंड के अंतर्गत गुरारू-अहियापुर से जुड़े रौना-कनौसी रोड पर स्थित कोंच थाना क्षेत्र के सोनडीहा गांव के समीप 13 जून 2018 की रात दर्जनभर अपराधी सड़क लूट की घटना को अंजाम दे रहे थे। इसी दौरान गुरारू बाजार से अपनी दुकान बंद कर अपने घर कोंच थाना क्षेत्र के घोंघी मठ जा रहे राजेंद्र यादव व इटवां गांव जा रहे रणधीर कुमार की बाइक रोकी। अपराधियों ने उन्हें बंधक बना लिया और उनके साथ लूटपाट शुरू कर दी। इसी बीच गुरारू बाजार से सटे एक स्थान से निजी क्लीनिक बंद कर बाइक से पत्नी व 13 वर्षीय नाबालिग बेटी के साथ कोच थाना क्षेत्र के एक गांव स्थित घर लौट रहे ग्रामीण चिकित्सक भी अपराधियों के हत्थे चढ़ गए।

मारपीट व लूटपाट के बाद किया सामूहिक दुष्‍कर्म

अपराधियों ने चिकित्सक की बाइक रोककर पहले उनके साथ मारपीट की, उनके सामान लूट लिए। फिर, उन्हें घटनास्थल के पास ही एक पेड़ में बांध दिया। इसके बाद अपराधी उनकी पत्नी और बेटी पर टूट पड़े। पहले से बंधक बनाए गए दो राहगीरों व ग्रामीण चिकित्सक के सामने ही उनकी पत्नी और बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घिनौनी घटना को अंजाम दिया।

घटना जान पुलिसकर्मियों के भी खड़े हो गए रोंगटे

कुकृत्य के बाद जब अपराधी सभी को छोड़कर आगे बढ़ गए, तब घटना की शिकार चिकित्‍सक की पत्नी ने पेड़ से बंधे चिकित्सक की रस्सी खोली। दूर पड़े पूर्व के बंधुओं को भी उक्त लोगों ने बंधन मुक्त कराया। चिकित्सक परिवार गुरारू थाने पहुंचा। पहली बार में तो गुरारू के तत्कालीन थानाध्यक्ष उत्तम कुमार को उनकी बातों पर विश्वास ही नहीं हुआ, लेकिन पीडि़ता की स्थिति देखकर गुरारू थाना में मौजूद सभी पुलिसकर्मियों के रोंगटे खड़े हो गए।

अपराधियों ने भागने के क्रम में भी की लूटपाट

घटनास्थल कोंच थाना क्षेत्र में रहने के बावजूद गुरारू के थानाध्यक्ष ने तत्काल घटनास्थल पर पहुंचकर अपराधियों के भागने की दिशा में पीछा किया। तब तक अपराधी कई किलोमीटर दूर नकटी पुल को पार कर फाफर गांव होते बहेरा गांव पहुंच चुके थे। वहां अपराधियों ने एक मुर्गी फार्म से करीब  50 हजार रुपये भी लूटे।

गिरफ्तारी के बाद पीडि़ता ने की पहचान

घटना की भयावहता को देखते हुए उसी रात टिकारी के डीएसपी नागेंद्र सिंह के साथ शेरघाटी गए एसडीपीओ मनीष कुमार को विशेष रूप से गुरारू भेजा गया। उक्त अधिकारियों के नेतृत्व में पुलिस घटनास्थल के समीप स्थित सोनडीहा गांव में छापेमारी कर रात में ही गांव में मौजूद अलग-अलग उम्र के 20 लोगों को उठाकर गुरारू थाना ले आई। रात में ही तत्कालीन एसएसपी राजीव मिश्रा भी गुरारू पहुंच गए। रातभर उनसे कड़ाई से पूछताछ की गई। वहीं, 14 जून को मगध क्षेत्र के तत्कालीन डीआइजी विनय कुमार भी थाना पहुंचे और हिरासत में लिए गए लोगों से पूछताछ की। हिरासत में लिए गए लोगों की पहचान पीडि़ता से कराई गई। अपराधियों से मिलते-जुलते शक्ल वाले सोंनडीहा गांव के दो युवकों पर पीडि़ता ने घटना में शामिल रहने की आशंका व्यक्त कर दी। 

