किसानों के खाते में पैसा डालने को तैयार सरकार

किसानों के खाते में पैसा डालने को तैयार सरकार

कृषि सुधारों को आगे बढ़ाते हुए केंद्र सरकार ने पंजाब-हरियाणा सरकारों से कहा है कि किसानों को फसल खरीद का पैसा सीधे खाते में भेजें। देखने में आकर्षक इस पहल का निहितार्थ क्या है। केंद्र सरकार पंजाब और हरियाणा में किसानों को फसल खरीद का पैसा सीधे खाते में क्यों दिलवाना चाहती है ये एक बड़ा सवाल है। क्योंकि ये पहल दोनो राज्यों के आंदोलन कर रहे किसानों की मांगों से मेल नहीं खाती है। क्या किसानों का विरोध दरकिनार कर सरकार अपने एजेंडे पर एक कदम आगे बढ़ गई है।

सीधे किसान के खाते में पैसे का भुगतान
इसके लिए हमें सरकार के इस फैसले को समझना होगा। अभी तक की व्यवस्था के मुताबिक मंडी व्यवस्था में आढ़ती उपज खरीद कर किसान को एमएसपी का भुगतान करता है। लेकिन अब सरकार मंडी और आढ़ती को दरकिनार कर सीधे किसान के खाते में पैसे का भुगतान कर रही है। सरकार का कहना है कि ई मोड से भुगतान करने पर व्यवस्था में पारदर्शिता आएगी और इससे सबका लाभ होगा।

पीएम किसान योजना का क्रियान्वयन
मंडी और आढ़तियों का क्या होगा। इस पर सरकार का कहना है कि यह मौजूदा मंडी व्यवस्था के स्थान पर नहीं की जा रही है और मंडी व्यवस्था पहले की तरह चालू रहेगी। चूंकि सरकार किसानों को जाम (जनधन, आधार और मोबाइल) की ट्रिनिटी से सीधा लाभ देने के लिए प्रतिबद्ध है। इसलिए इस तरह से पीएम किसान योजना का क्रियान्वयन किया जा रहा है कि किसानों को सीधे उनके खाते में पैसा मिल जाए। लेकिन इसमें एक दिक्कत है कि किसान खेत बटाई पर लेकर खेती करते हैं उनका हित कैसे सुरक्षित होगा इसका इसमें कोई उल्लेख नहीं है। सरकार कह रही है कि मंडी व्यवस्था भी जारी रहेगी लेकिन कब तक यह स्पष्ट नहीं है।

भाजपा नेताओं को शादियों में इनवाइट नहीं करें
ऐसा लगता है कि किसान आंदोलनकारी भी इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। भाजपा की जनसंपर्क रणनीति की हवा निकालते हुए इस पर पहरा बैठा दिया है। हालत यह है कि पुलिस सपोर्ट लिये बगैर भाजपा नेता क्षेत्र में जनसंपर्क के लिए निकलने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। उधर भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने गत दिनों सिसौली में हुई महापंचायत में पहले ही यह कह दिया है कि भाजपा नेताओं को शादियों और दूसरे कार्यक्रमों में इनवाइट नहीं करें। अगर कोई ऐसा करता है तो उसे अगले दिन भारतीय किसान यूनियन के 100 कार्यकर्ताओं को खाना खिलाना पड़ेगा। इसे चाहें तो आदेश समझ लें या सलाह।

नरेश टिकैत ने तो यहां तक कह दिया कि भाजपा नेता अगर जनसंपर्क पर निकलते हैं और बेइज्जत होते हैं तो हमें दोष न दें। बेहतर है अपने घर में ही बैठें।

किसान 70 सालों से नुकसान झेल रहे
उधर भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने भी शुक्रवार को कह दिया है कि किसान 70 सालों से नुकसान झेल रहे हैं। वे एक और फसल के नुकसान के लिए तैयार हैं। अगर उन्हें फसल काटने के लिए ज्यादा वर्कर की मदद की जरूरत पड़ी तो भी तैयार हैं। वे फसल को घरों पर रख लेंगे लेकिन, आंदोलन को कमजोर नहीं होने देंगे। इन हालात में केंद्र सरकार का किसानों के खाते में पैसा डालने का फैसला क्या रंग लाएगा ये वक्त बताएगा।


बारिश होगी फिर से, 5 मार्च से गिरेगा झमाझम पानी

बारिश होगी फिर से, 5 मार्च से गिरेगा झमाझम पानी

मौसम विभाग ने पहाड़ी इलाकों पर एक बार फिर बारिश होने का अलर्ट जारी किया है। वैसे तो रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस साल काफी गर्मी पड़ने वाली है और कई राज्यों में अभी से तापमान गर्मं है लेकिन पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र में उभर रहे एक नए पश्चिमी विक्षोभ की वजह से 5 मार्च यानी शुक्रवार से बर्फबारी और बारिश के आसार हैं। इसके अलावा उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में भी बादल छायें रहने और झमाझम बारिश होने की चेतावनी जारी की गयी है।

