कस्तूरबा गांधी: सफलता के पीछे रहा अहम योगदान, बापू का हर कदम पर दिया साथ

कस्तूरबा गांधी: सफलता के पीछे रहा अहम योगदान, बापू का हर कदम पर दिया साथ

एक सफल पुरुष के पीछे एक महिला का हाथ होता है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पीछे भी एक ऐसी ही महिला थीं। हम बात कर रहे हैं उनकी पत्नी कस्तूरबा गांधी की। जिन्होंने मरते दम तक गांधी का साथ दिया। चाहे जेल की यातनाएं सहना हो, गिरफ्तारी देनी हो या महिलाओं को आंदोलनों में साथ लाना हो, कस्तूरबा गांधी ने उनका हमेशा साथ दिया।

आज कस्तूरबा गांधी की पुण्यतिथि है। 22 फरवरी 1944 को उन्होंने अपना सत्याग्रह आंदोलन जारी रखते हुए देश को अलविदा कह दिया।

जानिए कस्तूरबा गांधी के बारे में
कस्तूरबा गांधी की बात की जाए तो उनका जन्म 11 अप्रैल 1869 को गुजरात के काठियावाड़ के पोरबंदर में हुआ था। कस्तूरबा, महात्मा गांधी से उम्र में छह महीने बड़ी थीं। उनके पिता गोकुलदास मकनजी साधारण स्थिति के व्यापारी थे। एक छोटी सी उम्र में ही उनका महात्मा गांधी से रिश्ता जुड़ गया। करीब सात साल की उम्र में महात्मा गांधी के साथ उनकी सगाई हो गई और 13 साल में दोनों का विवाह हो गया।


कदम-कदम पर दिया बापू का साथ
महज 13 साल की उम्र में ही शादी होने के बाद केवल 3 साल तक बापू के साथ रहीं। उन्हें गृहस्थ जीवन का सुख कम ही मिला। 1888 में गांधीजी इंग्लैंड चले गए। फिर वहां से कुछ दिन बाद आए तो अफ्रीका चले गए। इस तरह से 12 साल बाद जब गांधी जी देश वापस आए तो उनकी अहिंसा वाली लड़ाइयों में बा (कस्तूरबा गांधी) भी साथ हो लीं। बापू कोई भी उपवास रखते तो बा भी रखतीं। बापू जेल जाते तो बा भी जेल जातीं।

1932 में जब यरवदा जेल में बापू ने हरिजनों को लेकर उपवास शुरू कर दिया तो साबरमती जेल में बंद बा व्याकुल हो गईं। तब उन्हें भी यरवदा जेल भेजा गया। वहीं, दक्षिण अफ्रीका में 1913 में एक ऐसा कानून पास हुआ। इन कानून के तहत जिन विवाहों का पंजीकरण नहीं होगा वह अवैध माने जाएंगे। इस पर गांधी जी ने सत्याग्रह शुरू कर दिया। उन्होंने महिलाओं का आवाह्न किया।

इस सत्याग्रह के बाद अधिकारियों को उनकी बात माननी ही पड़ी। कस्तूरबा गांधी ने महात्मा गांधी के साथ कदम से कदम मिलाकर साथ दिया। वहीं, 1942 में जब बापू गिरफ्तार कर लिए गए तो महाराष्ट्र की शिवाजी पार्क में, जहां बापू भाषण दिया करते थे वहां कस्तूरबा ने भी भाषण देने प्रण किया।

ऐसे हुई कस्तूरबा गांधी की मौत
उनके शिवाजी पार्क पर पहुंचते ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। वह पहले से ही अस्वस्थ चल रही थीं। 2 दिन बाद उन्हें पुणे के आगा खां महल भेज दिया गया, जहां बापू पहले से कैद थे। वहां बा की तबीयत धीरे-धीरे ढलती गई और 22 फरवरी 1944 को उन्होंने देश को अलविदा कह दिया।