मोबाइल लोकेशन से दोषियों तक पहुंची पुलिस

पुलिस ने घटना के वक्त दोषियों के माबाइल लोकेशन प्राप्‍त किए। मोबाइल लोकेशन के आधार पर अपराधियों की पुख्ता जानकारी हासिल कर ली। पुलिस ने परैया थाना क्षेत्र के कमलदह गांव से करीब 50 लोगों को उठा लिया। इसमें से तीन अपराधी पुलिस के हत्थे चढ़ गए।

घटनाक्रम एक नजर में

  • 15 जून 2018: भाकपा माले ने सबसे पहले गुरारू बंद की घोषणा की। तब जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय संरक्षक पप्पू यादव गुरारू पहुंच पीडि़त परिवार से मिले। रालोसपा के तत्कालीन नेता राघवेंद्र नारायण यादव व अन्‍य नेताओं का लगा तांता। भाकपा माले ने घटना के विरोध में गुरारू बाजार में प्रतिरोध मार्च निकाला। 
  • 16 जून 2018: जाप की गुरारू प्रखंड इकाई ने गुरारू बाजार को बंद कराया। 

    17 जून 2018: जदयू, कांग्रेस आम आदमी पार्टी की जिलास्तरीय टीम पहुंची। पीडि़त परिवार से मुलाकात की

  • 18 जून 2018: रालोसपा के तत्कालीन प्रदेश महासचिव मीना कुशवाहा ने घटना को लेकर बयान जारी किया।
  • 19 जून 2018: औरंगाबाद के सांसद सुशील कुमार सिंह पीडि़ता से मिलने पहुंचे।
  • 22 जून 2018: राष्ट्रीय महिला आयोग की तत्कालीन सदस्य सुषमा साहू ने घटनास्थल का दौरा किया। उसके बाद पीडि़त परिवार से मिली। अपराधियों की गिरफ्तारी और पीडि़त परिवार की मुआवजा को लेकर कई निर्देश दिए।

देश में लगातार तीसरे दिन कोविड-19 के 4 लाख से अधिक नए केस

देश में लगातार तीसरे दिन कोविड-19 के 4 लाख से अधिक नए केस

हिंदुस्तान में कोविड-19 वायरस ( Covid-19 in India) से दशा बेकार होते जा रहे हैं और नए मामलों में तेजी से वृद्धि होने के साथ ही मृत्यु के आंकड़ों में भी उछाल देखने को मिल रहा है  भारत में लगातार तीसरे दिन कोविड-19 के 4 लाख से अधिक नए केस सामने आए हैं वहीं बीते 24 घंटे में देश में एक दिन में रिकॉर्ड करीब 4200 कोविड-19 मरीजों की जान गई है जो अभी तक एक दिन में होने वाली सबसे अधिक मौतें हैं  

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटे में हिंदुस्तान में 4,01,078  नए कोविड-19 मुद्दे सामने आए हैं जबकि इस दौरान 4,187 लोगों की जान गई इसके बाद हिंदुस्तान में कोविड-19 संक्रमितों की कुल संख्या 2 करोड़,18 लाख, 92 हजार, 676 हो गई है, जबकि देश में सक्रिय केस अभी करीब 37,23,446 हैं इसी दौरान 3,18,609 लोग कोविड-19 को हराकर स्वस्थ हुए

7 मई शुक्रवार को 4,12,000 से अधिक कोविड-19 वायरस के नए मुद्दे दर्ज किए गए है तब MoHFW के अनुसार, शुक्रवार को देश में 4,14,188 मुद्दे और 3,915 मौतें दर्ज हुईं थीं वहीं 6 मई को हिंदुस्तान में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 वायरस के रिकॉर्ड 4,12,262 नए मुद्दे सामने आए थे जबकि संक्रमण से 3980 लोगों की मृत्यु हो गई