5 मार्च से इन इलाकों में बारिश का अलर्ट
दरअसल, बदलते मौसम के बीच आईएमडी ने 5 मार्च से बारिश का पूर्वानुमान बताया है। इसके तहत कल से बारिश और बर्फबारी होने के आसार है। पहाड़ी इलाकों में मौसम का ये रूप देखने को मिलेगा। बताया जा रहा है कि पश्चिमी विक्षोभ की वजह से जम्मू, कश्मीर, लद्दाख, गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड पांच और छह मार्च को बारिश और बर्फबारी हो सकती है।

7 मार्च को हरियाणा, चंडीगढ़ समेत दिल्ली-यूपी में बरसात
मौसम विभाग ने बताया है कि 6-7 मार्च को पंजाब में हल्की बारिश हो सकती है। इसके अलावा 7 मार्च को हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गरज के साथ हल्की बारिश हो सकती है व ओले पड़ सकते हैं जबकि सात मार्च को हरियाणा, चंडीगढ़ और पश्चिम उत्तर प्रदेश में बिजली चमकने और आंधी का अनुमान जताया है।

मौसम विभाग के मुताबिक, अगले 24 घंटों के दौरान हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, चंडीगढ़ और उत्तर प्रदेश के कई इलाकों मे तेज हवाएं चलने की संभावना है। मौसम विभाग के मुतबाकि, 48 घंटों के दौरान जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और पूर्वोत्तर के कई इलाकों में गरज के साथ बारिश हो सकती है और बर्फबारी हो सकती है। 7 मार्च को सबसे खराब मौसम रहेगा और जम्मू कश्मीर से लेकर उत्तराखंड तक हल्की से मध्यम बारिश और बर्फबारी हो सकती है।

इन राज्यों में बारिश
मौसम विभाग ने संभावना जताई है कि कई राज्यों बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के मुताबिक, हिमाचल, उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय और असम में बारिश और बर्फबारी हो सकती है। उत्तराखंड मौसम विभाग ने बताया है कि चमोली, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी और पिथौरागढ़ में अगले 4 दिनों तक हल्की बारिश और बर्फबारी हो सकती है। छह मार्च को राज्य में आकाशीय बिजली के गिरने और ओलावृष्टि की संभावना जताई है।


कच्चे ऑयल के दम पर की 2021 में जमकर कमाई       e-Vehicle: केजरीवाल सरकार का चार्जिंग स्टेशन बढ़ाने पर जोर       Atom 1.0 बाइक से केवल 7 रुपये में करें 100 किलोमीटर का सफर       गर्म पानी पीने से हो सकता है स्वास्थ्य को ये नुकसान!       नींद नहीं आती है रातों में? अपनाएं ये उपाय       उरी बेस कैंप पहुंचे Vicky Kaushal, इंडियन आर्मी संग फोटोज़ शेयर कर बोले...       ये प्यारी सी 'डिमांड' भी कर दी, Sonu Sood ने बिहार की बहन के लिए दिखाई दरियादिली       इस मंदिर में चढ़ाया जाता है इंसान के निजी अंग का डमी मॉडल, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान       सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से आठ कंपनियों का बाजार कैपिटलाइजेशन 1.94 लाख करोड़ रुपये बढ़ा       करोड़ों में लगी Twitter के CEO के पहले ट्वीट की बोली...       इस दिन लगेगा खरमास, जानें इस दौरान क्या करें       बस इन नियमों का करना होगा पालन, सूर्य देव को अर्घ्य देने से बन जाते हैं कैसे भी बिगड़े काम       RSWS 2021: इंग्लैंड ने बांग्लादेश लीजेंड्स को हराया, केविन पीटरसन की धुआंधार बैटिंग       खिताबी सिक्सर लगाने उतरेगी रोहित की मुंबई, RCB से खेलेगी पहला मैच       44 लेयर में भरी जाएगी राम मंदिर की 15 मीटर गहरी नींव, पारंपरिक शैली में होगा निर्माण       दुनियाभर में फैली दहशत, कोरोना महामारी पर WHO ने दी चेतावनी       आर्मी तक पहुंची वैक्सीन, रिटायर्ड सैन्य कर्मियों का टीकाकरण       गौतम बुद्ध के ये अनमोल वचन बदल देंगे आपकी जिंदगी       कब से शुरू हो रहा है खरमास, नहीं कर पाएंगे कोई शुभ कार्य       मार्च में है महाशिवरात्रि, होली, विजया एकादशी जैसे महत्वपूर्ण व्रत एवं त्योहार