घातक कोरोना पर आदेश, किसी भी दिन और समय लगेगी वैक्सीन

घातक कोरोना पर आदेश, किसी भी दिन और समय लगेगी वैक्सीन

नई दिल्ली: देश में एक बार फिर कोरोना वायरस के मामले बढ़ने लगे हैं। जिसमें छह राज्यों महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, तमिलनाडु, गुजरात और कर्नाटक शामिल है। बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामले को देखते हुए सरकार ने सप्ताह के किसी भी दिन और किसी भी समय पर टीकाकरण करने को मंजूरी दे दी है। जिसके चलते अस्पतालों में कम भीड़ होगी।

पीएम मोदी ने किया ऐलान
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कहा कि अब सप्ताह के किसी भी दिन और किसी भी समय अपनी सुविधा अनुसार टीका लगवा सकते है। वही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बुधवार को बताया कि सरकार ने कोरोना वायरस से शीघ्र निपटने के मकसद से टीकाकरण की गति तेज करने के लिए कोविड-19 टीका लगवाने संबंधी समय की बाध्यता हटा दी है और अब लोग अपनी सुविधा के अनुसार सप्ताह के किसी भी दिन एवं किसी भी समय टीका लगवा सकते हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कही ये बात
हर्षवर्धन ने आगे बताया कि पीएम मोदी देश के नागरिकों के स्वास्थ्य के साथ-साथ समय की कीमत समझते हैं। मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा था कि लोगों को टीका लगवाने की सुबह नौ से शाम पांच बजे तक का समय समाप्त कर दिया गया है। उन्होंने अस्पतालों पर फैसला छोड़ दिया है कि वह इस समय सीमा के बाद भी टीका लगाना जारी रखना चाहते हैं या नहीं।

एक मार्च से 60 वर्ष वाले लोगों को टीका
एक मार्च से 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और गंभीर बीमारियों से ग्रस्त 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण शुरू हो गया। बुधवार सुबह सात बजे तक की प्रारंभिक रिपोर्ट के अनुसार, देश भर में 3,12,188 सत्रों में 1.56 करोड़ (1,56,20,749) टीकों की खुराक दी जा चुकी है।


गौतम बुद्ध के ये अनमोल वचन बदल देंगे आपकी जिंदगी       कब से शुरू हो रहा है खरमास, नहीं कर पाएंगे कोई शुभ कार्य       मार्च में है महाशिवरात्रि, होली, विजया एकादशी जैसे महत्वपूर्ण व्रत एवं त्योहार       समस्याओं से आप भी हैं परेशान, तो पढ़ें भगवान ​बुद्ध से जुड़ी यह प्रेरक कथा       महाशिवरात्रि के दिन करें ये उपाय, शिव जी प्रसन्न होकर कष्टों से देते हैं मुक्ति       पुरुषों की फर्टिलिटी बेहतर कर सकती है आपके किचन में मौजूद ये एक चीज़!       इन मरीजों को हेल्दी रहने के लिए रोजाना खाने चाहिए काले अंगूर       काम करने पर जल्दी थकान होती है तो स्टैमिना बढ़ाएं       बेहतरीन माउथ फ्रेशनर होने के साथ सेहत का भी रखती हैं ख्याल इलायची       क्या वज़न घटाने के लिए रात का खाना छोड़ना सही है, जानें       बारिश होगी फिर से, 5 मार्च से गिरेगा झमाझम पानी       घातक कोरोना पर आदेश, किसी भी दिन और समय लगेगी वैक्सीन       नई संसद में सुरंग, रास्ता जाएगा पीएम आवास तक       Vaccination 2.0: केजरीवाल-मनोज सिन्हा को लगी वैक्सीन       अलवर में मिला संदिग्ध कबूतर, सुरक्षा एजेंसियां हुईं अलर्ट       नेहा कक्कड़-गुरु रंधावा के इस गाने ने मचाया धमाल, एक ही हफ्ते में देखा इतने करोड़ लोगों ने       Holi 2021 से पहले खेसारी लाल यादव के इस गाने ने मचाया धमाल       जाह्नवी कपूर के गाने पर सोना मोहापात्रा का फूटा गुस्सा       प्राइवेट जेट में सवार होने से पहले दिखा यह अंदाज़, Bhediya की शूटिंग से पहले 'भेड़िया' बने वरुण धवन       Katrina Kaif ने सिद्धांत चतुर्वेदी और ईशान खट्टर के साथ यूं की मस्ती