1 मई को  4,02,351 मुद्दे दर्ज किए जाने के बाद ये पहला केस है जब लगातार तीन दिन नए मरीजों का आंकड़ा 4 लाख के पार गया है वहीं राजधानी दिल्ली की बात करें तो यहां बीते 24 घंटे में कोविड-19 संक्रमण के 19832 नए मुद्दे सामने आए हैं, जबकि 341 लोगों की मृत्यु हुई है एक दिन में राजधानी में 19085 मरीज ठीक भी हुए हैं

6 मई की प्रातः काल जारी हुए आंकड़ों के अनुसार 3,980 लोगों की मृत्यु हुई थी वहीं 7 मई को 3,915 कोविड-19 संक्रमित मरीजों की मृत्यु हुई थी  

कुल केस: 2,18,92,676
कुल ठीक:1,79,30,960
डेथ टोल : 2,38,270   
सक्रिय केस: 37,23,446

इसी तरह देश में कुल 16,73,46,544 लोगों को वैक्सीन लग चुकी है देश में Covid-19 के मरीजों की संख्या पिछले वर्ष सात अगस्त को 20 लाख को पार कर गई थी वहीं Covid-19 मरीजों की संख्या 23 अगस्त को 30 लाख, पांच सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख के आंकड़े को पार कर गई थी

इसके बाद 28 सितंबर को Covid-19 के मुद्दे 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवंबर को 90 लाख, 19 दिसंबर को एक करोड़ के पार हो गए थे हिंदुस्तान ने चार मई को गंभीर स्थिति में पहुंचते हुए दो करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया था

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के अनुसार सात मई तक 30,04,10,043 नमूनों की जाँच की गई है जिनमें से 18,08,344 नमूनों की शुक्रवार को जाँच की गई


कोविड-19 का कहर : मैं बचूंगा या नहीं घर गिरवी न रखना पापा, और उसने दुनिया को अलविदा कह दिया       सीएम योगी ने कहा कि गोरखपुर में बनेगा 100 बेड का नया कोविड हॉस्पिटल , BRD में बढ़ेंगे 50 वेंटिलेटर बेड       ऑस्ट्रेलिया के जंगलों से आई इस भेड़ ने सोशल मीडिया पर मचा दी धूम       रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने स्पूतनिक वैक्सीन की तुलना AK-47 से की, कहा...       धरती पर आज गिरेगा चाइना का बेकाबू रॉकेट       Vladimir Putin ने रूसी कोरोना वैक्सीन को बताया दमदार, कहा...       दुनिया के सबसे बड़े Cargo Plane ने सहायता का सामान लेकर India के लिए भरी उड़ान       Imran Khan ने Indian Embassies की प्रशंसा क्या की, आग बबूला हो गए पाकिस्तानी       हिंदुस्तान से अपने देश तुरंत लौट आएं सभी लोग, अमेरिका की अपने नागरिकों से अपील       बाइसन को मारने US में निकली 12 वेकेंसी       यूनीसेफ ने हिंदुस्तान में बढ़ रहे कोविड-19 मामलों पर जताई चिंता, कहा...       व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि रूस की कोविड-19 वैक्सीन AK-47 जितनी भरोसेमंद       Africa में मिली इतने हजार वर्ष पुरानी कब्र, खुलेंगे कई अहम राज       भारतीय टीम में सिलेक्शन से दंग यह क्रिकेटर, बोले...       पूर्व भारतीय हॉकी कोच एमके कौशिक का मृत्यु       कोविड-19 बना काल: नहीं रहे BCCI के आधिकारिक स्कोरर केके तिवारी       कोविड-19 के विरूद्ध जंग में विराट के बाद ऋषभ पंत भी कूदे       इंग्लैंड जाने से पहले हिंदुस्तान में ही 8 दिन क्वारंटीन रहेगी टीम इंडिया       दिल जीत लेगी इस क्रिकेटर की दलील, बोले...       इंग्लैंड दौरे पर टीम इंडिया में हार्दिक पांड्या को क्यों नहीं मिली जगह